Top
Home > Lead Story > स्वतंत्रता दिवस पर सुरक्षा एजेंसियों ने किया विशेष इंतजाम, तीसरी आंख की नजर हर एक पर

स्वतंत्रता दिवस पर सुरक्षा एजेंसियों ने किया विशेष इंतजाम, तीसरी आंख की नजर हर एक पर

स्वतंत्रता दिवस पर सुरक्षा एजेंसियों ने किया विशेष इंतजाम, तीसरी आंख की नजर हर एक पर
X

नई दिल्ली। स्वतंत्रता दिवस पर सुरक्षा एजेंसियों ने विशेष इंतजाम कर लिए हैं। इसको लेकर ट्रॉयल भी हो चुका है। लाल किले की सुरक्षा का जिम्मा हर बार की तरह से इस बार एसपीजी को सौंपा गया, जो जमीन से आसमां तक हर एक चीज पर निगाह रखकर उसको पूरी तरह से नष्ट करने में सक्षम हैं।

अत्याधुनिक हथियारों से लैस एनएसजी को 24 घंटे पहले ही लाल किला पूरी तरह से सौंप दिया जाएगा। जिनकी इजाजत के अंदर व परिसर में आया जा सकता है। सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए लाल किले से अकबर रोड के बीच दो हजार से ज्यादा हाईटेक नाइट विजन सीसीटीवी कैमरों को लगाया गया है, जिनके आधा दर्जन से ज्यादा कंट्रोल रूम भी बनाए गए हैं। हर एक पर इनसे नजर रखी जा रही है।

दरियागंज चौक से लाल किले तक चार सुरक्षा घेरे

दरियागंज चौक से लेकर लाल किले तक चार सुरक्षा के घेरे में एनएसजी, स्वॉट महिला व पुरुष कमांडो, अर्धसैनिक बल और दिल्ली पुलिस को रखा गया है। ये सभी अत्याधुनिक हथियारों से लैस होंगे। जिनको आदेश तीन से चार गुप्त तरीके से बनाए गए कंट्रोल रूम से मिलेगा। दरियागंज चौक पर दिल्ली पुलिस के कमांडो पहली सुरक्षा घेरे में जबकि लाल किले पर एनएसजी के कमांडो होंगे। ग्राउंड तक पहुंचने के लिए दर्शकों को पानी आदि ले जाना मना होगा क्योंकि कुछ सूचनाएं ऐसी भी मिली हैं जिनमें बताया गया है कि पानी जैसे एसिड से भी हमला कर स्वतंत्रता दिवस पर दहशत फैलाने की योजना हो सकती हैं।

अकबर रोड से लाल किले के रास्ते के बीच की हर एक खिड़की की गई है सील

प्रधानमंत्री आवास से लेकर इंडिया गेट, आईटीओ, दिल्ली गेट, दरियागंज, जामा मस्जिद, लाल किला, राजघाट के बीच आने वाली छोटी बड़ी इमारत की एक खिड़की को सील कर दिया गया है। जिनपर कमाडों को तैनात किया गया है। जिनकी नजरें दूर दूर तक दूरबीन से होगीं। किसी को भी प्रधानमंत्री के भाषण समाप्ति तक बिल्डिंग पर आने नहीं दिया जाएगा। अगर इस वक्त कोई भी व्यक्ति इसका विरोध करता है तो उसको गोली मारने या फिर गिरफ्तार किया जा सकता है।

सुरक्षा विभाग एक दूसरे के संपर्क में

भारत से लगे पाकिस्तान, चीन, बंगलादेश, नेपाल आदि बॉर्डर पर मिलिट्री को चौकस रहने और निर्देश मिलते ही दुश्मन पर आक्रमण करने के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया है। चीन से सटे बॉर्डर को छोड़कर बाकी सभी बॉर्डर से आतंकवादी भारत में घुसने की कोशिश कर करते हैं। जिनको लेकर नेपाल,बंगलादेश के बॉर्डर पर तैनात उनकी सेना से सहायता लेकर आतंकवादियों को पकड़ने की कोशिश की जा रही है। इसमें डिफेंी शाखाओं को भी आपातकालीन समय में तैनात रहने के निर्देश दिये गए हैं, जिनको निर्देश मिलते ही अपनी कार्यवाई को अंजाम देना है।

