Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > जब भोपाल से आया फोन तो शिथिल पड़े निगमायुक्त, कर्मचारियों से की बात

जब भोपाल से आया फोन तो शिथिल पड़े निगमायुक्त, कर्मचारियों से की बात

जब भोपाल से आया फोन तो शिथिल पड़े निगमायुक्त, कर्मचारियों से की बात
X

निगम कर्मियों में फूट, कुछ माने, कुछ हड़ताल पर शहर में आज भी नहीं उठेगा कचरा, सीटू देगा धरना

ग्वालियर, न.सं.

शहर में साफ-सफाई सहित पेयजल और मूलभूत सुविधाएं प्रदान करने वाले नगर निगम के दो हजार से अधिक कर्मचारियों के सोमवार को अनिश्चित कालीन हड़ताल पर जाने की खबर राज्य शासन के पास भोपाल तक जा पहुंची। इस पर भोपाल से वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों ने निगमायुक्त विनोद शर्मा को हिदायत दी कि यह हड़ताल किसी भी हालत में नहीं होने दें। कर्मचारियों की समस्या का तत्काल निदान करें। इस पर निगमायुक्त ने आनन-फानन में हड़ताली कर्मचारी नेताओं को बाल भवन में बातचीत के लिए बुला लिया, जहां उन्होंने भरोसा दिलाया कि एमआईसी ने कर्मचारियों को विनियमित निगम कर्मियों को पुन: दैनिक वेतन भोगी करने का कोई भी निर्णय नहीं लिया है। आप भ्रम में है। आपके साथ अन्याय नहीं होगा। किन्तु इस आश्वासन से कुछ कर्मचारी नेता असहमत दिखे और इसे मात्र दिखावा बताते हुए हड़ताल पर बने रहने का निर्णय ले लिया। वहीं सीटू से जुड़े कर्मचारियों ने घोषणा की है कि उनकी हड़ताल जारी रहेगी और वे अनशन पर भी जा सकते हैं।

सोमवार को सुबह नगर निगम के 2869 विनियमित, दो हजार ईकोग्रीन, तिघरा प्लांट, आउटसोर्स, पंप ऑपरेटरों सहित अन्य पांच हजार कर्मचारियों ने एक साथ हड़ताल कर दी, जिससे शहर की गलियों में सुबह से कचरे के ढेर सहित गंदगी पसरी दिखाई दी, साथ ही आममजनों को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। उधर दोपहर तीन बजे जब निगमायुक्त ने कर्मचारी नेताओं से चर्चा की और आश्वासन दिया कि उनके साथ अन्याय नहीं होगा। धरना स्थल पर हड़ताल समाप्ति की घोषणा के बाद हजारों कर्मचारी वापस लौट गए, लेकिन हड़ताल समाप्ति की घोषणा से नाराज कुछ सफाई कर्मचारी देर शाम वापस बाल भवन स्थित धरना स्थल पर पहुंच गए और प्रदर्शन करने लगे। इसकी जानकारी मिलते ही कर्मचारी नेता उन्हें मनाने पहुंचे। इसके बाद कर्मचारी धरने से उठ गए। उधर नगर निगम में आउटसोर्स कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने के साथ ही निगम मुख्यालय से लेकर बाल भवन, 25 जनमित्र केन्द्रों व वार्ड कार्यालयों से विनियमित व आउटसोर्स कर्मचारी गायब रहे। इसके चलते सोमवार को निगम मुख्यालय में सन्नाटा पसरा नजर आया।

आज शहरवासियों को होगी पानी की किल्लत

सोमवार को कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से शहर के सीधे पेयजल आपूर्ति वाले क्षेत्रों में पानी की किल्लत हो सकती है। तिघरा प्लांट के कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से पानी की टंकी नहीं भर पाई हैं। सूत्रों की मानें तो मंगलवार को कई क्षेत्रों में पानी की किल्लत रहेगी।

भाजपा अजा मोर्चा ने की सफाई कर्मियों की पैरवी

भाजपा अजा मोर्चा के जिलाध्यक्ष धर्मेन्द्र आर्य के नेतृत्व में अनुसूचित जाति वर्ग के पार्षदों एवं मोर्चा के पदाधिकारियों की सोमवार को बैठक हुई, जिसमें राज्य शासन द्वारा महापौर विवेक शेजवलकर को नोटिस देने की घोर निंदा की गई, साथ ही जिलाध्यक्ष श्री आर्य ने सरकार के इस निर्णय को लेकर चेतावनी दी कि जल्द से जल्द उक्त नोटिस को वापस लिया जाए।

Updated : 2019-02-19T01:03:13+05:30

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top