Top
Home > Lead Story > दिल्ली छोड़ स्वाति मालीवाल को बिहार की फिक्र, पूछा - नीतीश सर आपकी बेटी होती तो क्या एक्शन नहीं लेते?

दिल्ली छोड़ स्वाति मालीवाल को बिहार की फिक्र, पूछा - नीतीश सर आपकी बेटी होती तो क्या एक्शन नहीं लेते?

दिल्ली छोड़ स्वाति मालीवाल को बिहार की फिक्र,  पूछा - नीतीश सर आपकी बेटी होती तो क्या एक्शन नहीं लेते?
X

नई दिल्ली। बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड पर राजनीतिक बयानबाजी के बीच दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल भी कूद गई है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखकर स्वाति जयहिंद ने कई सवाल दागे हैं। पत्र में स्वाति जयहिंद ने मुख्यमंत्री से सवाल पूछा है कि आपकी बेटी होती तो क्या आप एक्शन नहीं लेते? बिहार सरकार द्वारा मामला सीबीआई को सौंपे जाने के बावजूद दिल्ली महिला आयोग अध्यक्ष का ये पत्र कई सवालों को जन्म दे रहा है।

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल जयहिंद ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखकर निशाना साधा है। स्वाति ने दो पेज के पत्र में कहा कि ' सर आपकी कोई बेटी नहीं है , पर मैं आपसे पूछना चाहती हूँ कि अगर उन 34 लड़कियों में से एक आपकी बेटी होती तो भी आप किसी के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लेते ? आपके इस एक कर्म से आपने देश की करोड़ों महिलाओं और बच्चियों में अपनी इज्जत खोई है।


स्वाति ने खुद को मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड से बहुत आहत और दुखी प्रदर्शित करते हुए पत्र में आगे लिखा ' सर, आज मैं रात में ठीक तरह से सो नहीं पाई। मुजफ्फरपुर के बालिका गृह की बेटियों की चीखें मुझे पिछले कई दिनों से मुझे सुनाई रहीं हैं । उनके दर्द के सामने पूरे देश का सिर शर्म से झुक गया है। मैं चाहकर भी उस दर्द से अपने से अलग नहीं कर पा रही हूँ। मैं जानती हूँ कि बिहार मेरे कार्य क्षेत्र में नहीं आता है लेकिन देश की एक महिला होने के नाते मैं ये खत लिख रही हूँ। आशा है आप मेरा यह खत जरूर पढ़ेंगे।

स्वाति जयहिंद ने पत्र के माध्यम से नीतीश कुमार से बहुत से सवाल पूछे हैं और नीतीश सरकार पर भी बहुत से सवाल खड़े किये हैं। लेकिन अब सवाल ये उठता है कि मामला सामने आने के बाद बिहार सरकार के एक्शन लेने और सीबीआई को जांच सौंपे जाने के बाद ये पत्र क्यों लिखा गया। यदि स्वाति की आत्मा कचोटती और रातों की नींद गायब रहती तो ये पत्र बहुत पहले ही लिख दिया जाना चाहिए था। ऐसा नहीं है कि दिल्ली, महिला और बालिका अपराध से अछूती है। आकड़ों पर जायेंगे तो शायद ही कोई दिन ऐसा होगा जब दिल्ली में महिलाओं और बच्चियों के साथ कोई अपराध नहीं होता हो , लेकिन दिल्ली महिला आयोग अध्यक्ष का 'अधिकार क्षेत्र के बाहर की स्वीकारोक्ति' के साथ इस पत्र को लिखना खुद कई बड़े सवाल खड़े कर रहा है। हो सकता है इसके पीछे कोई राजनैतिक इशारा हो ? हो सकता है कि स्वाति मालिवाल जयहिंद की राजनैतिक महत्वाकांक्षा ने उनसे पत्र लिखवाया हो। बहरहाल पत्र नीतीश तक पहुँच गया है उसपर तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर नीतीश से पूछ भी लिया कि चाचाजी क्या आप इसका जवाब देंगे?. अब ये तो समय ही बताएगा कि स्वाति के पत्र को नीतीश किस रूप में लेते हैं।

Updated : 2018-08-05T23:07:33+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top