प्रधानमंत्री का रास्ता गुप्त

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किस रास्ते से आकर लाल किला पहुंचेंगे। किसी को नहीं पता है। उनके रूट को पूरी तरह से सुरक्षा कारणों से गुप्त रखा गया है। आखिरी समय में उनके रूट को बदला भी जा सकता है। इस रूट के बारे में सिर्फ एक दो टीम को ही जानकारी होती है। इसको लेकर लाल किला पहुंचने वाले सभी रूट को पूरी तरह से एक किलोमीटर तक पूरी तरह से बंद कर सुरक्षाकर्मियों को तैनात कर दिया जाता है।

लालकिला के आसपास का एरिया अर्धसैनिक को सौंपा

लाल किला की सुरक्षा को लेकर सोमवार को ही चांदनी चौक और इसके आसपास के एरिया को पूरी तरह से सील कर दिया गया। इन एरिया को अर्धसैनिक बलों और उनके कमांडों को सौंप दिया है। करीब पांच बटालियन इन एरिया में तैनात की गई है।

दिल्ली के बॉर्डर एक दिन पहले बंद

दिल्ली के सभी बॉर्डर 20 घंटे पहले पूरी तरह से सभी वाहनों के लिए बंद कर दिये जाएंगे, जिससे कोई भी सुरक्षा में सेंधमारी नहीं कर पाएं क्योंकि कुछ खुफिया सूचनाओं के तहत आतंकवादी कर्मशियल वाहन या फिर कार में विस्फोटक लाकर योजना को अंजाम दे सकते हैं।

अरब देशों से आने जाने वालों पर निगाह

गल्फ देशों से आने जाने वालों पर विशेषतौर पर निगाह रखी जा रही है। एयरपोर्ट पर उनके आने का कारण और उनके पासपोर्ट आदि के बारे में गहन जांच की जा रही है। पीसीओ मालिकों से भी कहा गया है कि गल्फ देशों को की जाने वाली कॉल की डिटेल करने वाले के बारे में पूरी जानकारी और पहचान पत्र जरूर रखें।

इसी तरह से छोटे-बड़े होटल व गेस्ट हाउस एसोसिएशन से मीटिंग कर उनको निर्देश देकर सुरक्षा में सहयोग करने की बात कही गई है। साथ ही उनको सीसीटीवी कैमरों की दो महीने की फुटेज रखने, हर एक आने जाने वाले पर निगाह रखने की बात कही गई है।

लाल किले के एक किलोमीटर के घेरे में फोन सेवा होगी प्रभावित

प्रधानमंत्री जब लाल किले से देश को संबोधित करेंगे, उससे करीब आधा घंटा पहले और बाद तक मोबाइल फोन सेवाएं प्रभावित हो जाएगी ताकि कोई उस वक्त फोन पर संपर्क कर अपनी योजना को अंजाम देने की कोशिश करे तो उसका संपर्क नहीं हो पाएं। सूत्रों की मानें तो असल में आजकल इस तरह के हथियार इस्तेमाल किये जा रहे हैं, जिनको बड़ी पतंग में चाइनीज मांझे में बांधकर छोड़ा जा सकता है। या फिर मोबाइल फोन को ही एक बम के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। उसके लिए बस एक बार उस फोन पर घंटी बजानी होती है। इसको देखते जैमर की सहायता ली जा रही है साथ ही मोबाइल फोन कंपनियों का भी सहयोग लिया जा रहा है।

