Top
Home > खेल > क्रिकेट > सबके पीछे मास्टरमाइंड मिसबाह : यूनिस खान

सबके पीछे मास्टरमाइंड मिसबाह : यूनिस खान

सबके पीछे मास्टरमाइंड मिसबाह : यूनिस खान

दिल्ली। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने आगामी इंग्लैंड दौरे के मद्देनजर हाल ही में पूर्व कप्तान यूनिस खान को टीम का बल्लेबाजी कोच और मुश्ताक अहमद को स्पिन गेंदबाजी कोच नियुक्त किया है। टेस्ट क्रिकेट में पाकिस्तान के लिए 10,000 से ज्यादा रन बनाने वाले यूनिस खान आईसीसी रैंकिंग में बेस्ट बल्लेबाज रहे हैं। 2017 में उन्होंने क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। बल्लेबाजी कोच बनने के बाद यूनिस ने एक वीडियो कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लिया, जिसमें उनसे प्रमुख कोच मिसबाहउल हक से जुड़े अनेक सवाल पूछे गए। इस दौरान पूर्व कप्तान ने इस बात का खुलासा किया कि 2009 में खिलाड़ियों के एक समूह ने उनकी कप्तानी के खिलाफ विद्रोह कर दिया था। इसके सबके पीछे मास्टरमाइंड मिसबाह थे, लेकिन उन्होंने कहा कि जो बीत गया वह बीत गया।

यूनिस खान ने कहा, ''मैं ईमानदारी से कहूं तो मुझे पूरी पिक्चर नहीं पता, लेकिन मैं मिसबाह उल हक के साथ चलता रहा। हम दोनों साथ खेल रहे थे। वह कप्तान थे और उन्होंने अच्छा परफॉर्म किया। वेस्टइंडीज में पहली बार पाकिस्तान ने 2017 में टेस्ट सीरीज जीती और इसी साल हम दोनों ने संन्यास ले लिया। मैं एक टीममेट के रूप में मिसबाह के साथ ड्रेसिंग रूम में शेयर करना चाहता था, जो अतीत में हुआ वह बात खत्म हो गई है। मैं उससे आगे बढ़ गया हूं। मैं खुश हूं कि मिसबाह ने प्रमुख कोच रहते मुझे आगे बढ़ाया।''

यूनिस खान 3 टेस्ट और 3 टी-20 सीरीज के इंग्लैड दौरे के लिए बल्लेबाजी कोच नियुक्त किए गए। इस दौरे की शुरुआत 30 जुलाई को होगी। उन्होंने कहा, ''यह सीरीज महत्वपूर्ण है खासकर मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए। पूरी दुनिया दो टॉप देशों के बीच इस सीरीज को देखेगा। इंग्लैंड दौरा हमारे लिए हमेशा अहम रहा है। कोविड 19 के बाद क्रिकेट में की तरफ लौटना मुश्किल होगा।''

उन्होंने कहा, ''खिलाड़ियों के लिए पुरानी आदतों पर लौटना आसान नहीं होगा। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का बसों, ट्रेनों और ड्रेसिंग रूम में पालना करना भी आसान नहीं होगा। मुझे लगता है सपोर्टिंग स्टाफ की जिम्मेदारी बढ़ जाएगी। नेशनल टीम के साथ होना खुशी की बात है। मेरे लिए यह नई भूमिका है। पाकिस्तानी टीम अजहर अली और असद शफीक के अलावा युवा टीम है। मुझे जावेद मियांदाद और बॉब वूल्मर जैसे कोचों से बहुत कुछ सीखना पड़ेगा। बॉब महान कोच थे। वह खिलाड़ियों को स्पेस देते थे और हमें अधिक उपयोगी बनाते थे। मुझे भी यह सीखना होगा।''

Updated : 11 Jun 2020 6:09 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top