Top
Home > देश > ट्रेन-18 ने पकड़ी गति, कोटा-सवाई माधोपुर रूट पर 180 किमी प्रतिघंटा से दौड़ी, देखें वीडियो

ट्रेन-18 ने पकड़ी गति, कोटा-सवाई माधोपुर रूट पर 180 किमी प्रतिघंटा से दौड़ी, देखें वीडियो

ट्रेन-18 ने पकड़ी गति, कोटा-सवाई माधोपुर रूट पर 180 किमी प्रतिघंटा से दौड़ी, देखें वीडियो

नई दिल्ली/स्वदेश वेब डेस्क। देश की पहली इंजन रहित सेमी हार्ड स्पीड रेलगाड़ी ट्रेन-18 रविवार को ट्रायल के दौरान 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्रेन के सफल ट्रायल पर खुशी जताते हुए इसका निर्माण करने वाली टीम की प्रशंसा की।

कोटा-सवाई माधोपुर खंड में आज ट्रेन-18 को अनुसंधान अभिकल्प एवं मानक संगठन ब्यूरो (आरडीएसओ) के जांच दल नौ किलोमीटर खंड पर 180 की स्पीड से दौड़ाया। रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि जब 100 करोड़ रुपये की लागत से तैयार यह स्वदेशी ट्रेन यात्रियों के लिए पटरियों पर दौड़ना शुरू करेगी तो यह देश की सबसे तेज दौड़ने वाली ट्रेन बन जाएगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्रेन के ट्रायल का वीडियो ट्विटर पर साझा किया है। इसमें ट्रेन 180 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ रही है और टेबल पर रखी पानी की बोतल स्थिर हैं। उन्होंने ट्वीट संदेश में कहा, "तेज स्पीड का झटका धीरे से लगा: ट्रेन 18 रविवार को ट्रायल के दौरान 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ी। इस रफ्तार के बावजूद पानी की बोतलों की स्थिरता हमारे इंजीनियरों के डिजाइन और कारीगरी और की गुणवत्ता के लिए प्रमाण पत्र है।"


इंटीग्रल कोच फैक्टरी (आईसीएफ) के महाप्रबंधक एस मनी ने कहा कि ट्रेन-18 ने कोटा-सवाई माधोपुर खंड में 180 किमी प्रति घंटे की गति सीमा को तोड़ दिया। अब प्रमुख ट्रायल पूरे हो चुके हैं। हालांकि अभी कुछ और शेष बचे हैं। रिपोर्ट के आधार पर यदि आवश्यकता हुई तो ठीक ट्यूनिंग की जाएगी। अब तक कोई बड़ी तकनीकी समस्या नहीं आई है। उन्होंने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि ट्रेन-18 जनवरी, 2019 से अपनी वाणिज्यिक यात्रा शुरू करेगी। आमतौर पर परीक्षणों में तीन महीने लगते हैं लेकिन अब यह उम्मीद से अधिक तेजी से हो रहा है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी मेक-इन-इंडिया योजना के तहत इस ट्रेन का निर्माण चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्टरी (आईसीएफ) में किया गया है। दिल्ली मेट्रो की तर्ज पर ही इसमें कोच में ही ड्राइवर का कैबिन है। इससे ट्रेन के इंजन को बदलने में लगने वाले समय की बचत होगी। ट्रेन को 100 करोड़ रुपये की लागत से 18 महीने के रिकॉर्ड समय में तैयार किया है।

Updated : 2018-12-03T23:45:44+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top