Top
Home > Lead Story > मंदसौर दुष्कर्म मामला : प्रधानमंत्री मोदी ने की कानून व्यवस्था की तारीफ

मंदसौर दुष्कर्म मामला : प्रधानमंत्री मोदी ने की कानून व्यवस्था की तारीफ

मंदसौर दुष्कर्म मामला : प्रधानमंत्री  मोदी ने की कानून व्यवस्था की तारीफ
X

अहमदाबाद। गुजरात के एक दिवसीय प्रवास पर आये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वलसाड के बाद जूनागढ़ से सीधे राज्य के पाटनगर गांधीनगर स्थित गुजरात फोरेंसिक सायंस यूनिवर्सिटी के चोथे स्नातक समारोह में पहुंचे। मोदी ने कहा कि फोरेंसिक साइंस, पुलिस और न्यायपालिका इन तीनों आपराधिक न्याय वितरण प्रणाली का अभिन्न अंग है। वह देश जिसमें तीन अंग उन देशों के रूप में मजबूत हैं, नागरिक अधिक सुरक्षित होंगे और आपराधिक गतिविधि नियंत्रण में बनी रहेगी।

मोदी ने 31 स्वर्ण पदक विजेता छात्रों को सम्मानित किया। इससे पहले स्नातक समारोह रद्द होने की वजह से भारी चर्चा का विषय बना हुआ था। यहां वे साइबर डिफेंस सेंटर और बेलिस्टिक रिसर्च सेंटर की यात्रा करेंगे। उसके बाद, विश्वविद्यालय के 31 स्वर्ण पदक विजेता छात्रों को पदक की डिग्री मिलेगी। प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा के चलते समग्र गांधीनगर को पुलिस की छावनी में तबदील कर दिया गया था। मोदी ने गुजरात फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी के स्नातक समारोह में हिस्सा लिया और कहा कि इंटरनेट के माध्यम से जीवन आसान हो गया है, लेकिन जीएनएफयू इस पर काम करता है तो अपराध और नस्लवाद गिर सकता है।

मोदी ने कहा कि इस विचार के साथ, गुजरात में सभी तीन स्तंभ विकसित करने के लिए काम शुरू किया गया था। रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय, लॉ विश्वविद्यालय और फोरेंसिक विश्वविद्यालय कानून में एक तरह से जुड़े हुए हैं। आज के बदले समाज में, अपराधी अपने अपराध छिपाने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसी परिस्थितियों में यह इतना महत्वपूर्ण है कि सभी को पता होना चाहिए कि यदि वे गलत करते हैं तो वे पकड़े जाएंगे। गिरफ्तार करने और सिद्ध अपराध का डर अपराध को नियंत्रित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इसमें, फोरेंसिक विज्ञान की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती है।

हम आपको बता दे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी के चतुर्थ कॉन्वोकेशन समारोह में मंदसौर प्रशासन व कानून व्यवस्था की तारीफ की। उन्होंने कहा कि आप सभी ने पिछले दिनों पेपरों में पढ़ा होगा। मंदसौर में नाबालिग बालिका के साथ घटित घटना पर दोनों आरोपियों को वहां की कानून व्यवस्था एवं अदालत ने सिर्फ 2 माह के अंदर दोनों अपराधियों को फांसी की सजा सुनाई।

दरअसल, पीएम नरेन्द्र मोदी गत दिवस गुजरात फॉरेसिंक साइंस यूनिवर्सिटी के चतुर्थ समारोह में शामिल हुए थे। इस दौरान उन्होंने मध्यप्रदेश की कानून व्यवस्था की सराहना की। उन्होंने खासकर मदंसौर दुष्कर्म मामले का जिक्र करते हुए जिला प्रशासन की भी तारीफ की। इससे पहले मध्य प्रदेश में ही कटनी जिले ने सिर्फ 5 दिन के अंदर इस तरह के अपराधियों को फांसी की सजा सुनाई। इस तरह के मामले में तुरंत कार्यवाही करने में राजस्थान की अदालतों ने भी अपनी सराहनीय भूमिका निभाई। फॉरेंसिक साइंस एवं आप जैसे एक्सपर्ट व्यक्ति ऐसे क्षेत्र में बड़ी सेवाएं एवं अपना प्रभाव पैदा कर सकते हैं। इस तरह के मामलों में कानून को कड़ा किया एवं पुलिस ने अपनी जांच की, लेकिन फॉरेंसिक साइंस ने अदालत को जल्द फैसला लेने का एक मजबूत साइंटिफिक सपोर्ट सिस्टम दिया।

Updated : 2018-08-24T20:42:12+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top