Top
Home > विदेश > भारतीय छात्र की हत्या, मुश्किल में विदेश मंत्रालय

भारतीय छात्र की हत्या, मुश्किल में विदेश मंत्रालय

भारतीय छात्र की हत्या, मुश्किल में विदेश मंत्रालय
X

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया में एक भारतीय छात्र की हत्या विदेश मंत्रालय के लिए मुसीबत बनती जा रही है। 19 साल की अनजान गोरी लड़की से दोस्ती करने और उसके साथ समय बिताने के चक्कर में गए 25 वर्षीय भारतीय छात्र की हत्या हो गई। अब उस भारतीय छात्र के शव को भारत लाने के लिए विदेश मंत्रालय को ऑस्ट्रेेलिया में उच्चतम स्तर तक संपर्क करना पड़ रहा है क्योंकि मामला हत्या का है और इसमें आरोप एक 19 साल की गोरी ऑस्ट्रेलियन लड़की पर है। ऑस्ट्रेलिया में भारतीय उच्चायोग ने आशा जताई है कि दिवंगत मौलीन राठौर का शव एक-दो दिन में भारत लाया जा सकेगा।

इस पूरे मामले में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न स्थित भारतीय उच्चायोग को कार्रवाई करने को कहा। भारतीय उच्चायोग ने जब पूरे मामले की जांच की, तो पाया कि गुजरात का मौलीन हीरेन कुमार राठौर चार साल पहले ऑस्ट्रेलिया एकाउंटेंसी पढ़ने आया था। उसने एक ऑनलाइन डेटिंग वेबसाइट के जरिए लड़कियों से दोस्ती की कोशिश की। इस दौरान ऑनलाइन उसकी मुलाकात 18 साल की ऑस्ट्रेलियन लड़की जैमी ली डोल्हेगाय हुई। दोनों के बीच डिनर डेट की बात हुई। लड़की मेलबर्न में ही अकेले रहती थी। मौलीन राठौर रात को 9 बजे उस लड़की से मिलने उसके घर गया। बाद में पुलिस ने मौलीन को गंभीर रूप से घायल पाया और लड़की को गिरफ्तार कर लिया। मौलीन को ऑस्ट्रेलिया के एक अस्पताल में आईसीयू में रखा गया, लेकिन इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

इस दौरान मौलीन के परिजन लगातार विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मौलीन के इलाज और बाद में उसकी मौत होने पर उसके पॉर्थिव शरीर को जल्द से जल्द भारत लाने पर जोर देते रहे लेकिन हत्या का मामला होने के चलते ऑस्ट्रेलिया की जांच एजेंसियां पूरे मामले की छानबीन में जुटी हैं, जिसके चलते मौलीन राठौर के शव को भारत लाने में देर हो रही है।

परिवार ने मदद के लिए लगाई अंतरराष्ट्रीय गुहार:

मौलीन राठौर के परिवार ने अब मौलीन के शव को भारत लाने के खर्चे के लिए ऑस्ट्रेलिया में रह रहे गुजरातियों से मदद मांगी है। इसके लिए बाकायदा एक बैंक अकाउंट भी जारी किया है, जिसमें एनआरआई गुजराती डॉलर जमा कर सकें। जबकि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पहले ही मौलीन राठौर के परिजनों को कह चुकी है कि विदेश मंत्रालय एवं भारत सरकार भारतीय छात्र के शव को लाने का इंतजाम खुद करेगा और इसके लिए मौलीन राठौर के परिवार को पैसे खर्च नहीं करने पड़ेंगे।

Updated : 2018-07-31T15:54:06+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top