Top
Home > विशेष आलेख > कोरोना वायरस : सूक्ष्म-जीव का अनंत विस्तार

कोरोना वायरस : सूक्ष्म-जीव का अनंत विस्तार

प्रमोद भार्गव

कोरोना वायरस : सूक्ष्म-जीव का अनंत विस्तार

अमेरिका समेत 1२0 देशों की मानव आबादी में कोरोना विषाणु ने अपना असर छोड़ दिया है। हजारों लोग मर चुके हैं और 1 लाख से भी ज्यादा लोग संक्रमित हैं। चीन में नोबेल कोरोना नाम के जिस वायरस ने हल्ला मचाया है, उसे चीन के महानगर वुहान में स्थित वायरस प्रयोगशाला पी-4 में उत्सर्जित किए जाने की आशंका दुनिया के वैज्ञानिकों ने जताई थी, उनकी पुष्टि उन दो किताबों से भी हो रही है, जिनमें से एक 40 साल पहले तो दूसरी 12 साल पहले छपी थी।

करॉना वायरस नया-नया है इसलिए इसकी संरचना कैसी है, वैज्ञानिक इसकी पड़ताल नहीं कर पाए हैं। हालांकि 'डेली मेल' अखबार में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार दक्षिण चीन के शेनजेन में शोधार्थियों ने कोरोना की कोशिका का एक चित्र फ्रोजेन इलेक्ट्रॉन माइक्रोसोप ऐनालिसिस की तकनीक से हासिल कर लिया है। इस तकनीक का प्रयोग कर पहले वायरस को निष्क्रिय किया गया और फिर उसका चित्र लिया गया। इस जैविक नमूने से यह तय किया जाएगा कि जीवित अवस्था में वायरस कैसा था और किस तरह जीवन प्रणाली चलाता था। इस शोध से जुड़े वैज्ञानिक लिउ चुआंग का कहना है कि 'वायरस की जिस संरचना को हमने देखा है, वह बिल्कुल वैसा ही है, जैसा जीवित अवस्था में होता है। अब इसकी डीएनए संरचना का विश्लेषण कर इसका क्लिनिकल परीक्षण कर इसके जीवन चक्र को समझा जाएगा।

दरअसल जीवाणु एवं विषाणुओं को एक निर्जीव कड़ी के रूप में देखा जाता है। लेकिन जब ये किसी प्राणी की कोशिका को शिकार बनाने की अनुकूल स्थिति में आ जाते हैं तो जीवित हो उठते हैं। इसलिए इनके जीवन चक्र के इतिहास को समझना मुश्किल है। इनके जीवाश्म भी नहीं होते हैं इसलिए भी इनके डीएनए की संरचना समझना कठिन हो रहा है। जबकि मनुष्य के शरीर में जो डीएनए है, उसके निर्माण में मुख्य भूमिका इसी वायरस की रहती है। बावजूद दुनिया के वैज्ञानिक इनके जीन में परिवर्तन कर खतरनाक वायरसों के निर्माण में लगे हुए हैं। प्रसिद्ध वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने मानव समुदाय को सुरक्षित बनाए रखने की दृष्टि से जो चेतावनियां दी हैं, उनमें एक चेतावनी जेनेटिकली इंजीनियरिंग अर्थात आनुवांशिक अभियंत्रिकी से खिलवाड़ करना भी है। आजकल खासतौर से चीन और अमेरिकी वैज्ञानिक विषाणु और जीवाणु से प्रयोगशालाओं में छेड़छाड़ कर एक तो नए विषाणु व जीवाणुओं के उत्पादन में लगे हैं, दूसरे उनकी मूल प्रकृति में बदलाव कर उन्हें और ज्यादा सक्षम व खतरनाक बना रहे हैं। इनका उत्पादन मानव स्वास्थ्य के हित के बहाने किया जा रहा है लेकिन ये बेकाबू हो गए तो तमाम मुश्किलों का भी सामना करना पड़ सकता है? कई देश अपनी सुरक्षा के लिए घातक वायरसों का उत्पादन कर खतरनाक जैविक हथियार भी बनाने में लग गए हैं। करॉना वायरस को भी ऐसी ही आशंकाओं का पर्याय माना जा रहा है।

