Top
Home > देश > मॉब लिंचिंग पर मनमोहन सिंह ने कहा - यह गंभीर चिंतन का विषय

'मॉब लिंचिंग' पर मनमोहन सिंह ने कहा - यह गंभीर चिंतन का विषय

मॉब लिंचिंग पर मनमोहन सिंह ने कहा - यह गंभीर चिंतन का विषय
X

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने 'मॉब लिंचिंग' को लेकर मोदी सरकार और भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि पिछले कुछ सालों में घृणा से प्रेरित देश को परेशान करने वाली हिंसक आपराधिक घटनाओं की परंम्परा सामने आई है।

डॉ. सिंह ने सोमवार को कहा कि पिछले कुछ सालों में हमारा देश कुछ परेशान करने वाली परंम्पराओं का गवाह बन रहा है। ये नई परेशान करने वाली प्रवृत्ति, जिसमें असहिष्णुता समाज का सांप्रदायिक ध्रुवीकरण कुछ समुह विशेष द्वारा घृणा से प्रेरित हिंसक आपराधिक घटनाएं और भीड़ के द्वारा कानून को अपने हाथ में लेने की वारदातें शामिल हैं। दुख की बात ये हैं कि इससे केवल और केवल हमारे देश के राष्ट्रीय हित को ही नुकसान होगा। ये गंभीर चिंतन का विषय है कि हम सभी को शांति, राष्ट्रीय एकीकरण और सांप्रदायिक सद्भावना को बढ़ावा देने की आवश्यकता है। हम कैसे साथ आए और इन प्रवृत्तियों को रोकने में अपना योगदान दे सकते हैं।

दिल्ली में राजीव गांधी सद्भावना पुरस्कार समारोह का सोमवार को आयोजन किया गया। इस मौके पर यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. सिंह, वरिष्ठ कांग्रेस नेता कर्ण सिंह और मोतीलाल वोरा मौजूद रहे। जिसमें पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी को सांप्रदायिक सद्भाव और शांति को बढ़ावा देने में अहम योगदान के लिए साल 2017 का राजीव गांधी सद्भावना पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

इसी संबंध में डॉ. सिंह ने गोपाल कृष्ण गांधी के उत्कृष्ट योगदान की सराहना करते हुए कहा कि हम वास्तव में भाग्यशाली हैं कि हमारे बीच गोपाल कृष्ण गांधी जैसे व्यक्ति हैं। जिन्होंने इन प्रवृत्तियों पर बहुत साहस व दृढ़ विश्वास के साथ कई मौकों पर अपनी बात रखी है, जो अन्य लोगों को के लिए मार्ग दर्शक हैं। उन्होंने हमेशा वहीं किया जो राष्ट्रीय हित में उचित है। उन्होंने हमेंशा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नेतृत्व और आदर्श का पालन किया।

वहीं मनमोहन सिंह ने राजीव को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि वह असाधारण व्यक्तित्व थे जिनके राष्ट्र निर्माण में योगदान को देश हमेशा याद रखेगा।

Updated : 2018-08-22T21:25:38+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top