Top
Home > मनोरंजन > छपाक को लेकर बोलीं हेमामालिनी - बड़ी मेहनत से बनती है फिल्म, नहीं करना चाहिए विरोध

छपाक को लेकर बोलीं हेमामालिनी - बड़ी मेहनत से बनती है फिल्म, नहीं करना चाहिए विरोध

छपाक को लेकर बोलीं हेमामालिनी - बड़ी मेहनत से बनती है फिल्म, नहीं करना चाहिए विरोध
X

मुंबई। फिल्म छपाक के बारे में हेमामालिनी ने कहा है कि एक कलाकार के रूप में वह कह सकती हैं कि कोई फिल्म कलाकार बड़ी मेहनत से बनाता है। वह चाहता है इसे सब लोग देखें। इसका विरोध नहीं किया जाना चाहिये। जो देखना चाहे, देखें। दीपिका ने बहुत कॉपलीकेटेड रोल किया है। दीपिका के जेएनयू में जाने संबंधी सवाल पर हेमामालिनी ने कहा कि यह उनका निर्णय है, उनसे ही सवाल करिये। मैं इस पर कुछ नहीं बोल सकती।

हेमामालिनी इंडियन बुलियन ज्वैलर्स एसोसिएशन का कॉफी विथ हेमा कार्यक्रम में शामिल होने के बाद मथुरा में पत्रकारों से बात कर रही थीं। उनसे छपाक के बारे में सवाल किया गया तो हेमा ने कहा कि किसी फिल्म में कलाकार द्वारा बड़ी मेहनत की जाती है। देश में अशांति के सवाल पर हेमामालिनी ने कहा कुछ दिन में सब कुछ शांति हो जाएगी। जब अच्छा कार्य शुरू होता है तो कुछ न कुछ अशांत होता है। बाद में सब कुछ सही हो जाता है। उन्होंने समुद्र मंथन का उदाहरण दिया और कहा कि अंत में सब कुछ अच्छा हुआ। इसी तरह यहां पर अंत में सब कुछ अच्छा ही होगा। हर कोई खुश रहेगा।

हेमामालिनी ने कहा कि वह मथुरा में ज्वैलरी पार्क बनवाने का प्रयास करेंगी। इस मुद्दे को वह संसद में भी उठायेंगी। हेमा ने कहा इंडियन ज्वैलरी एसोसिएशन के सम्मेलन में यहां प्रदेश से लोग आये हुए हैं। इन्हें यहां ज्वैलरी पार्क चाहिए। यहां के कारीगर बहुत बढ़िया कार्य करते हैं। पायल आदि बहुत बढ़िया बनाते हैं। काम आजकल थोड़ा सा घटता जा रहा है। उनके काम में उनके परिवार के सदस्य ज्यादा जुड़ नहीं पा रहे। इस कार्य में दो से ढाई लाख लोग जुड़े हुए हैं। उनको तकलीफ न हो और कार्य आगे और अच्छा हो। ये लोग कई समस्याओं से गुजर रहे हैं। जैसे सुरक्षा की, टैक्स की आदि। इन्होंने मांग की है कि मैं इनकी समस्या शासन में संसद में उठाऊं। उन्होंने कहा कि मशीन आने से हाथ का कार्य घटता जा रहा है। उसे बढ़ाने की जरूरत है। ज्वैलरी पार्क बनाया जाएगा। ज्वैलरी पार्क बनने से न केबल ये लोग एक ही जगह रहेंगे, बल्कि प्रदूषण भी काफी कम किया जाएगा। उसे पॉल्यूशन फ्री बनाया जाएगा। यह खयाल रखा जाएगा कि उसका प्रदूषण यमुना में न जाए। वहां एक म्यूजियम भी बनेगा, जिसमें जो-जो कार्य यह कर रहे हैं, उसमें दिखाया जाएगा। जिससे देश को यह मालुम पड़े कि यहां कितना बढ़िया कार्य होता है। लोग यहां आकर म्यूजियम में देखेंगे। ज्वैलरी पार्क का विचार बहुत बढि़या है। मैं निश्चित रूप से इसका प्रयास करूंगी और ज्वैलरी पार्क बनवाने का सपना साकार करूंगी। इसके बाद प्रदेश में अन्य जगह भी प्रयास किया जाएगा। मैं संसद में इनकी सुरक्षा का मुद्दा उठाउंगी। इनका करोड़ों का इन्वेस्टमेंट रहता है, इसलिए इनको सुरक्षा देना जरूरी है।

Updated : 12 Jan 2020 2:53 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top