Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > अब डिजिटल कक्षाओं में पढ़ेंगे ग्रामीण स्कूलों के बच्चे, उपराष्ट्रपति ने किया शुभारम्भ

अब डिजिटल कक्षाओं में पढ़ेंगे ग्रामीण स्कूलों के बच्चे, उपराष्ट्रपति ने किया शुभारम्भ

76 शासकीय ग्रामीण स्कूलों में 100 कक्षाएं हुईं डिजिटल, केंद्रीय मंत्री तोमर, मंत्री माया सिंह, मंत्री पवैया विशेष रूप से हुए शामिल

अब डिजिटल कक्षाओं में पढ़ेंगे ग्रामीण स्कूलों के बच्चे, उपराष्ट्रपति ने किया शुभारम्भ
X

ग्वालियर। "मेरा स्कूल अब डिजिटल स्कूल" स्लोगन के साथ ग्वालियर जिले के 76 शासकीय ग्रामीण स्कूलों के बच्चे 100 डिजिटल कक्षाओं में शिक्षा ग्रहण करेंगे। देश के उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने शनिवार को ग्वालियर में डिजिटल कक्षाओं का शुभारंभ किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता स्थानीय सांसद और केंद्रीय पंचायती राज और ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने की। शुभारम्भ अवसर पर उप राष्ट्रपति ने कहा कि ग्वालियर का ये उदाहरण देश के लिए प्रेरणा बनेगा।

ग्वालियर व्यापार मेला परिसर में स्थित फेसिलिटेशन सेंटर में आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ अतिथियों ने दीप जलाकर किया। मंच पर उप राष्ट्रपति और केंद्रीय मंत्री के अलावा प्रदेश सरकार के उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया, नगरीय विकास और आवास मंत्री माया सिंह, महापौर विवेक नारायण शेजवलकर सहित अन्य अतिथि भी उपस्थित थे। उप राष्ट्रपति श्री नायडू ने बटन दबाकर डिजिटल कक्षाओं का शुभारम्भ किया । इस अवसर पर उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा कि शहरों और गाँवों के बीच बढ़ती दूरियों को पाटना होगा। हमें विकास को गाँव तक ले जाना होगा तभी गांधी जी नारा "चलो गाँव की ओर" साकार होगा । उप राष्ट्रपति ने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की प्रशंसा करते हुए कहा कि उनके प्रयासों से ग्वालियर के ग्रामीण स्कूलों के बच्चों को डिजिटल शिक्षा मिलेगी और ये प्रयास देश के लिए प्रेरणा बनेगा

उप राष्ट्रपति श्री नायडू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते हुए कहा कि आज भारत डिजिटल क्रांति की दुनिया में तेजी से आगे बढ़ रहा है और यही वजह है कि विश्व के अधिकांश देश हमारी तरफ उम्मीद लगाए बैठे हैं । उन्होंने देशवासियों से कहा कि हम कितनी भी ऊंचाइयां छूं लें लेकिन हमें पांच लोगों को कभी नहीं भूलना चाहिए । पहली माँ, दूसरी जन्म भूमि, तीसरी मातृ भाषा, चौथा देश और पांचवा गुरु क्योंकि इनके बिना हमारे जीवन का कोई अर्थ नहीं है ।

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय मंत्री एवं स्थानीय सांसद नरेंद्र सिंह तोमर की पहल पर मुस्कान फाउंडेशन एवं हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड के सहयोग से ग्वालियर जिले में डिजिटल कक्षाओं की स्थापना हो रही है। मध्य प्रदेश का पहला ग्रामीण डिजिटल स्कूल भी केंद्रीय मंत्री श्री तोमर की पहल पर गत वर्ष उनके द्वारा गोद लिए गए गांव चीनौर में स्थापित हुआ था। कार्यक्रम में विधायक भारत सिंह कुशवाह, जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती मनीषा भुजबल सिंह यादव, हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड के सीईओ सुनील दुग्गल और मुस्कान फाउंडेशन के अभिषेक दुबे भी शामिल थे ।

Updated : 2018-09-29T19:20:21+05:30
Tags:    

Atul Saxena

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top