Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > राज्यपाल के निर्देशों के बाद टीबी पीडि़त बच्चों को लिया गोद

राज्यपाल के निर्देशों के बाद टीबी पीडि़त बच्चों को लिया गोद

राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के निर्देशों के बाद विश्वविद्यालयों, रेडक्रॉस सोसायटी और समाजसेवी संगठनों ने टीबी की बीमारी से पीडि़त बच्चों को गोद लेना शुरू कर दिया है।

राज्यपाल के निर्देशों के बाद टीबी पीडि़त बच्चों को लिया गोद
X

ग्वालियर | राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के निर्देशों के बाद विश्वविद्यालयों, रेडक्रॉस सोसायटी और समाजसेवी संगठनों ने टीबी की बीमारी से पीडि़त बच्चों को गोद लेना शुरू कर दिया है। जिसके लिए कागजी कार्रवाई भी कर ली गई है। अब बच्चों को पौष्टिक आहार उपलब्ध हो सकेगा। केन्द्र सरकार ने टीबी की बीमारी देश से खत्म करने के लिए 2025 तक का लक्ष्य रखा है। इसी के चलते विगत दिनों प्रवास पर आई राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने शहर के सभी विश्वविद्यालयों की कुलपतियों, रेडक्रॉस सोसायटी और समाजसेवी संगठनों के साथ एक बैठक बुलाई थी, जिसमें उन्होंने टीबी के खात्मे के लिए 18 साल से कम उम्र के बच्चों के पौष्टिक भोजन की जिम्मेदारी उठाने के लिए कहा था।

इसी के चलते जीवाजी विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला ने 26 बच्चों के पौष्टिक आहार की जिम्मेदारी ली है। जबकि वरिष्ठ नागरिक सेवा संस्थान ने 26 तथा रेडक्रॉस सोसायटी ने 21 बच्चों की जिम्मेदारी ली है। इसी तरह कृषि विश्वविद्यालय 11, संगीत विश्वविद्यालय 14, आईटीएम विश्वविद्यालय 22, एलएनआईपीई 8 और रोटरी क्लब 21 बच्चों की जिम्मेदारी ले रहा है। जिलाक्षय अधिकारी डॉ. मनोज कौरव का कहना है कि विवि, रेडक्रॉस सहित समाजसेवी संस्थाओं ने बच्चे गोद ले लिए हैं। इसके अलावा अन्य संस्थाओं को बच्चे गोद देने की कार्रवाई चल रही है। कागजी कार्रवाई पूरी होते ही सभी संस्थाएं हर सप्ताह टीबी केन्द्र जाकर गोद लिए बच्चों की जानकारी लेंगी और उन्हें पौष्टिक भोजन भी उपलब्ध कराएंगी। जिससे बच्चे टीबी की बीमारी से मुक्त हो सकेंगे।


Updated : 2018-07-03T17:40:33+05:30

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top