Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > दुष्कर्मी को फांसी के फंदे तक पहुँचाने वाली ग्वालियर पुलिस की टीम सम्मानित

दुष्कर्मी को फांसी के फंदे तक पहुँचाने वाली ग्वालियर पुलिस की टीम सम्मानित

मुख्यमंत्री ने कहा - ऐसे दरिंदों को फांसी की सजा से कम कुछ नहीं

दुष्कर्मी को फांसी के फंदे तक पहुँचाने वाली ग्वालियर पुलिस की टीम सम्मानित
X

ग्वालियर। शादी समारोह में भिंड से आई मासूम का अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म कर उसकी निर्मम हत्या करने वाले दरिंदे जितेंद्र कुशवाह को फांसी की सजा दिलाने वाली पुलिस की टीम को भोपाल में मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों कर्मचारियों की प्रशंसा करते हुए कहा कि ऐसे दरिंदों के लिए फांसी की सजा से कम कोई सजा नहीं हो सकती।

भोपाल में मुख्यमंत्री आवास पर आयोजित सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री ने महिलाओं और बच्चियों से जुड़े मामलों में त्वरित और प्रभावी कार्रवाई करने वाले 71 पुलिस कर्मचारियों , अधिकारियों , एफएसएल विशेषज्ञों और लोक अभियोजकों को सम्मानित किया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि महिलाओं और बच्चियों के साथ दरिंदगी करने वालों के लिए फांसी से काम कोई सजा नहीं हो मप्र सरकार ने इसे देश में सबसे पहले लागू किया है।

उल्लेखनीय है कि बीती 20 जून की रात कैंसर पहाड़िया के पास एक शादी समारोह में परिवार के साथ शामिल होने आई 6 साल की मासूम को बहाने से आरोपी जितेंद्र अपने साथ ले गया और उसके दुष्कर्म निर्मम हत्या कर दी फिर उसके शरीर को घसीटते हुए दूर झाड़ियों में फेंक आया था। बच्ची के गायब होने के बाद परिजन पुलिस के पा पहुंचे। पुलिस ने तत्काल एक्शन लिया और जब जांच की तो वही रहने वाले डॉ दीपक यादव के घर पर लगे सीसीटीवी में आरोपी बच्ची को ले जाते दिखा , फार थोड़ी देर बाद वो वापस बिना बच्ची के शादी में आता दिखा। पुलिस ने तत्काल दूसरे ही दिन आरोपी जितेंद्र को पकड़ लिए और जब पूछताछ की तो वो टूट गया और जुर्म कुबूल करते हुए बच्ची के शव को झाड़ियों से बरामद करवा दिया। आरोपी की गिरफ़्तारी और शव के पीएम के बाद पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने अधिकारियों कर्मचारियों और एफएसएल को तत्काल सरे सुबूत जुटाने के निर्देश दिए। इसके बाद पुलिस ने घटना स्थल से मिले सुबूत की ब्लड , डीएनए जांच सहित कुल 28 जांच कराई जिसमे घटना की पुष्टि हुई उसके बाद केस डायरी कोर्ट में पेश की गई। जिसमे मात्र 15 दिन में 33 गवाहों के बयान सुनने और [पुलिस द्वारा पेश की गई जांच रिपोर्ट और साक्ष्यों को देखने के बाद माननीय स्पेशल कोर्ट ने 27 जुलाई को आरोपी जितेंद्र कुशवाह को फांसी की सजा सुना दी।

Updated : 2018-08-04T22:33:36+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top