Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > अन्य > मनोज सिन्हा ने इंटरसिटी एक्सप्रेस को दिखाई हरी झंडी

मनोज सिन्हा ने इंटरसिटी एक्सप्रेस को दिखाई हरी झंडी

मनोज सिन्हा ने इंटरसिटी एक्सप्रेस को दिखाई हरी झंडी
X

मऊ। रेल राज्य मंत्री एवं संचार राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार मनोज सिन्हा ने मंगलवार को स्थानीय मऊ स्टेशन पर आयोजित एक समारोह में 15071, 15072 मऊ वाया लखनऊ द्वि साप्ताहिक इंटरसिटी एक्सप्रेस का शुभारम्भ एवं पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मण्डल के 60 स्टेशनों पर स्थापित वाई-फाई सुविधा का लोकार्पण किया। उन्होंने मऊ-लखनऊ द्वि-साप्ताहिक एक्सप्रेस का शुभारम्भ विशेष गाड़ी संख्या-05071 को हरी झण्डी दिखाकर किया।

समारोह को सम्बोधित करते हुये श्री सिन्हा ने कहा कि मऊ एवं आसपास की जनता की लखनऊ हेतु एक और यात्रा सुविधा की मांग को ध्यान में रखकर मऊ-लखनऊ के बीच आज से द्वि-साप्ताहिक एक्सप्रेस ट्रेन सेवा का शुभारम्भ किया जा रहा है, जिससे मऊ और मार्गवर्ती क्षेत्रों के यात्रियों को प्रदेश की राजधानी लखनऊ आने-जाने में सहूलियत होगी।

सिन्हा ने कहा कि आज के सूचना तकनीक के युग में देश को आगे बढ़ाने के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के उद्देश्यों की पूर्ति में भारतीय रेल अहम भूमिका निभा रही है। पूर्वोत्तर रेलवे सहित देश के अनेक स्टेशनों पर निःशुल्क इंटरनेट सुविधा उपलब्ध कराई जा चुकी है। इस अभियान को विस्तार देते हुये वाराणसी मण्डल के 60 प्रमुख स्टेशनों पर हाल ही में उपलब्ध कराई गई निःशुल्क फ्री वाई-फाई सुविधा का लोकार्पण भी आज किया जा रहा है। इससे इन 60 स्टेशनों पर आने वाले यात्रियों को निःशुल्क इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध हो गई है।

उन्होंने कहा कि भारतीय रेलों पर आने वाली चुनौतियों का सफलतापूर्वक सामना करने के लिये इसके आधारभूत ढांचे को मजबूत करने के लिये अनेक दूरगामी प्रभाव वाले प्रयास किये जा रहे हैं। पूरे देश में रेल लाइनों के आमान परिवर्तन, दोहरीकरण, विद्युतीकरण, नईलाइन एवं स्टेशनों के आधुनिकीकरण तथा यात्री सुविधाओं में विकास के कार्यों को प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है। इसी क्रम में प्रशिक्षण संस्थानों एवं कारखानों के निर्माण एवं उन्नयन का कार्य भी तत्परता से पूरा किया जा रहा है।

श्री सिन्हा ने कहा कि पूर्वोत्तर रेलवे के लगभग सभी छोटी लाइन खण्डों का आमान परिवर्तन बड़ी लाइन में हो चुका है और जो खण्ड बचे हैं, उनका आमान परिवर्तन कार्य स्वीकृत किया जा चुका है। निकट भविष्य में पूर्वोत्तर रेलवे पूर्णतः बड़ी लाइन का होगा।

श्री सिन्हा ने कहा कि पूर्वोत्तर रेलवे के बाराबंकी-छपरा व औड़िहार-वाराणसी सिटी रेल खण्डों का दोहरीकरण कार्य पूरा कर लिया गया है। छपरा-इलाहाबाद, भटनी-औंड़िहार, औंड़िहार-जौनपुर, इन्दारा-फेफना, मऊ-शाहगंज रेल खण्डों का दोहरीकरण एवं विद्युतीकरण का कार्य तीव्र गति से चल रहा है। इसी के साथ बुढ़वल-गोण्डा, डोमिनगढ़-गोरखपुर-कुसुम्ही तीसरी रनिंग लाइन तथा गोरखपुर-नकहा दूसरी रनिंग लाइन का निर्माण कार्य भी प्रगति पर है। महाराजगंज-मसरख नई लाइन का निर्माण पूरा हो चुका है। ताड़ीघाट-गाज़ीपुर-मऊ नई रेल लाइन का निर्माण कार्य भी तेजी से हो रहा है। उन्होंने कहा कि भारतीय रेल पर रेलपथ के विद्युतीकरण का कार्य भी प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है। पूर्वोत्तर रेलवे पर रेल खण्डों के विद्युतीकरण का कार्य बड़ी तेजी से किया जा रहा है और सम्पूर्ण रेल खण्ड को यथा शीघ्र विद्युतीकृत किये जाने की योजना को स्वीकृति प्रदान की गयी है। गोरखपुर-कप्तानगंज एवं कप्तानगंज-पनियहवा खण्ड का विद्युतीकरण हाल ही में पूरा किया जा चुका है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 14 जुलाई, 2018 को वाराणसी-गाज़ीपुर सिटी-बलिया रेल खण्ड के विद्युतीकरण परियोजना का लोकार्पण किया गया तथा उनके द्वारा वाराणसी-गाज़ीपुर सिटी-बलिया खण्ड पर विद्युत कर्षण से चलने वाली टेमू ट्रेन का शुभारम्भ भी किया गया। श्री सिन्हा ने कहा कि विगत चार वर्षों में 410 किमी. नई रेल लाइन का निर्माण, 576 किमी. रेल पथ का दोहरीकरण तथा 2156 किमी. रेल खण्ड का विद्युतीकरण किया गया है। इस दौरान 92 आर.ओ. बी. एवं 400 आ.यू.बी. का निर्माण भी किया गया है। इसके साथ ही यात्रियों को बेहतर परिवहन सुविधा उपलब्ध कराने की प्रतिबद्धता के क्रम में 157 नई गाड़ियों के संचलन के साथ ही बायो ट्वायलेट, सौर ऊर्जा संयंत्र, वाई-फाई , वाॅटर वेण्डिंग मशीन, एस्कैलेटर एवं लिफ्ट आदि की स्थापना का कार्य में तेजी आई है।

Updated : 2018-08-14T21:06:35+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top