Top
Home > Lead Story > सीएए पर जंग : देश भर में प्रदर्शन, दिल्ली के कई इलाकों में मेट्रो-इंटरनेट बंद

सीएए पर जंग : देश भर में प्रदर्शन, दिल्ली के कई इलाकों में मेट्रो-इंटरनेट बंद

सीएए पर जंग : देश भर में प्रदर्शन, दिल्ली के कई इलाकों में मेट्रो-इंटरनेट बंद

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन एक्ट-2019 के विरोध में गुरुवार को राष्ट्रीय राजधानी सहित देश के कई राज्यों में कई जगहों पर प्रदर्शन और मार्च निकाले जा रहे हैं। दिल्ली में लाल किला से आईटीओ तक और मंडी हाउस से संसद मार्ग तक बड़े मार्च किये जा रहे हैं। हालांकि दिल्ली पुलिस ने इस मार्च को अनुमति नहीं दी है। दिल्ली पुलिस ने स्वराज्य इंडिया के अध्यक्ष सहित छह लोगों को हिरासत में लिया है। कई इलाकों में इंटरनेट बंद होने पर कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्विट किया है कि मेट्रो स्टेशन बंद हैं। इंटरनेट बंद है। हर जगह धारा 144 लागू है। किसी भी जगह आवाज उठाने की इजाजत नहीं है। जिन्होंने आज टैक्सपेयर्स का पैसा खर्च करके करोड़ों का विज्ञापन लोगों को समझाने के लिए निकाला है, वही लोग आज जनता की आवाज से इतना बौखलाए हुए हैं कि सबकी आवाजें बंद कर रहे हैं।

दिल्ली में 13 मेट्रो स्टेशन बंद, धारा 144 लागू

दिल्ली मेट्रो ने 13 स्टेशनों पर प्रवेश और निकासी पर रोक लगा दी है। जिन 13 मेट्रो स्टेशनों को बंद किया गया है उनमें, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, जसोला विहार, शाहीन बाग, मुनिरका, लाल किला, जामा मस्जिद, चांदनी चौक, विश्वविद्यालय, पटेल चौक, लोक कल्याण मार्ग, उद्योग भवन, आईटीओ, प्रगति मैदान और खान मार्केट हैं। डीएमआरसी ने ट्वीट कर जानकारी दी कि लाल किला, जामा मस्जिद, चांदनी चौक और विश्वविद्यालय के प्रवेश और निकास द्वार बंद किए गए हैं। इन स्टेशनों पर ट्रेन नहीं रूकेगी। इसके अलावा जामिया मिल्लिया इस्लामिया, जसोला विहार, शाहीन बाग और मुनीरका स्टेशनों के द्वार भी बंद किए गए हैं। इन स्टेशनों पर भी ट्रेन नहीं रूकेगी। दिल्ली पुलिस ने कम्युनिस्ट पार्टी को भी मंडी हाउस से जंतर-मंतर तक नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन मार्च की इजाजत नहीं दी है। इसके अलावा लाल किला के आस-पास धारा 144 लागू कर दी गई है। मंडी हाउस से संसद मार्ग तक निकाले जाने वाले मार्च के चलते मंडी हाउस के आसपास धारा 144 लागू करके मेट्रो स्टेशन बंद कर दिया गया है।

अलग-अलग जगह प्रदर्शन

गुरुवार सुबह एक फिर जामा मस्जिद व आज-पास के लोगों में लोग इकठ्ठा होकर प्रदर्शन कर रहे हैं। मध्य जिले के सीलमपुर, जामिया, ओखला, आईटीओ में पुलिस बल तैनात कर दिया है। दिल्ली ने सीसीए के विरोध में प्रदर्शन कर रहे उमर खालिद और कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित को हिरासत में ले लिया गया है। मंगलवार को दिल्ली के सीलमपुर में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन किया गया था। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने पत्थरबाजी करके गाड़ियों में तोड़फोड़ की और आग के हवाले कर दिया। साथ ही दो पुलिस बूथ फूंके और एक थाने में भी आग लगाने का प्रयास किया। भीड़ ने पुलिस को खदेड़ दिया और कुछ घंटे के बाद प्रदर्शन शांत हुआ लेकिन इलाके में तनाव को देखते हुए भारी सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है।

