Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > केंद्रीय मंत्री सिंधिया और सांसद शेजवलकर ने ICU और ऑक्सीजन प्लांट का किया लोकार्पण

केंद्रीय मंत्री सिंधिया और सांसद शेजवलकर ने ICU और ऑक्सीजन प्लांट का किया लोकार्पण

ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले - मुरार के लोगों को अब स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए दूर नहीं जाना होगा

केंद्रीय मंत्री सिंधिया और सांसद शेजवलकर ने ICU और ऑक्सीजन प्लांट का किया लोकार्पण
X

मुरार के लोगों को मिलेगी बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं

ग्वालियर। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गुरुवार को जिला चिकित्सालय मुरार में किया ऑक्सीजन प्लांट व 20 बिस्तरीय आईसीयू ( गहन चिकित्सा इकाई) का लोकार्पण एवं सीटी स्कैन मशीन की स्थापना के लिए भूमिपूजन किया। इस मौके पर केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि यह मुरार के लिए ऐतिहासिक दिन है। 70 साल पहले मुरार ग्रामीण क्षेत्र का इलाका कहलाता था। लोगों को स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए कई किलोमीटर दूर जाना पड़ता था लेकिन अब इस जिला अस्पताल में स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार हुआ है और 45 वर्ष पहले जो नींव जिला अस्पताल की यहां रखी गई थी अब वह वटवृक्ष के रूप में खड़ा हो गया है जिसका लाभ स्थानीय लोगों को मिलेगा। यहां पर स्वास्थ सुविधाएं बढ़ने से लोगों को अब दूर नहीं जाना होगा। स्थानीय स्तर पर ही स्वास्थ्य सुविधाएं मिल जाएंगीं। इस मौके पर सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। कार्यक्रम में प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ प्रभूराम चौधरी, ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर व उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री ( स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह तथा विधायक सतीश सिकरवार बतौर विशिष्ट अतिथि मौजूद थे। इस अवसर पर पूर्व विधायकगण सर्वश्री मुन्नालाल गोयल, रामवरण सिंह गुर्जर व मदन कुशवाह, साडा के पूर्व अध्यक्ष जय सिंह कुशवाह व राकेश जादौन और जितेन्द्र गुर्जर व अशोक जैन सहित अन्य जनप्रतिनिधि गण तथा कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह व पुलिस अधीक्षक अमित सांघी समेत संबंधित अधिकारी मौजूद थे।


मरीजों को मिलेगा बेहतर इलाज,जेएएच पर होगा दबाव कम-

इस अत्याधुनिक आईसीयू के बनने से जिला चिकित्सालय मुरार में गंभीर मरीजों के बेहतर इलाज के लिए नया आयाम जुड़ा है। यहाँ पर गहन चिकित्सा इकाई शुरू होने से ग्वालियर- चंबल क्षेत्र के सबसे बड़े अस्पताल जेएएच से भी मरीजों का दबाव कम होगा। गहन चिकित्सा इकाई वार्ड में गंभीर मरीजों के इलाज के लिए 20 पलंग का इंतजाम किया गया है।

जिला चिकित्सालय में अब ऑक्सीजन की नहीं रहेगी कमी-

ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना से जिला चिकित्सालय में अब ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं रहेगी और निर्वाध रूप से जरूरतमंद मरीजों को ऑक्सीजन की आपूर्ति हो सकेगी। प्लांट से प्रति मिनिट 200 लिटर अर्थात हर घण्टे 12 हज़ार लिटर ऑक्सीजन का उत्पादन होगा।

सीटी स्कैन मशीन से कमजोर परिवारों को फायदा-

इसी तरह जिला चिकित्सालय में स्थापित होने जा रही आधुनिक सीटी स्कैन मशीन से खासतौर पर आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों को बड़ा फायदा होगा। यहाँ पर सीटी स्कैन शुरू होने पर मरीजों को जाँच के लिए जेएएच या प्रायवेट सेंटर पर जाने की जरूरत नहीं रहेगी।

Updated : 2021-10-17T00:09:38+05:30
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top