Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > अन्य > बुढ़वा मंगल : हनुमान मंदिरों में लगा भक्तों का तांता, गूंज रहे जयकारे

बुढ़वा मंगल : हनुमान मंदिरों में लगा भक्तों का तांता, गूंज रहे जयकारे

-प्राचीन हुनमान मंदिर में बनारस से आई सोने की वर्क से श्रृंगार कर हुई पूजा आरती

बुढ़वा मंगल : हनुमान मंदिरों में लगा भक्तों का तांता, गूंज रहे जयकारे
X

कानपुर/स्वदेश वेब डेस्क। उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद में हनुमान जयंती (बुढ़वा मंगल) के अवसर पर सभी हनुमान मंदिरों में भक्तों को तांता लगने लगा। प्राचीन पनकी हनुमान मंदिर में तो देर रात से ही दूर-दराज से भक्तों की भीड़ आने लगे। भोर के समय विधि-विधान से मंहतों ने पूजा अर्चना व बनारस से बनकर आई सोने की वर्क से श्रृंगार कर भक्तों के दर्शन के लिए मंदिर पट खोल दिये गये।

बुढ़वा मंगल के चलते मंगलवार को जिलेभर में राम भक्त हनुमान भगवान के मंदिरों में पूजा अर्चना को दौर शुरू हो गया। भक्तों की भीड़ हनुमान मंदिरों में भोर के समय ही पहुंचने लगी। देखते ही देखते कुछ मिनटों में मंदिरों परिसर भक्तों की भीड़ से भर गये और भगवान हनुमान जी की पूजा आरती कर प्रार्थना व आर्शीवाद का सिलसिला शुरू हो गया। जनपद के प्रमुख हनुमान मंदिरों में शुमार जीटी रोड स्थित दक्षिणेश्वर हनुमान मंदिर में सुबह पुजारियों ने भगवान का चोला श्रृंगार व लड्डुओं का भोग लगाया। इसके बाद भक्तों के दर्शन के लिए मंदिर पट खोल दिये गया। भक्तों की भीड़ को देखते हुए बैरीकेटिंग की व्यवस्था मंदिर प्रबंधन द्वारा की गई थी। जिससे होते भक्तगण मंदिर परिसर के अंदर प्रवेश कर भगवान दर्शन कर सके। इसी तरह से पीरोड स्थित बनखण्डेश्वर मंदिर में भक्तों ने भगवान हनुमान जी की पूजा आरती कर आशीष लिया। किदवई नगर स्थित सोटे वाले हनुमान मंदिर सहित जनपद के सभी राम भक्त हनुमान मंदिरों का हाल ऐसा ही था। जीटी रोड पैराशूट फैक्ट्री के पास स्थित हनुमान मंदिर में भी बुढ़वा मंगल पर पूजा, नृत्य नाटिका, झांकियों के साथ भण्डारे का आयोजन हुआ। चुन्नीगंज स्थित हनुमान मंदिर, परमट स्थित हनुमान मंदिर, जवाहर नगर स्थित बाला जी हनुमान मंदिर, महाराजपुर क्षेत्र में गंगा किनारे स्थित प्रसिद्ध ड्योढ़ी घाट हनुमान मंदिर में भी भक्त हनुमान जी के दर्शन करने भारी संख्या में पहुंचने लगे थे। सभी मंदिरों में भगवान हनुमान जी के जयकारों से मंदिर गुंजायमान रहें और दर्शन-पूजन का दौर जारी है। जनपद में मंदिरों के अलावा जगह-जगह भक्तों द्वारा भंडारा व प्रसाद वितरण कराया जा रहा है।

बनारस से आई सोने की वर्क चढ़ाकर हुआ श्रृंगार

पनकी स्थित प्राचीन हनुमान मंदिर में तो देर रात से ही भक्तों की भीड़ पहुंचने लगी थी। मुख्य द्वार से लेकर मंदिर परिसर में प्रवेश के सभी द्वारों पर बैरीकेटिंग के व सुरक्षा की दृष्टि से मैटल डिटेक्टर से होकर भक्तों को प्रवेश कराया गया। भोर के समय मंदिर के महंतों ने भगवान हनुमान का भव्य श्रृंगार किया। इस बार श्रृंगार में पहली बार बनारस से खास सोने की वर्क लगाकर भगवान को पीले सिंदूर का चोला चढ़ाया गया। विधि-विधान से पूजा के साथ पुआ, मेवा व कई प्रकार की मिठाईयों के साथ तुलसी का भोग लगाते हुए भगवान की पूजा आरती की गई। महंत जितेन्द्र दास और कृष्णदास की पूजा के बाद मंदिर के पट भगवान के भक्तों के दर्शन के लिए खोल दिये गये।

पनकी स्टेशन पर रूकेगी एक्सप्रेस ट्रेनें

प्राचीन हनुमान मंदिर में दर्शन के लिए आने वाले दूर-दराज के भक्तों के लिए रेलवे द्वारा सभी गाड़ियों को ठहराव दिया गया है। इसके साथ ही कई गाड़ियों को मंगलवार बुढ़वा मंगल के चलते रद्द कर यात्रियों को होने वाली अनहोनी से बचाने का प्रयास किया गया है। दर्शन के लिए कई जनपदों से आने वाले भक्तों के लिए स्पेशल बसें व ट्रेनें भी चलाई जा रही है। ताकि पनकी पहुंचकर भक्तगण हनुमान जी का दर्शन लाभ कर आशीष ले सकें। रोडवेज व सिटी बसों ने इसके लिए पूर्व में आसपास के जनपदों व ग्रामीणों क्षेत्रों में कई अतिरिक्त बसों बढ़ा दिया है।

सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त

मंदिरों में भक्तों की भीड़ को काबू करने से लेकर उनके सही तरीके से दर्शन के लिए बैरीकेटिंग से लेकर अन्य सुरक्षा व्यवस्था भी कई गई है। सभी मंदिरों में पुलिस की निगरानी में भक्तों को मंदिर परिसर में प्रवेश दिलाते हुए भगवान हनुमान जी के दर्शन कराने की व्यवस्था की गई है। पनकी हनुमान मंदिर में आने वाली लाखों की संख्या में भक्तों की भीड़ व लगने वाले मेले के चलते यहां पर खास सुरक्षा व्यवस्था की गई है। जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं। जिसकी मानीटरिंग के लिए एक कंट्रोल रूम में पुलिस कर्मी की टीम आने-जाने वालों के साथ ही संदिग्धों पर नजर बनाये हुए हैं। इसके अलावा मंदिर परिसर व आसपास वर्दी के साथ सादी वर्दी में पुलिस कर्मियों व एलआईयू की एक टीम पल-पल की जानकारी व निगरानी रख रहे हैं।

Updated : 2018-09-25T19:28:09+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top