Top
Home > Lead Story > पूजा-पाठ के साथ 8 अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर भारतीय वायुसेना में शामिल, IAF की ताकत बढ़ी

पूजा-पाठ के साथ 8 अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर भारतीय वायुसेना में शामिल, IAF की ताकत बढ़ी

पूजा-पाठ के साथ 8 अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर भारतीय वायुसेना में शामिल, IAF की ताकत बढ़ी
X

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना की ताकत एक बार फिर से बढ़ गई, क्योंकि वायुसेना के बेड़े में आज आठ अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर को शामिल किया गया। इससे भारतीय वायुसेना की ताकत और भी घातक हो जाएगी। वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ की मौजूगी में पठानकोट एयरबेस पर भारतीय वायुसेना (आईएएफ) की लड़ाकू क्षमता बढ़ाने के लिए आठ अमेरिका निर्मित 'अपाचे एएच-64ई लड़ाकू हेलीकॉप्टर को आज आईएएफ में शामिल किया गया। अपाचे हेलीकॉप्टर को पूजा-पाठ के साथ भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल किया गया है। इसी के साथ अब अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर उड़ाने वाला दुनिया में भारत 16वां देश बन गया है।

'अपाचे एएच-64ई दुनिया के सबसे उन्नत बहु-भूमिका वाले लड़ाकू हेलीकॉप्टर है और अमेरिकी सेना इसका इस्तेमाल करती है। आईएएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'आठ अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर आईएएफ में शामिल होने जा रहे हैं, जो बल की लड़ाकू क्षमता को बढ़ाएंगे।'

आईएएफ ने 'अपाचे हेलीकॉप्टर के लिए अमेरिकी सरकार और बोइंग लिमिटेड के साथ सितम्बर 2015 में कई अरब डॉलर का अनुबंध किया था। इसके तहत बोइंग ने 27 जुलाई को 22 हेलीकॉप्टर में से पहले चार हेलीकॉप्टर दिए गए थे।'

कई अरब डॉलर का अनुबंध होने के करीब चार वर्ष बाद 'हिंडन एयर बेस में भारतीय वायुसेना को अपाचे हेलीकॉप्टरों के पहले बैच की डिलीवरी की गई थी। कंपनी ने पूरी दुनिया में अपने उपभोक्ताओं को 2200 से अधिक अपाचे हेलीकाप्टरों की आपूर्ति की है और भारत 14वां देश है जिसने उसे अपनी सेना के लिए चुना है।

जानें खासियत-

- अपाचे हेलीकॉप्टर को उड़ाने के लिए दो पायलटों का होना जरूरी है।

- अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर करीब 16 फुट ऊंचा और 18 फुट चौड़ा है।

- भारतीय वायुसेना में अपाचे पहला ऐसा हेलिकॉप्‍टर है जो मुख्य रूप से हमला करने का काम करेगा।

- अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टर दुश्‍मन की किलेबंदी को भेदकर और उसकी सीमा में घुसकर हमला करने में सक्षम है।

- यह हेलिकॉप्टर 300 किमी प्रति घंटा उड़ सकता है और एजीएम-114 हेलिफायर मिसाइल से लैस है।

- ये अपाचे हेलीकॉप्टर्स दिन रात और किसी भी मौसम में ऑपरेशन कर सकते हैं।

- ऊंचे पहाड़ों में बने आतंकी कैंपों और दुश्मन सेना के ठिकानों पर ये हमला करने में सक्षम हैं।

- अपाचे एक बार में पौने तीन घंटे तक उड़ सकता है।

- अपाचे हेलीकॉप्टर को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि इसे रडार पर पकड़ना मुश्किल हो सकता है।

- हेलीकॉप्टर में लगे रायफल में एक बार में 30 एमएम की 1,200 गोलियां भरी जा सकती हैं।

- अपाचे में 16 एंटी टैंक मिसाइल छोड़ने की क्षमता है।

- अपाचे हेलीकॉप्टर करीब 300 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ़्तार से उड़ान भर सकता है और दुश्मन के इलाके में जाकर ये अपने टार्गेट को आसानी से खत्म कर सकता है.

Updated : 2019-09-03T14:52:15+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top