Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > आगरा > दो वर्ष में विश्वविद्यालय पुनः बन गया 'शिक्षा का मंदिर'

दो वर्ष में विश्वविद्यालय पुनः बन गया 'शिक्षा का मंदिर'

साक्षात्कार - कुलपति डाॅ. अरविंद दीक्षित के दो वर्ष के कार्यकाल में बदली तस्वीर

दो वर्ष में विश्वविद्यालय पुनः बन गया शिक्षा का मंदिर
X

-शिक्षा के साथ सामाजिक कार्यो में पहचान बना रहा डाॅ. बीआर आंबेडकर विश्वविद्यालय

आगरा/स्वदेश। रोजाना के हंगामे, कार्य में निष्क्रियता और लगातार एसआईटी की जांच से धूमिल हो रही डाॅ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय की छवि को अपनी योग्यता से पुनः स्थापित करने का सम्यक प्रयास करते हुए अपने दायित्वों का निर्वहन कर रहे विवि के कुलपति डाॅ. अरविंद दीक्षित ने विवि में अपने कार्यकाल के दो वर्ष पूर्ण कर लिए हैं।

कुलपति डाॅ. अरविंद दीक्षित ने 13 दिसंबर 2016 को विवि में कार्यभार संभाला था। आज वह अपने कार्यकाल के तीसरे वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं। इस अवसर पर स्वदेश से वार्ता में उन्होंने आगामी वर्ष में सभी लक्षित कार्यो को पूर्ण करने का संकल्प दोहराया।

अगले वर्ष जून में होगा ललित कला कुंज का लोकार्पण

उन्होंने कहा कि विवि की महत्वाकांक्षी परियोजना ललित कला कुंज परिसर का लोकार्पण 30 जून 2019 तक हो जाएगा। उन्होंने जानकारी दी कि ललित कला कुंज परिसर विवि का अत्याधुनिक नवनिर्मित परिसर एमजी रोड के करीब बाग फरजाना में होगा। इस परिसर में ललित कला, इतिहास, पर्यटन, योगा विभाग संचालित होंगे और सेमी ओलप्पिक स्तर का तरणताल सहित विभिन्न स्तरीय कार्यक्रमों की शुरूआत होगी।

जल्द मूर्त रूप लेगा दीक्षांत मंडपम

कुलपति डाॅ. अरविंद दीक्षित ने बताया कि विवि की दूसरी महत्वकांक्षी योजना दीक्षांत मंडपम एवं चाणक्य सदन निर्माण की भी है, जिस पर प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। उन्होंने दो वर्ष के कार्यकाल में अभूतपूर्व प्रगति, कीर्तिमान प्राप्त करने, समय से परीक्षा परिणाम देने, वित्तीय प्रबंधन और सामाजिक कार्यो में विवि की सहभागिता के लिए छात्रों, शिक्षकों व विवि के कर्मचारियों को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि लक्षित कार्यो को 80 प्रतिशत तक पूर्ण किया जा चुका है। शेष कार्यो को शीघ्र पूर्ण किया जाएगा।

विश्वविद्यालय मूलतः छात्रों का और छात्रों के लिए

उन्होंने उप्र सरकार व विवि के सहयोग से वृंदावन में आयोजित नारीशक्ति कुंभ के सफल आयोजन को भी स्मरणीय बताया। डाॅ. दीक्षित ने कहा कि विवि मूलतः छात्रों का और छात्रों के लिए है। अतः सभी कार्य-व्यवहार और लक्ष्य इस तरह के रहें कि जिससे छात्र हितों की वृद्धि हो। उन्होंने विवि परिवार से नव ऊर्जा से साथ छूटे कार्यो को पूर्ण करने का आव्हान किया है।

Updated : 2018-12-13T21:36:15+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top