Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > भोपाल > निपाह वायरस से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जारी की एडवाइजरी

निपाह वायरस से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जारी की एडवाइजरी

निपाह वायरस से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जारी की एडवाइजरी
X

भोपाल। निपाह वायरस से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जनसामान्य के लिए एडवाइजरी जारी की है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि निपाह वायरस एक घातक वायरल बीमारी है, जो कि चमगादड़ द्वारा फैलती है। इस वायरस का स्त्रोत चमगादड़ के रक्त मे पाया गया है लेकिन इससे चमगादड़ की मृत्यु नहीं होती। चमगादड़ द्वारा खाए गए फलों को अन्य जीव जन्तु एवं मनुष्यों के खाने पर यह बीमारी उनमें फैलती है तथा इससे मृत्यु भी हो सकती हैं। अभी तक यह बीमारी सुअरों और मनुष्यों मे ही पाई गई है।

हम आपको बता दें कि तेज बुखार, सिरदर्द, बदन दर्द, खांसी, सांस लेने मे तकलीफ, बैचेनी, सुस्ती, बेहोशी, उल्टी-दस्त निपाह वायरस के लक्षण है। निपाह वायरस की जांच के लिए भारत सरकार द्वारा वर्तमान मे एनआईवी पुणे बायोलॉजी लैब को चयनित किया गया है, जिसमे संदिग्ध रोगियों के रक्त, मूत्र, गले की लार तथा सीएसएफ के नमूनो का वायरोलोजी परीक्षण किया जाता है। संदिग्ध लक्षण वाले मरीजों को तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर संपर्क करने की सलाह दी है।

जनसामान्य को सलाह दी गई कि चमगादड़ वाले क्षेत्रों में चमगादड़ के कुतरे फलों को न खाएं और न ही पेड पर लटकी ताड़ी का सेवन करें। इसी प्रकार बाजार से लाए गए फलों की जांच कर लें कि कहीं वे कुतरे तो नहीं गए हैं। यदि ऐसा हो तो तत्काल उन फलों को फेंक दें, उनका सेवन न करें। लंबे समय से बंद तहखाने एवं कुओं में जहां चमगादड हो सकती है, वहां नहीं जाने की सलाह दी गई है। निपाह रोग से संक्रमित व्यक्ति से दूर रहने तथा रोग की शंका होने पर तत्काल चिकित्सक से सम्पर्क करने के लिए कहा गया है।

Updated : 20 Jun 2019 8:31 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top