हम आए दिन नए-नए बैक्टीरिया व वायरसों के उत्पादन के बारे खबरें पढ़ते रहते हैं। हाल ही में त्वचा कैंसर के उपचार के लिए टी-वैक थैरेपी की खोज की गई है। इसके अनुसार शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को ही विकसित कर कैंसर से लड़ा जाएगा। इस सिलसिले में स्टीफन हॉकिंग ने सचेत किया था कि इस तरीके में बहुत जोखिम है। क्योंकि जीन को मोडीफाइड करने के दुष्प्रभावों के बारे में अभी तक वैज्ञानिक खोजें न तो बहुत अधिक विकसित हो पाई हैं और न ही उनके निष्कर्षों का सटीक परीक्षण हुआ है। उन्होंने यह भी आशंका जताई थी कि प्रयोगशालाओं में जीन परिवर्धित करके जो विषाणु-जीवाणु अस्तित्व में लाए जा रहे हैं, हो सकता है, उनके तोड़ के लिए किसी के पास एंटी-बायोटिक एवं एंटी-वायरल ड्रग्स ही न हों?

कुछ समय पहले खबर आई थी कि जेनेटिकली इंजीनियर्ड अभियांत्रिकी से ऐसा जीवाणु तैयार कर लिया है जो 30 गुना ज्यादा रसायनों का उत्पादन करेंगे। जीन में बदलाव कर इस जीवाणु के अस्तित्व को आकार दिया गया है। माना जा रहा है कि यह एक ऐसी खोज है, जिससे दुनिया की रसायन उत्पादन कारखानों में पूरी तरह जेनेटिकली इंजीनियर्ड बैक्टीरिया का ही उपयोग होगा। विस इंस्टीट्यूट फॉर बॉयोलॉजिकली इंस्पायर्ड इंजीनियंरिंग और हावर्ड मेडिकल स्कूल के शोधकर्ताओं के दल ने यह शोध किया है। अनुवांशिकविद जॉर्ज चर्च के नेतृत्व में किए गए इस शोध के तहत बैक्टीरिया के जींस को इस तरीके से परिवर्धित किया गया, जिससे वे इच्छित मात्रा में रसायन का उत्पादन करें। बैक्टीरिया अपनी मेंटाबॉलिक प्रक्रिया के तहत रसायनों का उत्सर्जन करते हैं। यह तकनीक हालांकि नई नहीं है। लेकिन नई खोज से ऐसी तकनीक विकसित की गई है, जिससे वैज्ञानिक किसी भी तरह के बैक्टीरिया का इस्तेमाल करके अनेक प्रकार के रसायन तैयार कर सकेंगे।

इस शोध के लिए वैज्ञानिकों ने ई-कॉली नामक बैक्टीरिया का इस्तेमाल किया है। इसमें बदलाव के लिए इवोल्यूशनरी मैकेनिज्म को उपयोग में लाया गया। दरअसल जीवाणु एक कोशकीय होते हैं, लेकिन ये स्वयं को निरंतर विभाजित करते हुए अपना समूह विकसित कर लेते हैं। वैज्ञानिक इन जीवाणुओं पर ऐसे एंटीबायोटिक्स का प्रयोग करते हैं, जिससे केवल उत्पादन क्षमता रखने वाली कोशिकाएं ही जीवित रहें। इन कोशिकाओं के जीन में बदलाव करके ऐसे रसायन उत्पादन में सक्षम बनाया जाता है, जो उसे एंटिबायोटिक से बचाने में सहायक होता है। ऐसे में एंटीबायोटिक का सामना करने के लिए बैक्टीरिया को ज्यादा से ज्यादा रसायन का उत्पादन करना पड़ता है। रसायन उत्पादन की यह रफ्तार एक हजार गुना ज्यादा होती है। यह खोज 'सर्वाइवल ऑफ फिटेस्ट' के सिद्धांत पर आधारित है। इस सिद्धांत के अनुरूप यह चक्र निरंतर दोहराए जाने पर सबसे ज्यादा उत्पादन करने वाले चुनिंदा जीवाणुओं की कोशिकाएं ही बची रह जाती हैं। मानव शरीर में उनका उपयोग रसायनों की कमी आने पर किया जा सकेगा, ऐसी संभावना जताई जा रही है। इस खोज से फार्मास्युटिकल बायोफ्यूल और अक्षय रसायन भी तैयार होंगे। लेकिन मानव शरीर में इसके भविष्य में क्या खतरे हो सकते हैं, यह प्रश्न फिलहाल अनुत्तरित ही है।

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।)

Updated : 16 March 2020 3:19 PM GMT
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top