यातायात के ऐसे है इंतजाम

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि यातायात को लेकर दिल्ली यातायात पुलिस ने दोनों दिनों के लिए कुछ खास दिशा-निर्देश जारी किया है। जिसके अनुसार सोमवार व बुधवार को समारोह स्थल व वहां तक पहुंचने वाली सड़कों पर कुछ खास किस्म की पाबंदियां रहेंगी। छह प्रमुख सड़कों पर यातायात प्रतिबंधित रहेगा, जबकि कुछ अन्य सड़कों पर मार्ग परिवर्तित किया जाएगा।

पुलिस के अनुसार दोनों दिन नेताजी सुभाष मार्ग, लोथियन रोड, एसपी मुखर्जी मार्ग, चांदनी चौक रोड, निषाद राज मार्ग, एस्पलेनैड रोड और इनको जोड़ने वाली अन्य सड़कें सुबह पांच बजे से सुबह नौ बजे तक बंद रहेगी। वहीं, रिहर्सल वाले दिन बिना पार्किग लेबल की गाड़ियों को तिलक मार्ग, मथुरा रोड, बहादुर शाह जफर मार्ग, सुभाष मार्ग, जवाहरलाल नेहरू मार्ग पर निजामुद्दीन ब्रिज से आईएसबीटी ब्रिज के बीच के रास्तों पर जाने की अनुमति नहीं होगी, उन्हें वैकल्पिक मागरे का इस्तेमाल करने की सलाह दी गई है।

इसके अलावा 14 अगस्त की रात 12 बजे से 15 अगस्त की सुबह 11 बजे तक निजामुद्दीन ब्रिज से वजीराबाद ब्रिज के बीच मालवाहक वाहनों की आवाजाही बंद रहेगी। महाराणा प्रताप आईएसबीटी और सराय काले खां के बीच सुबह 4 बजे से सुबह 11 बजे तक अंतरराज्यीय बसों की आवाजाही पर भी रोक रहेगी।

डीटीसी समेत नगर बस सेवा भी 15 अगस्त को सुबह 4 बजे से सुबह 11 बजे तक हनुमान सेतु और भैरों रोड टी प्वाइंट के बीच चलने की इजाजत नहीं होगी। वहीं, लाल किला, जामा मस्जिद और पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन तक चलने वाली बसों का मार्ग या तो छोटा किया जाएगा या बदला जाएगा।

मेट्रो ने भी कसी कमर

दिल्ली मेट्रो रेल निगम द्वारा जारी बयान के अनुसार सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए 14 अगस्त सुबह छह बजे से 15 अगस्त दोपहर दो बजे तक मेट्रो स्टेशनों पर पार्किग की सुविधा उपलब्ध नहीं रहेगी। हालांकि मेट्रो के अंदर प्रवेश या बाहर निकलने पर किसी भी स्टेशन पर कोई भी रोक नहीं रहेगी। डीएमआरसी ने सभी पार्किग ठेकेदारों को स्वच्छ भारत अभियान के तहत पार्किग परिसर की साफ-सफाई करने का निर्देश दिया है।

दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन ने 14 अगस्त को सुबह 6 बजे से 15 अगस्त दोपहर दो बजे तक सभी मेट्रो रेल स्टेशन पर पार्किग को बंद रखने का फैसला किया है। 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सुरक्षा व्यवस्था को दुरूस्त करने के लिए एहतियात के तौर पर मेट्रो ने यह कदम उठाया है।

मेट्रो प्रशासन ने सभी पार्किंग के ठेकेदारों को पार्किग के बंद रहने के समय इसका उपयोग अच्छी साफ सफाई सुनिश्चित करने कहा है ताकि स्वच्छ भारत मिशन को सफल बनाया जा सके। दिल्ली मेट्रो सभी पार्किग स्थल में सफाई का जायजा लेने व इस काम का निरीक्षण करने के लिए अधिकारी तैनात कर रही है।

Updated : 2018-08-14T19:26:27+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top