Top
Home > देश > समाज में किये कार्यों के लिए हमेशा याद रहेंगे भोला बाबू

समाज में किये कार्यों के लिए हमेशा याद रहेंगे भोला बाबू

समाज में किये कार्यों के लिए हमेशा याद रहेंगे भोला बाबू

बेगूसराय/स्वदेश वेब डेस्क। प्रखर वक्ता, संसदीय राजनीति के मानक स्तंभ, इतिहास के प्रोफेसर, बेगूसराय के विकास के प्रतीक भाजपा सांसद डॉ भोला सिंह के अविस्मरणीय योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। 1967 में छात्रहित के सवाल पर निर्दलीय विधायक से राजनीति का ए-बी-सी शुरू करने वाले भोला बाबू कम्युनिस्ट, कांग्रेस, राजद के बाद वर्ष 2000 से भले ही भाजपा के सिपाही थे। लेकिन उनके निधन से हर आम और खास ही नहीं तमाम राजनीतिक दलों के साथ पैतृक गांव दुनही, ससुराल मोहनपुर, ननिहाल खम्हार से लेकर दिल्ली तक हर ओर शोक की लहर फैल गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि भोला सिंह के निधन की खबर से दुखी हूं। समाज के लिए उनके द्वारा किए गए कार्यों की वजह से सदा याद किया जाएगा। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि बिहार की जनता के विकास एवं समस्या निवारण को सदा समर्पित रहा भोला बाबू का जीवन। राज्यसभा सांसद आर के सिन्हा ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि बिहार के राजनीतिक जीवन में खास पहचान रखने वाले भोला बाबू के निधन से मर्माहत हूं। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा कि राजनीति में विचार और व्यवहार से समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचने को समर्पित भोला बाबू के निधन से बेगूसराय लोकसभा ही नहीं बिहार भाजपा को अपूरणीय क्षति हुई है। जिलाधिकारी राहुल कुमार ने टि्वटर पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि भोला बाबू के निधन से बेगूसराय को अपूरणीय क्षति हुई है। इसकी कभी भरपाई नहीं हो सकती। भाजपा जिला अध्यक्ष संजय सिंह ने बताया कि भोला बाबू का शव विमान से दो बजे पटना एयरपोर्ट लाया जा रहा है। वहां से भाजपा कार्यालय एवं विधानसभा में श्रद्धांजलि देने बाद बेगूसराय लाया जाएगा। जहां जनता के अंतिम दर्शन के बाद रविवार को सुबह 10 बजे पावन गंगा तट सिमरिया में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।

तीन जनवरी 1939 को जब तत्कालीन मुंगेर जिला के उतरी सीमांत में स्थित दुनही गांव में बाबू राम प्रताप सिंह के घर किलकारी गूंजी थी तो, किसी को यह नहीं पता था कि यह बालक एक दिन राष्ट्रीय क्षितिज पर छा जाएगा। नाम के अनुरूप पिता द्वारा रखे गए नाम भोला ने बेगूसराय का नाम भारत में रोशन किया। हिंदी के प्रखर वक्ता भोला बाबू के विधानसभा एवं लोकसभा में भाषण के दौरान हर किसी का ध्यान उनके शब्दों पर टिका रहता था। लोकसभा, विधानसभा ही नहीं, क्षेत्र के मंचों पर भी जब भोला बाबू का भाषण शुरू होता था तो सन्नाटा छा जाता था। इधर जिला में राजनीति के अजेय योद्धा भोला बाबू के निधन पर बेगूसराय सदर विधायक अमिता भूषण, बछवाड़ा विधायक रामदेव राय, बखरी विधायक उपेंद्र पासवान, मटिहानी विधायक बोगो सिंह, साहेबपुर कमाल विधायक श्रीनारायण यादव, पूर्व सांसद रामजीवन सिंह, सूरजभान सिंह, मोनाजिर हसन, दलित सेना के प्रदेश अध्यक्ष संजय पासवान, राजद जिलाध्यक्ष अशोक यादव, भाजपा नेता सर्वेश सिंह, लोजपा जिला अध्यक्ष प्रेम पासवान,सवर्ण मोर्चा के राधाकांत ठाकुर, सामाजिक कार्यकर्ता सुभाष कुमार कंगन, नमक सत्याग्रह गौरव यात्रा समिति के मुकेश विक्रम, पूर्व विधान पार्षद तनवीर हसन, रुदल राय, पूर्व विधायक रामानंद राम, सुरेन्द्र मेहता, ललन कुंवर, श्रीकृष्ण सिंह आदि ने कहा कि भोला बाबू के निधन से बेगूसराय ही नहीं, बिहार के एक सशक्त राजनीतिक अध्याय, ओजस्वी वक्ता और अद्वितीय सहयोगी का अंत हो गया है। भोला बाबू जैसा अद्वितीय व्यक्तित्व का धनी बेगूसराय में न कभी हुआ और न होगा।

Updated : 2018-10-20T19:58:46+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top