Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > अब उप्र में पेट्रोल पंपों पर भी मिलेंगे ओडीओपी उत्पाद, लखनऊ में खुले स्टॉल

अब उप्र में पेट्रोल पंपों पर भी मिलेंगे ओडीओपी उत्पाद, लखनऊ में खुले स्टॉल

अब उप्र में पेट्रोल पंपों पर भी मिलेंगे ओडीओपी उत्पाद, लखनऊ में खुले स्टॉल
X

लखनऊ। योगी सरकार की महत्वाकांक्षी योजना ओडीओपी (एक जिला, एक उत्पाद) के उत्पाद अब उत्तर प्रदेश के पेट्रोल पंपों पर भी मिलेंगे। इससे ओडीओपी योजना को नई उड़ान मिलेगी। पायलट प्रोजेक्ट के तहत सबसे पहले इंडियन ऑयल कॉरर्पोरेशन (आईओसी), लखनऊ के हुसड़िया और जियामऊ पेट्रोल पंप पर ओडीओपी के स्टॉल खोले जाएंगे। इसके बाद प्रदेश में आईओसी जिन पेट्रोल पंपों को खुद संचालित कर रही हैं वहां पर भी ओडीओपी के उत्पाद मिलेंगे।

पायलट प्रोजेक्ट के तहत पहले लखनऊ में खोले जाएंगे स्टॉल

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) विभाग के अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने बताया कि ओडीओपी को बढ़ावा देने और इससे जुड़े स्थानीय कारीगरों, शिल्पकारों, कुम्हारों, बुनकरों आदि को नया प्लेटफॉर्म देने के लिए योगी सरकार हर संभव कोशिश कर रही है। इसी को ध्यान में रखते हुए इंडियन ऑयल कॉरर्पोरेशन के अधिकारियों के साथ बैठक की गई। बैठक में निर्णय लिया गया कि प्रदेश में जिन पेट्रोल पंप को इंडियन ऑयल कॉरर्पोरेशन खुद संचालित कर रही है, वहां पर ओपीओडी उत्पाद बेचने के लिए स्टॉल लगाए जाएंगे। पहले पायलट प्रोजेक्ट के तहत लखनऊ के हुसड़िया और जियामऊ पेट्रोल पंप पर स्टॉल खोले जाएंगे।

स्टैंडर्ड साइज के होंगे स्टॉल -

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि पेट्रोल पंप पर ओपीओडी उत्पाद के स्टॉल स्टैंडर्ड साइज के होंगे, लेकिन अभी इसके साइज को लेकर इंडियन ऑयल कॉरर्पोरेशन के अधिकारियों के साथ मंथन चल रहा है। जल्द ही इस पर निर्णय लेने के बाद स्टॉल खोले जाएंगे। वर्ष 2022-23 के आम बजट में पहली बार ओएसओपी (वन स्टेशन वन प्रोडक्ट) जिक्र हुआ था। इसी की तर्ज पर पेट्रोल पंप पर ओपीओडी उत्पाद बेचने की तैयारी हो रही है। इसका उद्देश्य प्रदेश के स्थानीय उत्पाद को खास पहचान दिलाने के साथ इसे एक स्थाई बड़ा बाजार उपलब्ध कराना है। इससे पारंपरिक शिल्प और छोटे उद्यमों को बढ़ावा तो मिलेगा ही साथ में रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे।

ओडीओपी योजना के तहत संचालित योजनाएं

प्रदेश के जिलों के विशिष्ट उत्पादों के समग्र विकास के लिए योगी सरकार ने 24 जनवरी 2018 को ओडीओपी (एक जिला एक उत्पाद) नाम से यह महत्वाकांक्षी योजना शुरू की थी। योजना के तहत उत्पाद विशेष के समग्र विकास के लिए ऋण योजना, प्रशिक्षण एवं टूलकिट योजना, विपणन सहायता योजना व कामन फैसिलिटी सेंटर (सीएफसी) योजना संचालित की जा रही है। योजना के तहत दूसरे देशों के दूतावासों में भी उत्पाद की ब्रांडिंग की जा रही है।

नवनीत सहगल का कहना है कि ओपीओडी उत्पाद को खास पहचान दिलाने और इसे बड़ा बाजार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से प्रदेश के पेट्रोल पंप पर भी स्टॉल खोलने की तैयारी की जा रही है। इसको लेकर इंडियन ऑयल कॉरर्पोरेशन के अधिकारियों से बात हो चुकी है। जल्द ही लोगों को पेट्रोल पंप पर ओपीओडी के उत्पाद मिलेंगे।

Updated : 11 Aug 2022 10:33 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top