Home > राज्य > अन्य > पाकिस्तान और अलगाववादियों के प्रति कांग्रेस का प्रेम तुष्टीकरण की निशानी : अनुराग ठाकुर

पाकिस्तान और अलगाववादियों के प्रति कांग्रेस का प्रेम तुष्टीकरण की निशानी : अनुराग ठाकुर

पाकिस्तान और अलगाववादियों के प्रति कांग्रेस का प्रेम तुष्टीकरण की निशानी : अनुराग ठाकुर
X

हमीरपुर। हमीरपुर से सांसद व भाजपा उम्मीदवार अनुराग ठाकुर ने लोकसभा चुनावों के दौरान ही कांग्रेसी नेताओं का जिन्ना प्रेम और कश्मीर में अलगाववादियों के पक्ष में बयानबाज़ी को मुस्लिम वोटों के ध्रुवीकरण के लिए एक सोची समझी साज़िश बताया है।

अनुराग ठाकुर ने कहा कि जैसे जैसे लोकसभा के चुनाव आगे बढ़ रहे हैं कांग्रेस पार्टी अपनी हार को सामने देखते हुए अब वोटों के ध्रुवीकरण में जुट गई है।देश को दो टुकड़ों में बाँटने वाले और पूरे देश को सांप्रदायिकता की आग में झोंक कर लाखों परिवार उजाड़ देने वाले मोहम्मद अली जिन्ना को कांग्रेसी नेता कांग्रेस परिवार का हिस्सा बता रहे हैं।

उन्होंने कहा कि देश के बंटवारे और पाकिस्तान के गठन के लिए जिम्मेदार जिन्ना धर्म के आधार पर मुसलमानों की एकता के पक्षधर थे और कांग्रेस भी चुनाव प्रचार में उनका नाम लेकर यही कोशिश कर रही है। कहा कि दरअसल, कांग्रेस पार्टी यह मान चुकी है कि लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के आगे उसके लिए 2014 में जीती 44 सीटों का आंकड़ा छूना भी मुश्किल है इसलिए वह वोटों के धार्मिक ध्रुवीकरण का प्रयास कर रही है।

भाजपा उम्मीदवार ने कहा कि कांग्रेस नेताओं का जिन्ना और पाकिस्तान प्रेम नया नहीं है।पार्टी के नेता राजनीतिक फायदे के लिए कई बार जिन्ना को हीरो बता चुके हैं।इनके नेता पाकिस्तान जाकर जिन्ना को अपना हीरो बताते हुए भारत से मोदी सरकार को हटाने के लिए पाकिस्तान से मदद की गुहार करते हैं।सांप्रदायिकता,अलगाववाद दंगे ही कांग्रेस परिवार का चरित्र है और इसे बढ़ावा देने वालों का पूजन कांग्रेस की परम्परा रही है।

आगे बोलते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा कि कांग्रेसी नेता यहीं नहीं रुक रहे बल्कि अब उन्हें कश्मीर में अलगाववादी नेताओं पर मोदी सरकार की कड़ी कार्यवाही से भी दर्द शुरू हो गया है। कश्मीर को भारत से अलग करने के मंसूबे पाले अलगाववादी नेता यासीन मलिक पर मोदी सरकार के शिकंजे का विरोध करते हुए कांग्रेसी नेता कह रहे हैं की मोदी को यासीन मलिक के साथ ऐसा नहीं करना चाहिए।

Updated : 28 April 2019 3:26 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top