Top
Home > Lead Story > रविशंकर प्रसाद ने कहा - देश विरोधी टुकड़े-टुकड़े गैंग पर होती रहेगी कार्रवाई

रविशंकर प्रसाद ने कहा - देश विरोधी टुकड़े-टुकड़े गैंग पर होती रहेगी कार्रवाई

रविशंकर प्रसाद ने कहा - देश विरोधी टुकड़े-टुकड़े गैंग पर होती रहेगी कार्रवाई
X

नई दिल्ली। लोकसभा ने पुराने और अप्रभावी 58 कानूनों को निरस्त करने के लिए निरसन और संशोधन विधेयक, 2019 सोमवार को पारित कर दिया। इस दौरान केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि देशद्रोह से जुड़े कानून को लेकर सरकार की सोच कांग्रेस से अलग है और हम 'भारत तेरे टुकड़े होंगे, इंशा अल्ला, इंशा अल्ला कहने वालों के खिलाफ' देशद्रोह का मामला चलाएंगे।

विधेयक पर चर्चा के दौरान कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि बीते 5 साल में 200 लोगों को राजद्रोह संबंधी कानून के तहत गिरफ्तार किया गया है। अंग्रेजों ने इसका इस्तेमाल गांधी, नेहरू, भगत सिंह के खिलाफ इस्तेमाल किया था। अब इसका इस्तेमाल जेएनयू के छात्रों के खिलाफ हो रहा है। अब इस कानून को निरस्त कर देना चाहिए।

केन्द्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने विधेयक पर कहा कि राजद्रोह की धारा हटाए जाने को लेकर उनकी सरकार की सोच कांग्रेस की सोच से अलग है। उनका मानना है कि देश की अखंडता को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

विधेयक को चर्चा के लिए पेश करते हुए केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने पुराने और अप्रभावी कानूनों को खत्म करने की एक नई परंपरा शुरू की है। अबतक सरकार 1458 ऐसे पुराने कानूनों को निरस्त कर चुकी है। यह क्रम आगे भी जारी है और अब सरकार 58 कानूनों को निरस्त करने के लिए विधेयक लाई है।

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने चर्चा के दौरान कहा कि पुराने कानूनों को हटाने के साथ-साथ सरकार को कार्यपालिका को शिक्षित भी करना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट कई मामलों में व्यवस्था दे चुका है, लेकिन पुलिस जानकारी के अभाव में पुराने ढंग से ही काम कर रही है। सरकार के पुराने कानूनों को हटाने की प्रयासों की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि तार्किक ढंग से चलते हुए हमें इन प्रयासों को गति देनी चाहिए। उन्होंने शादी के भीतर बलात्कार को बलात्कार नहीं मानने, इंडिया फेक्ट्री एक्ट, सिनेमेटोग्राफी एक्ट, सराय एक्ट जैसे कई कानूनों में सरकार से बदलाव करने की मांग की।

Updated : 29 July 2019 5:03 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top