Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > अजय चौटाला दो हफ्ते की फरलो पर तिहाड़ जेल से बाहर

अजय चौटाला दो हफ्ते की फरलो पर तिहाड़ जेल से बाहर

अजय चौटाला दो हफ्ते की फरलो पर तिहाड़ जेल से बाहर

नई दिल्ली। हरियाणा में बनने जा रही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गठबंधन सरकार के प्रमुख घटक जननायक जनता पार्टी (जजपा) अध्यक्ष दुष्यंत चौटाला के पिता अजय चौटाला रविवार सुबह तिहाड़ जेल से बाहर आ गए। उन्हें दो हफ्ते की फरलो मिली है।

दुष्यंत चौटाला रविवार दोपहर 2ः15 बजे दोबारा प्रदेश की कमान संभालने वाले मुख्यमंत्री मनोहर लाल के शपथ ग्रहण समारोह में उप मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। तिहाड़ जेल से बाहर आने पर अजय चौटाला ने कहा, दुष्यंत की अकेली मेहनत रंग लाई है। भगवान इंडियन नेशनल लोकदल के नेताओं को सद्बुद्धि दे। इसके बाद अजय चौटाला अपने समर्थकों के काफिले के साथ रवाना हो गए। उन्होंने हरियाणा के लोगों को दीपावली की बधाई दी ।

अजय चौटाला शिक्षक भर्ती घोटाले में सजा काट रहे हैं। हरियाणा में भाजपा और जजपा ने साथ मिलकर सरकार बनाने का फैसला किया है। दुष्यंत चौटाला ने शुक्रवार दोपहर अजय चौटाला से तिहाड़ जेल में मुलाकात की थी। इस जेल में उनके दादा और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला भी बंद हैं। उल्लेखनीय है कि हरियाणा विधानसभा चुनाव में जजपा ने 10 सीट हासिल की हैं। उन्होंने 40 सीट पाकर बहुमत से दूर सत्तारूढ़ भाजपा को समर्थन दिया है।

फरलो क्या है

वे मुजरिम जो आधी से ज्यादा जेल काट चुका होता है , उसे साल में 4 हफ्ते के लिए फरलो दिया जाता है। फरलो मुजरिम को सामाजिक या पारिवारिक संबंध कायम रखने के लिए दिया जाता है। इनकी अर्जी डीजी जेल के पास भेजी जाती है और इसे गृह विभाग के पास भेजा जाता है और उस पर 12 हफ्ते में निर्णय होता है। एक बार में दो हफ्ते के लिए फरलो दिया जा सकता है और उसे दो हफ्ते के लिए एक्सटेंशन दिया जा सकता है। फरलो मुजरिम का अधिकार होता है, जबकि पैरोल अधिकार के तौर पर नहीं मांगा जा सकता। पैरोल के दौरान मुजरिम जितने दिन भी जेल से बाहर होता है, उतनी अतिरिक्त सजा उसे काटनी होती है। फरलो के दौरान मिली रिहाई सजा में ही शामिल होती है।

अजय चौटाला हरियाणा में जूनियर बेसिक ट्रेंड (JBT) टीचर भर्ती घोटाला मामले में जेल गए। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला और उनके बेटे अजय चौटाला को सीबीआई के स्पेशल कोर्ट ने 10-10 साल की सजा सुनाई थी। इस घोटाले में कुल 55 लोगों को कोर्ट ने दोषी करार दिया था।

Updated : 2019-10-27T15:00:38+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top