बिहार बंद: कई जगह ट्रेनें रोकीं, आंदोलनकारियों से निपटने को पुलिस बल सतर्क

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और एनआरसी के खिलाफ वामदलों के बंद का असर बिहार में दिखना शुरू हो गया है। पटना के राजेन्द्र नगर टर्मिनल के बाहर बंद समर्थकों ने एंबुलेंस में तोड़फोड़ की और बक्सर स्टेशन पर ट्रेन रोक कर प्रदर्शन किया। सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर प्रदर्शनकारियों ने फरक्का एक्सप्रेस को घंटों रोके रखा। खगड़िया, जहानाबाद, आरा में ट्रेनें रोकीं तो वैशाली में बंद समर्थक सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन कर रहे हैं। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ वाम दलों के इस बिहार बंद काे वाम दलों तथा कई विपक्षी पार्टियों का समर्थन है। इसमें सबसे ज्यादा पटना में जाप के कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन करते हुए सड़क पर उतरे हैं। बंद करवाने के लिए हाजीपुर में तो जाप के कार्यकर्ता साड़ी पहनकर गांधी सेतु पर ही डीजे की धुन पर नाचते हुए नजर आ रहे हैं। इसकी वजह से सैकड़ों गाड़ियों की लंबी लाइन लग गई है और भयंकर जाम की स्थिति उत्पन्न हो गई है। पटना के लगभग सभी स्कूल आज बंद किये गए हैं। हाल ही में दिल्ली में बच्चों की एक स्कूल बस पर पत्थर फेंकने से सहमे यहां के स्कूलों के प्रबंधन ने ऐसा कदम उठाया है। विपक्षी दलों के बिहार बंद को देखते हुए प्रशासन भी पूरी तरह से मुस्तैद है। पटना एसपी ने तो सभी थानेदारों को यहां तक आदेश दिया है कि हुड़दंग करने वालों के खिलाफ टाइट एक्शन लिया जाए।

एनएच-31 और 28 पर आवागमन ठप

एनआरसी और सीएए के विरोध में एनएच-31 और 28 पर आवागमन ठप होने से वाहनों की 40 किलोमीटर लंबी कतार लग गई है। बिहार बंद का बेगूसराय में काफी असरदार है। यहां सुबह से ही भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, माले, जन अधिकार पार्टी, लोक समता पार्टी आदि के कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए हैं। बेगूसराय, बलिया एवं जीरोमाइल में एनएच पर धरना देकर यातायात पूरी तरह से ठप कर दिया। इसके कारण साहेबपुर कमाल से बछवाड़ा तक एनएच-31 एवं 28 पर वाहनों की लंबी कतार लगी हुई हैं। शहर मुख्यालय के सुभाष चौक पर जन अधिकार पार्टी के कार्यकर्ताओं ने टायर जलाकर यातायात पूरी तरह से ठप कर दिया। इसके कारण एंबुलेंस एवं दाह संस्कार में जाने वाले वाहनों को भी निकलने में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ा तथा वे लोग आरजू-मिन्नत कर किसी तरह बाहर निकले। रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ एवं जीआरपी द्वारा सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं।

बिहार के खगड़िया में रोकी ट्रेन

पूर्व सांसद पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी और युवा शक्ति के कार्यकर्ताओं ने अपने बिहार बंद कार्यक्रम के तहत गुरुवार को खगड़िया जंक्शन पर ट्रेनों की आवाजाही बाधित कर प्रदर्शन किया। जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव जी के आह्वान पर युवा शक्ति के प्रदेश अध्यक्ष नागेंद्र सिंह त्यागी के नेतृत्व में खगड़िया बंद किया गया। बंद के दौरान सैकड़ों की संख्या में जन अधिकार पार्टी (लो), युवा शक्ति एवं छात्र परिषद के छात्र, युवाओं ने नागरिकता कानून को काला कानून बताया और इसके विरोध में आक्रोश व्यक्त किया। प्रदर्शन के दौरान खगड़िया जंक्शन पर समस्तीपुर सहरसा सवारी गाड़ी सहित कुछ ट्रेनों का आवागमन प्रभावित हुआ। ट्रेन रोकने के बाद सभी कार्यकर्ता खगड़िया बाजार बंद कराने लगे।

बंद का भोपाल में असर नहीं, धारा 144 लागू

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में देशभर में वामदलों के गुरुवार को बंद के आह्वान का असर मध्‍यप्रदेश की राजधानी भोपाल में देखने में नहीं मिला। यहां चल रहे विधानसभा सत्र को देखते हुए और पूरी तरह से शांति बहाली को लेकर भोपाल में धारा 144 लगा दी गयी है। भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने सोशल मीडिया और अन्य सोशल प्लेटफॉर्म पर आपत्तिजनक मैसेज या फ़ोटो भेजने को लेकर सख्त हिदायत भी दी है। पुलिस मुख्‍यालय के अनुसार प्रदेश भर में शांति एवं कानून व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए सुरक्षा के पुख्‍ता इंतजाम किए गए हैं। इसके लिए बुधवार को ही अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक इंटेलिजेंस डॉ.एस.डब्‍ल्‍यू. नकवी ने वीडियो कॉन्‍फ्रेसिंग के जरिए प्रदेश के सभी क्षेत्रीय पुलिस महानिरीक्षकों एवं पुलिस अधीक्षकों को कानून-व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए 24 घंटे सतर्क रहने के आवश्‍यक दिशा निर्देश दे दिए थे। पुलिस सबसे ज्‍यादा फोकस राजधानी भोपाल सहित इंदौर, जबलपुर, उज्‍जैन, देवास, खंडवा, बुरहानपुर, दमोह, सिवनी और अशोकनगर जिलों पर कर रही है। इसके लिए अगले आदेश तक के लिए सभी पुलिसकर्मियों के अवकाश निरस्त कर दिए हैं।

Updated : 19 Dec 2019 7:53 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top