Top
Home > Lead Story > कांग्रेस में अध्यक्ष पद का तिलिस्म बरकरार

कांग्रेस में अध्यक्ष पद का तिलिस्म बरकरार

प्रियंका महासचिव के पद पर ही काम करती रहेंगी

कांग्रेस में अध्यक्ष पद का तिलिस्म बरकरार
X

नई दिल्ली/स्वदेश वेब डेस्क। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने अध्यक्ष पद से तौवा करते हुए साफतौर पर कहा कि वे इस पद के लिए उपयुक्त नहीं हैं और न ही विकल्प हैं। पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने जब उनसे अध्यक्ष पद स्वीकारने का आगृह किया तो उन्होंने सिरे से खारिज करते हुए कहा कि अध्यक्ष पद का तो सवाल ही पैदा नहीं होता। कांग्रेस में अध्यक्ष पद के लिए रस्साकशी जारी है। राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफे बाद पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने अभी भी उम्मीद नहीं छोड़ी है। कुछ वरिष्ठ व अनुभवी नेताओं को लगता है कि गांधी परिवार से ही कोई व्यक्ति अध्यक्ष बनना चाहिए और यह संभव है। उत्तर प्रदेश के सोनभद्र हत्याकांड मामले में प्रियंका गांधी वाड्रा ने जिस तरह की सक्रियता दिखाई है, उससे पार्टी के अंदर इस तरह हवा दी गई वे जल्द ही इस पद आसीन हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि वे पार्टी में महासचिव के पद पर आगे भी काम करती रहेंगी। बताया जा रहा है कि कांग्रेस के सात वरिष्ठ नेताओं को एक बंद लिफाफे में नाम तय करने को गया है जिनमें मल्लिकार्जुन खड़गे, सुशील कुमार शिंदे, दिग्विजय सिंह, कुमारी शैलजा, मुकुल वासनिक, सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम शामिल हैं।

पिछले एक माह से ज्यादा समय बीतने के बावजूद कांग्रेस अभी तक अपने नए नेता का नाम तय नहीं कर पाई है। वरिष्ठ नेता इस तरह की व्याप्त गतिशून्यता को ठीक नहीं माान रहे। तभी माना जा रहा है कि संसद के मानसून सत्र के बाद पार्टी जल्द कार्यसमिति की बैठक बुलाएगी। बैठक की तिथि संसद के मानसून सत्र की समाप्ति पर निर्भर करता है। क्योंकि इस तरह की चर्चा है कि कुछ विधेयक पारित नहीं होने के कारण संसद के सत्र को बढ़ाया जा सकता है। बैठक के दौरान कांग्रेस पहले अपने अंतरिम अध्यक्ष का चुनाव करेगी। इसके बाद आंतरिक चुनाव करवाए जाएंगे। कार्यसमिति के अध्यक्षों की अवधारणा तब तक संभव नहीं है, जब तक कि पार्टी का अध्यक्ष या अंतरिम अध्यक्ष इससे सहमत नहीं हो। पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने सार्वजनिक तौर पर अपनी इच्छा जाहिर की थी कि राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद प्रियंका गांधी को बागडोर अपने हाथ में लेनी चाहिए। बहरहाल, अभी तक राहुल गांधी की वापसी का इंतजार किया जा रहा है। राहुल गांधी के वापस आते ही सीडब्ल्यूसी की बैठक आहूत की जाएगी, जिसमें कांग्रेस अध्यक्ष पद और पार्टी की भविष्य की योजनाओं पर विचार किया जाएगा।

Updated : 2019-07-26T19:19:12+05:30
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top