Top
Home > खेल > क्रिकेट > Ind vs Aus Women T20 World Cup Final : भारत को हरा ऑस्ट्रेलिया 5वीं बार बना चैंपियन

Ind vs Aus Women T20 World Cup Final : भारत को हरा ऑस्ट्रेलिया 5वीं बार बना चैंपियन

मेलबर्न। भारतीय महिला टीम का पहली बार आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप-2020 खिताब जीतने का सपना ऑस्ट्रेलिया ने चूर-चूर कर दिया। मेजबान टीम ने मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए फाइनल मुकाबले में भारत को 85 रनों से शिकस्त दी। मैच को मूनी (नाबाद 78) और हीली (75) की बैटिंग ने काफी हद तक एकतरफा बना दिया था। दोनों की फिफ्टी की बदौलत मेजबान ने 4 विकेट पर 184 रनों का पहाड़ सरीखा स्कोर खड़ा किया और गेंदबाजों ने पहली बार फाइनल खेल रही भारतीय टीम 99 रनों पर रोकते हुए उसके खिताबी सपने को चकनाचूर कर दिया। यह 5वां मौका था जब ऑस्ट्रेलिया ने इस टूर्नमेंट का खिताब अपने नाम किया। हीली को उनकी शानदार बैटिंग के लिए प्लेयर ऑफ द मैच का खिताब दिया गया। इसके अलावा उनकी जोड़ीदार बेथ मूनी को पूरे टूर्नमेंट में शानदार खेल के लिए प्लेयर ऑफ टूर्नमेंट चुना गया।

ऑस्ट्रेलियाई महिला टीम ने इस टूर्नमें का खिताब पहली बार 2010 में जीता था। इसके बाद उसने 2012, 2014, 2018 और फिर 2020 में खिताबी पंच जड़ दिया। उसके नाम सबसे अधिक खिताब जीतने का रेकॉर्ड है।

सलामी बल्लेबाज बेथ मूनी और एलिसा हीली ने शुरुआत में मिले जीवनदान का फायदा उठाते हुए अर्धशतकीय पारियां खेली और ऑस्ट्रेलिया को भारत के खिलाफ चार विकेट पर 184 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाने में मदद की। मूनी (नाबाद 78 रन) शीर्ष स्कोरर रहीं, लेकिन हीली ने 75 रन की पारी खेलकर सुर्खियों बटोरीं, जिनका कैच शेफाली वर्मा ने पारी की पांचवीं गेंद (दीप्ति शर्मा के ओवर) पर छोड़ दिया था। इन दोनों ने भारतीय गेंदबाजों पर मैदान के चारों ओर रन जुटाए। उन्होंने 39 गेंद की पारी के दौरान सात चौके और पांच छक्के जमाए।

हीली और मूनी ने 11.5 ओवर में पहले विकेट के लिए 115 रन की साझेदारी कर ऑस्ट्रेलिया को शानदार शुरुआत कराई, जिसने टॉस जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया। हीली की तरह मूनी ने भी कैच छूटने से मिले मौके का फायदा उठाया। चौथे ओवर में राजेश्वरी गायवकाड़ ने अपनी गेंद पर उनका कैच लेने का मौका गंवा दिया जिससे वह 41 गेंद में अपने अर्धशतक पर पहुंची। मूनी ने अपनी 54 गेंद की नाबाद पारी के दौरान 10 बाउंड्री लगाई।

मेग लैनिंग की अगुआई वाली टीम ने ख्याति के अनुरूप प्रदर्शन किया और हीली ने पहली ही गेंद से भारतीय आक्रमण की धज्जियां उड़ायीं। हीली की शानदार पारी का अंत 12वें ओवर में हुआ जब वह बायीं हाथ की स्पिनर राधा यादव की गेंद पर लांग आन बाउंड्री लगाने के चक्कर में वेदा कृष्णमूर्ति को कैच दे बैठीं। हीली के आउट होने के बाद मूनी ने जिम्मेदारी से खेलते हुए कप्तान लैनिंग के साथ 39 रन जोड़े। इसके बाद दीप्ति के 17वें ओवर में दो विकेट चटकाने से थोड़ी देर के लिए भारत ने दबाव बनाया।

लैनिंग (6) को दूसरी गेंद पर शिखा पांडे ने कैच लेकर आउट किया जबकि तीन गेंद के बाद एशले गार्डनर को तानिया भाटिया ने स्टंप आउट किया। राशेल हेनेस (04) 19वें ओवर में पूनम यादव की गेंद पर बोल्ड हुई। मूनी ने जिम्मेदारी से खेलना जारी रखा और निकोला कारे (नाबाद 05) के साथ नाबाद रहीं। दोनों ने ऑस्ट्रेलिया को 190 रन के करीब पहुंचाया। भारत की स्पिनर दीप्ति (38 रन देकर दो विकेट), राधा यादव (34 रन देकर एक विकेट) और पूनम यादव (30 रन देकर एक विकेट) ने ऑस्ट्रेलिया को 200 रन के अंदर रोकने में अच्छा प्रदर्शन किया।

185 रनों के स्कोर का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही और 18 रन पर उसके 3 अहम विकेट गिर गए। बेजोड़ फॉर्म में चल रही शेफाली वर्मा का खराब शॉट खेलकर पहले ही ओवर में चतली बनीं। उन्हें 2 रनों के निजी स्कोर पर मेगन स्कट ने एलिसा हिली के हाथों कैच आउट कराया। इस बीच हेल्मेट पर गेंद लगने की वजह से तानिया भाटिया को रिटायर्ट हर्ट होना पड़ा। इसके बाद जेमिमा रोड्रिग्स (0) बगैर खाता खोले चलती बनीं। भारत को तीसरा झटका स्मृति मंधाना के रूप में लगा। वह 11 रन बनाकर मोलिनिक्स का शिकार बनीं।

3 विकेट जल्दी गिर जाने के बाद उम्मीद थी कि टूर्नमेंट में फीका प्रदर्शन करने वाली कप्तान हरमनप्रीत कौर अपने बर्थडे पर कुछ खास करेंगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। बड़े लक्ष्य के दबाव में वह भी एक चौका लगाने के बाद हवाई शॉट खेल बैठीं। जॉनसेन की गेंद पर उन्हें ग्रांडर ने कैच किया। वह 7 गेंदों में 4 रन बना सकीं। इसके बाद भारतीय उम्मीदों ने ढलान लेना शुरू कर दिया।

इसके बाद वेदा कृष्णमूर्ति और दीप्ति शर्मा ने मोर्चा संभाला और 9.4 ओवर में टीम के 50 रन पूरे हुए। लेकिन यह साझेदारी बहुत देर तक ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को विकेट से दूर नहीं रख सकी। किमिंस ने वेदा कृष्णमूर्ति को 19 रनों के निजी स्कोर पर जॉनसन के हाथों कैच आउट करा दिया। इस जोड़ी ने 28 रन जोड़े। दीप्ति शर्मा 17वें ओवर की पहली गेंद पर कैरी की गेंद पर आउट हुईं। उन्होंने 34 गेंदों में 33 रन की पारी खेली। इसके बाद शिखा पांडे (1), राधा यादव (1) का विकेट गिरने में दूरी नहीं हुई। ऑस्ट्रेलिया के लिए स्कट ने सबसे अधिक 4, जबकि जॉनसन ने 3 विकेट झटके।

Updated : 2020-03-09T12:25:17+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top