Top
Home > विदेश > डोनाल्ड ट्रम्प और पुतिन के बीच शिखर वार्ता को लेकर राजनीति शुरू

डोनाल्ड ट्रम्प और पुतिन के बीच शिखर वार्ता को लेकर राजनीति शुरू

डोनाल्ड ट्रम्प और पुतिन के बीच शिखर वार्ता को लेकर राजनीति शुरू
X

वाशिंगटन । राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से 16 जुलाई को हेलंसिकी में शिखर वार्ता को लेकर अमेरिका में तीव्र प्रतिक्रिया हो रही है। अमेरिका में रिपब्लिकन सिनेटर और ट्रम्प के धुर विरोधी जान मेकन ने कहा कि ट्रम्प का पुतिन से शिखर वार्ता का कोई औचित्य नहीं है। इसी तरह डेमोक्रेटिक पार्टी के आठ सिनेटरों ने भी मांग की है कि ट्रम्प को पुतिन के साथ वार्ता भंग कर स्वदेश लौट आना चाहिए।

अभी दो दिन पहले म्यूलर जांच पड़ताल में रूस के बारह मिलिट्री ख़ुफ़िया कर्मियों को राष्ट्रपति चुनाव-2016 में हस्तक्षेप किए जाने के आरोप में दोषी क़रार दिया गया है। इस संदर्भ में डेमोक्रेटिक पार्टी के सिनेटरों ने कहा है कि जब रूसी मिलिट्री कर्मियों को पिछले चुनाव में हस्तक्षेप का दोषी क़रार दिया गया है तो ऐसी स्थिति में ट्रम्प के रूस के राष्ट्रपति से मिलने का कोई औचित्य नहीं रह जाता। इसके बावजूद वह शिखर वार्ता में भेंट करते भी हैं तो क्या मज़बूती के साथ पुतिन से यह पूछ सकेंगे कि उन्होंने अपनी मिलिट्री ख़ुफ़िया कर्मियों को अमेरिकी चुनाव में गड़बड़ी करने के लिए क्यों लगाया? जांच रिपोर्ट आने के बाद ट्रम्प ने रूस की निंदा नहीं की है, बल्कि पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की ही निंदा की है।

उधर, विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने कहा है कि राष्ट्रपति को अपने फ़ैसले पर अडिग रहते हुए शिखर वार्ता में भाग लेना चाहिए। जांच रिपोर्ट आने के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प रूसी राष्ट्रपति पुतिन से मिलते हैं तो इससे अमेरिका की ही नाक ऊंची होगी। स्पेशल कोंसेल राबर्ट एस म्यूलर ने शुक्रवार को 29 पन्नों की रिपोर्ट जारी की थी।

Updated : 2018-07-15T16:45:47+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top