Top
Home > Lead Story > मोदी वाराणसी से आगे, राहुल अमेठी से पीछे

मोदी वाराणसी से आगे, राहुल अमेठी से पीछे

मोदी वाराणसी से आगे, राहुल अमेठी से पीछे
X

लखनऊ। देश की सरकार उत्तर प्रदेश के रास्ते से होकर जाती है। उत्तर प्रदेश में कुल 80 सीटें हैं। इनकी मतगणना सुबह आठ बजे से शुरू हो गई है । उत्तरप्रदेश में बीजेपी और गठबंधन के बीच कड़ी टक्कर चल रही है, , BJP 24, महागठबंधन 9 और कांग्रेस 4 सीट पर आगे चल रही है। अमेठी से राहुल गांधी पीछे, स्मृति ने बढ़त बना ली है। वाराणसी से नरेन्द्र मोदी आगे चल रहे हैं।

अब देखना है कि रिजल्ट किसके पक्ष में आता है। दिल्ली के सिंहासन पर कौन बैठेगा, इसका निर्धारण 80 संसदीय सीट वाला उत्तर प्रदेश करेगा।मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल़ वेंकटेश्वर लू ने बताया कि 1.63 लाख से ज्यादा ईवीएम में कैद 979 उम्मीदवारों के भाग्य का आज फैसला हो जाएगा। इसके लिए चुनाव आयोग ने चाक-चौबंद व्यवस्था की है। किसी अप्रिय घटना से निपटने के लिए पर्याप्त सुरक्षा बंदोबस्त किए गए हैं।

लू ने बताया कि प्रदेश के 80 लोकसभा क्षेत्रों की मतगणना के लिए सभी 75 जिलों में 77 मतगणना स्थल बनाए गए हैं। आजमगढ़ और कुशीनगर में दो-दो केंद्रों पर मतगणना चल रही है। अन्य जिलों में एक-एक मतगणना स्थल बनाए बने हैं। प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र में विधानसभा क्षेत्रवार मतों की गिनती चल रही है। हर विधानसभा क्षेत्र की मतगणना के लिए 14-14 टेबल और एक आरओ टेबल लगाई गई है। गाजियाबाद में सबसे अधिक मतदाता होने से वहां अतिरिक्त टेबल लगाई गई हैं।

उन्होंने बताया कि काउंटिंग टेबल पर उम्मीदवारों के एजेंट के सामने ईवीएम की सील दिखाकर ईवीएम के नंबर का मिलान हुआ। इसके बाद कंट्रोल यूनिट की सील तोड़कर मतगणना शुरू हुई। ईवीएम के मतों की गणना पूरी होने के बाद हर विधानसभा क्षेत्र की पांच-पांच ईवीएम और वीवीपैट के मतों का मिलान किया जाएगा।

इसके लिए पांच-पांच ईवीएम का चयन संबंधित विधानसभा क्षेत्र के पोलिंग बूथ की पर्चियों में से लॉटरी निकालकर किया जाएगा। वीवीपैट की पर्चियों की गणना और ईवीएम के मतों का मिलान कराया जाएगा। अगर कहीं भी ईवीएम और वीवीपैट के मतों में विरोधाभास है तो वीवीपैट के मतों को अंतिम माना जाएगा। प्रदेश में करीब 200 पोलिंग बूथों पर वीवीपैट को क्लीयर किए बिना ही उसका मतदान में उपयोग किया गया है। ऐसे पोलिंग बूथों के मतों की गणना वीवीपैट की स्लिप से की जाएगी।

लू ने बताया कि ईवीएम को लेकर विपक्षी दलों के आरोपों व सोशल मीडिया पर लगातार वायरल हो रहे संदेशों के बीच उत्तर प्रदेश में निर्वाचन आयोग बेहद मुस्तैद है।

Updated : 23 May 2019 3:46 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top