Top
Home > Lead Story > कोलकाता : हरिदेवपुर में 14 नवजात बच्चों के मिले शव

कोलकाता : हरिदेवपुर में 14 नवजात बच्चों के मिले शव

कोलकाता : हरिदेवपुर में 14 नवजात बच्चों के मिले शव
X

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता के हरिदेवपुर थाना अंतर्गत एक खाली प्लॉट से रविवार को 14 नवजात बच्चों के शव बरामद किए गए हैं। ये शव प्लास्टिक के बैग में लपेटकर फेंके गए थे। इस घटना से इलाके में हड़कंप मच गया है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

बेहला के पुलिस उपायुक्त नीलांजन विश्वास ने बताया कि 214 नंबर राजा राममोहन सरणी स्थित 72 बीघा जमीन की सफाई का काम चल रहा था। यह जमीन बाला सरिया समूह की है। इसे तीन ओर से टीन से और एक ओर से दीवार बनाकर घेरा गया था और बीच में एक लोहे की गेट लगी थी। चार-पांच दिनों से 10 से 12 की संख्या में श्रमिक जमीन की सफाई के काम में जुटे थे, जिस पर निर्माण कार्य होना था। इस दौरान कूड़े व झाड़ियों की सफाई के दौरान श्रमिकों के हाथ में एक प्लास्टिक का बैग आया जिससे दुर्गंध आ रही थी। उसमें से एक नवजात बच्चे का शव बरामद हुआ। इसकी सूचना पुलिस को दी गई। कुछ देर बाद पुलिस की मौजूदगी में जमीन पर तलाशी अभियान शुरू किया गया तो 13 काले प्लास्टिक और मिले, जिसमें से एक-एक नवजात‌ के शव मिले। इनमें से कुछ की हड्डियां बाहर निकल चुकी हैं एवं कुछ 3-4 दिन पहले की फेंकी हुई मालूम पड़ती हैं। एक नवजात के शव को बर्फ में लपेट कर फेंका गया है ताकि सुरक्षित रहे।

पुलिस टीम ने इन सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए एमआर बांगुर अस्पताल में भेजा है। साथ ही पूरे मैदान को घेरकर सघन तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। आसपास के सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले जा रहे हैं ताकि इसे यहां फेंकने वालों के बारे में कोई जानकारी मिल सके। डॉग स्क्वायड की टीम भी मौके पर पहुंची है जो छानबीन कर रही है। हरिदेव थाने के अलावा लाल बाजार स्थित कोलकाता पुलिस मुख्यालय से खुफिया पुलिस की टीम मामले की जांच में जुट गई है।

जांच के दौरान पुलिस ने आसपास का पूरा इलाका छान मारा है, लेकिन इससे जुड़ा कोई भी प्रमाण नहीं मिला, जिससे खाली प्लॉट पर आने-जाने वालों के बारे में पता लगाया जा सके। निकट की एक ऊंची इमारत के प्रवेश द्वार पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। पुलिस उसी फुटेज को तलाशने की कोशिश कर रही है ताकि कोई जानकारी मिल सके।



आसपास के नर्सिंग होम पर संदेह

पुलिस उपायुक्त विश्वास ने बताया कि जमीन के मालिक से पूछताछ की जाएगी। इसके साथ ही जेम्स लॉन्ग सारणी और आस-पास के नर्सिंग होम के प्रबंधकों से भी पूछताछ होगी। प्राथमिक तौर पर आशंका जताई जा रही है कि विभिन्न नर्सिंग होम में मृत बच्चों को लाकर यहां फेंका जाता था। जमीन को टीन से घेरा गया है और कई जगहों पर दो टीनों के बीच इतनी जगह है कि उसमें आदमी घुस सके। अंदाजा लगाया जा रहा है कि उसी जगह से इन बच्चों के शव फेंके गए।

Updated : 2018-09-03T02:14:31+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top