Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > वाराणसी > वाराणसी: ट्रामा सेण्टर में 140 व कैंसर अस्पताल में 100 बेड से ऊपर की होगी क्षमता

वाराणसी: ट्रामा सेण्टर में 140 व कैंसर अस्पताल में 100 बेड से ऊपर की होगी क्षमता

अब ट्रामा सेण्टर में 140 बेड के ऊपर का कोविद अस्पताल चलेगा। इसमें से 60 बेड का तो शुरू हो ही गया है। कैंसर अस्पताल में भी हाल 60 बेड पर कोविद मरीज भर्ती है। वह शीघ्र ही 100 बेड से ऊपर की छमता पर पहुँच जायेगा। दोनों अस्पतालों की बढ़ी हुई कोविद छमता के लिए विशेष जरूरतें पूरी करने का भी निर्णय लिया गया।

वाराणसी: ट्रामा सेण्टर में 140 व कैंसर अस्पताल में 100 बेड से ऊपर की होगी क्षमता
X

वाराणसी: काशी कोविड रिस्पोंन्स सेन्टर के तत्वाधान में एमएलसी एके शर्मा, कमिश्नर दीपक अग्रवाल, पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की टीम द्वारा सभी डॉक्टरों, स्वास्थ्य कर्मियों एवं जनता के सहयोग से सुचारू रूप से कोविड नियंत्रण की कार्यवाही चल रही है।

गुरुवार को एके शर्मा एवं उच्च अधिकारिओं ने बीएचयू के ट्रामा सेण्टर एवं लहरतारा के होमी भाभा कैंसर अस्पताल में डॉक्टरों से मुलाकात किया। दोनों अस्पतालों और सर सुंदरलाल अस्पताल के डॉक्टरों से बात-चीत के फलस्वरूप निर्णय हुआ कि ऑक्सीजन की देशव्यापी एवं राज्य व्यापी स्थिति को ध्यान में रखते हुए इन दो अस्पतालों में कोविड बेड की संख्या बढ़ाने के लिए विशेष प्रयास किये जायेंगे। क्योंकि ये दोनों अस्पताल ऑक्सीजन की व्यवस्था से काफी हद तक सुसज्जित हैं।

यह निर्णय हुआ कि बीएचयू ट्रामा सेन्टर में तीन दिन पहले जो 94 बेड बढाने का निर्णय हुआ था उसमें 50 कोविड बेड और बढाए जायेंगे अर्थात अब ट्रामा सेण्टर में 140 बेड के ऊपर का कोविड अस्पताल चलेगा। इसमें से 60 बेड का तो शुरू हो ही गया है।

कैंसर अस्पताल में भी हाल 60 बेड पर कोविड मरीज भर्ती है। वह शीघ्र ही 100 बेड से ऊपर की क्षमता पर पहुँच जायेगा। दोनों अस्पतालों की बढ़ी हुई कोविड क्षमता के लिए विशेष जरूरतें पूरी करने का भी निर्णय लिया गया।

डॉक्टरों की टीमों ने जन सामान्य को यह बताया है कि ऑक्सीजन लेने की अपनी भारतीय पद्धतियों सहित कुछ परम्पराएं बहुत कारगर है जैसे: पेट के बल सोना, मरीज के कमरे को प्राकृतिक हवा के लिए थोड़ा खुला रखना, प्राणायाम करना, स्वांस नली साफ़ रखने के लिए भाप लेना वगैरह। यह भी बताया गया कि प्राथमिक घरेलु उपचार एवं दवा सहित शुरुआती इलाज अच्छे से कर लेने से बाद में पड़ने वाली तकलीफ कम की जा सकती है।

डॉक्टरों की टीम ने यह भी बताया कि बहुत से मरीज ठीक होकर अब घर जा रहे हैं। जन सामान्य के लिए यह भी सन्देश दिया कि ठीक हो जाने पर घर चले ही जाना चाहिए। जिससे दूसरों के लिए बेड खाली हो सके। काशी कोविड रिस्पोंन्स सेन्टर ने बताया है कि केसीआरसी से एक ही साथ 20 लोग फ़ोन करके बात कर सकते हैं। कोविड के प्रथम संपर्क के रूप में लोग इस सुविधा का लाभ उठावें।

केसीआरसी ने यह भी बताया है कि प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर कुछ धार्मिक एवं स्वैच्छिक संस्थाओं ने मरीजों एवं उनके परिजनों के लिए शहर के कुछ अस्पतालों में मुफ्त भोजन की व्यवस्था शुरू किया है। जिसका लाभ उठाया जा सकता है। मास्क, सामाजिक दूरी एवं टीकाकरण सहित स्व-बचाव के प्रति जागरूक रहने को कहा।

Updated : 22 April 2021 6:27 PM GMT
Tags:    

Swadesh Lucknow

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top