Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > स्वाइन फ्लू से एक और मरीज की मौत, लगातार बढ़ रहा प्रकोप

स्वाइन फ्लू से एक और मरीज की मौत, लगातार बढ़ रहा प्रकोप

स्वाइन फ्लू से एक और मरीज की मौत, लगातार बढ़ रहा प्रकोप
X

चार संदिग्ध मरीजों में से एक की रिपोर्ट पॉजिटिव

ग्वालियर, न.सं.

स्वाइन फ्लू बुखार एच वन एन वन वायरस का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। इसके चलते एक और मरीज की मौत होने के साथ ही स्वाइन फ्लू का चौथा मरीज भी सामने आया है, जिसका उपचार दिल्ली में चल रहा है। इसके बाद भी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मृदुल सक्सेना स्वाइन फ्लू को लेकर लगातार लापरवाही बरत रहे हैं।

गुढ़ी-गुढ़ा निवासी 49 वर्षीय नाजिम खान को उनके परिजन तीन दिन पहले सहारा हॉस्पीटल में उपचार के लिए लेकर पहुंचे थे, जहां चिकित्सकों ने स्वाइन फ्लू की संभवना जताई थी। इसी के चलते परिजन मरीज को दिल्ली के अपोलो हॉस्पीटल में उपचार के लिए लेकर पहुंचे थे, जहां उपचार के दौरान शुक्रवार को नाजिम खान की मौत हो गई। परिजनों का कहना है कि नाजिम खान की जांच में स्वाइन फ्लू पॉजीटिव आया था, इसलिए चिकित्सकों ने उनको वेटिंलेटर पर रखा था।

इधर गत दिवस जयारोग्य अस्पताल से एक और जिला अस्पताल से तीन कुल चार संदिग्ध मरीजों के नमूने जांच के लिए डीआरडीई भेजे गए थे। जांच रिपोर्ट में जयारोग्य से भेजा गया नमूना पॉजिटिव आया है। उक्त मरीज सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर के एक चिकित्सक की पत्नी हैं, जिन्हें गत दिवस उपचार के लिए जयारोग्य में भर्ती कराया गया था, जहां से परिजन मरीज को उपचार के लिए दिल्ली लेकर रवाना हो गए थे। वहीं सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर से स्वाइन फ्लू का यह दूसरा मामला है। इससे पहले सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर के एक अधिकारी को स्वाइन फ्लू होने की पुष्टि हो चुकी है, जिनका उपचार भी दिल्ली में ही चल रहा है। उल्लेखनीय है कि स्वाइन फ्लू के कारण यह इस साल की दूसरी मौत है। इससे पूर्व एक फरवरी को दिल्ली में इलाज के दौरान कोटेश्वर तिराहा निवासी 30 वर्षीय अर्चना राठौर की मौत हो गई थी।

डिमांड के बाद भी नहीं मंगा सके वैक्सीन

अस्पतालों में अगर स्वाइन फ्लू की वैक्सीन व माक्स की बात करें तो अभी तक जिला अस्पताल व जयारोग्य के स्वाइन फ्लू वार्ड व ओपीडी में कार्यरत स्टाफ को स्वाइन फ्लू की वैक्सीन नहीं लगाई गई है। इस कारण अगर वार्ड में कोई मरीज भर्ती होता है तो वार्ड में मौजूद कर्मचारियों को भी स्वाइन फ्लू होने की संभावना बनी रहती है। इसको लेकर महामारी विशेषज्ञ डॉ. पिपरोलिया ने गत 31 दिसम्बर को सीएमएचओ को वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए डिमांड भी की थी, लेकिन आज नौ दिन बीत जाने के बाद भी सीएमएचओ वैक्सीन नहीं मंगा सके हैं।

सीएमएचओ की लापरवाही नहीं करा सके सर्वे

स्वाइन फ्लू के लगातार मामले समाने आने के बाद भी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मृदुल सक्सेना लापरवाही बरत रहे हैं। सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर के अधिकारी को गत एक फरवारी को स्वाइन फ्लू होने की पुष्टि हुई थी। इस पर महामारी विशेषज्ञ डॉ. महेन्द्र पिपरोलिया दो फरवरी को उक्त अधिकारी के घर पहुंचे थे और सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर के अस्पताल से उनकी केस हिस्ट्री भी ली थी। इसके साथ ही डॉ. पिपरोलिया ने उक्त अधिकारी के घर के आस-पास सर्वे करने के लिए डबरा के ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर डॉ. ए.के. शर्मा से कहा था, लेकिन आज तक डॉ. शर्मा ने सर्वे ही नहीं कराया। इतना ही नहीं इस संबंध में सीएमएचओ डॉ. सक्सेना ने बीएलओ से कोई सम्पर्क भी नहीं किया, जिससे अनुमान लगाया जा सकता है कि सीएमएचओ स्वाइन फ्लू को लेकर कितने चिंतित हैं।

Updated : 2019-02-09T00:48:25+05:30

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top