Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > थ्री व्हीलर ऑटो यूनियन ने लखनऊ में कोविड मरीजों के लिए शुरू की निशुल्क ऑटो एम्बुलेंस सेवा

थ्री व्हीलर ऑटो यूनियन ने लखनऊ में कोविड मरीजों के लिए शुरू की निशुल्क ऑटो एम्बुलेंस सेवा

स्प्रेड स्माइल संस्था के साथ मिलकर संघ ने राजधानी में मंगलवार से पांच निशुल्क ऑटो एंबुलेंस सेवा की डालीबाग स्थित कार्यालय से शुरुआत कर दी है। इससे जरूरतमंद कोविड मरीज हाॅस्पिटल तक पहुंच सकेंगे।

थ्री व्हीलर ऑटो यूनियन ने लखनऊ में कोविड मरीजों के लिए शुरू की निशुल्क ऑटो एम्बुलेंस सेवा
X

लखनऊ। कोरोना काल में परेशान मरीजों के लिए लोग मदद का हाथ बढ़ाने लगे हैं। एंबुलेंस संचालकों की मनमानी देख लखनऊ ऑटो रिक्शा थ्री थ्री व्हीलर ऑटो यूनियन ने लखनऊ में कोविड मरीजों के लिए शुरू की निशुल्क ऑटो एम्बुलेंस सेवा संघ अब मदद को आगे आया है। स्प्रेड स्माइल संस्था के साथ मिलकर संघ ने राजधानी में मंगलवार से पांच निशुल्क ऑटो एंबुलेंस सेवा की डालीबाग स्थित कार्यालय से शुरुआत कर दी है। इससे जरूरतमंद कोविड मरीज हाॅस्पिटल तक पहुंच सकेंगे।

इस सेवा में कोरोना के मरीजों के लिए ऑक्सीजन सपोर्ट भी होगा। लेकिन मरीज या उसके तीमारदार को इसे स्वयं ही लगाना होगा। यह सेवा घर से अस्पताल तक मरीजों को मुफ्त में उपलब्ध होगी। संस्था की प्रमुख स्वाति और लाॅर्ट्स के अध्यक्ष पंकज दीक्षित ने संयुक्त रूप से बताया कि यह सुविधा शहरी क्षेत्र के मरीजों के लिए 24 घंटे उपलब्ध रहेगी। इसमें कोविड मरीज को घर से लेकर ऑक्सीजन सपोर्ट पर ऑटो से अस्पताल तक पहुंचाया जा सकेगा। वहां मरीज को छोड़कर ऑटो एंबुलेंस वापस चली जाएगी।

पीपीई किट पहन चलाएंगे चालक ऑटो एंबुलेंस :

इस ऑटो एंबुलेंस में ऑक्सीजन का सपोर्ट रहेगा। चालक माॅस्क, फेस शील्ड, ग्लब्स और सैनेटाइटर का इस्तेमाल करेंगे। मरीज को ले जाते वक्त चालक पीपीई किट पहन कर एंबुलेंस का संचालन करेंगे।ऑनलाइन डॉक्टर कंसल्टेशन की भी सुविधा इसमें देने का दावा किया गया है।

हेल्पलाइन नंबर :

राजधानी में इस सुविधा के लिए जरुरतमंद लोग इन हेल्पलाइन नंबर का प्रयोग करें। 9956899866, 7307574739 और 9415756308 मोबाइल नंबरों पर संपर्क कर ऑटो बुक होगी।की जाएगी। फिर वह मरीज के बताए पते पर पहुंचेगी, वहां से मरीज को लेने के बाद अस्पताल छोड़कर वापस हो जाएगी।

एक ऑटो एंबुलेंस पर 25 हजार रुपये का आएगा खर्च : एक ऑटो एंबुलेंस तैयार करने में तकरीबन 25 हजार रुपये का खर्चा आ रहा है। इसमें गैस सिलेंडर, रेगुलेटर, ईंधन, चालक समेत अन्य खर्च। ऑटो महासंघ के अध्यक्ष पंकज दीक्षित बताते है कि अन्य लोगों से भी सहयोग मांगा जा रहा है। अगर मदद को हाथ आगे बढ़े तो और ऑटो एंबुलेंस चलाई जाएंगी।

Updated : 2021-05-12T10:49:43+05:30
Tags:    

Swadesh Lucknow

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top