Top
Home > देश > सीबीआई विवाद: आलोक वर्मा ने हाईकोर्ट में दिया हलफनामा, कहा-अस्थाना पर आरोप बेहद गंभीर

सीबीआई विवाद: आलोक वर्मा ने हाईकोर्ट में दिया हलफनामा, कहा-अस्थाना पर आरोप बेहद गंभीर

अस्थाना के खिलाफ निरोधात्मक कार्रवाई पर रोक 14 तक बढ़ी

सीबीआई विवाद: आलोक वर्मा ने हाईकोर्ट में दिया हलफनामा, कहा-अस्थाना पर आरोप बेहद गंभीर
X

नई दिल्ली। सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना की अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर निरस्त करने और कोई भी निरोधात्मक कार्रवाई करने पर रोक लगाने की मांग करने वाली याचिका पर सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा ने दिल्ली हाई कोर्ट में हलफनामा दायर किया है।

आलोक वर्मा ने हलफनामा में कहा है कि अस्थाना के खिलाफ लगे आरोप बेहद गंभीर प्रवृत्ति के हैं। अस्थाना की याचिका को खारिज किया जाए और सीबीआई को भ्रष्टाचार के केस की जांच करने दी जाए, जिससे सच्चाई सामने आ सके। हाईकोर्ट ने राकेश अस्थाना के खिलाफ किसी भी निरोधात्मक कार्रवाई पर लगी रोक 14 दिसम्बर तक बढ़ा दी है ।

पिछले 28 नवम्बर को दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीआई के डायरेक्टर आलोक वर्मा और ज्वायंट डायरेक्टर एके शर्मा को सीवीसी में दर्ज स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ दायर एफआईआर की केस डायरी का निरीक्षण करने की अनुमति दी थी। कोर्ट ने कहा था कि केस डायरी का निरीक्षण के दौरान सीबीआई के एसपी सतीश डागर वहां मौजूद रहेंगे।

कोर्ट ने राकेश अस्थाना के खिलाफ किसी भी कार्यवाही पर लगी रोक को आज तक के लिए बढ़ा दिया था। सुनवाई के दौरान ज्वायंट डायरेक्टर एके शर्मा ने राकेश अस्थाना के केस से संबंधित साक्ष्य और दस्तावेज सीलबंद लिफाफे में हाईकोर्ट को सौंपा था।

19 नवम्बर को हाईकोर्ट ने इस मामले पर विस्तार से सुनवाई नहीं की थी, क्योंकि राकेश अस्थाना और डीएसपी देवेंद्र कुमार की एफआईआर निरस्त करने की याचिका की प्रति सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा को तामील नहीं हो पाई थी।

जस्टिस नाजिम वजीरी ने राकेश अस्थाना के वकील से पूछा था कि याचिका की प्रति आलोक वर्मा को तामील क्यों नहीं हुई । हमने आपके पक्ष में फैसला दिया था और आपने कोर्ट का आदेश भी तामील नहीं किया। हम आपको दी गई छूट को रद्द कर देंगे।

पिछले एक नवम्बर को सीबीआई ने जवाब दाखिल कर राकेश अस्थाना की ओर से एफआईआर निरस्त करने की याचिका का विरोध किया था । सीबीआई ने अपने जवाबी हलफनामे में कहा था कि अस्थाना और अन्य लोगों के खिलाफ रिश्वतखोरी के आरोपों में दर्ज प्राथमिकी संज्ञेय अपराध दिखाती है। सीबीआई ने कहा कि अस्थाना के खिलाफ जांच अभी प्रारंभिक चरण में है,विभिन्न दस्तावेजों और अन्य लोगों की भूमिकाओं की जांच की जा रही है। सीबीआई ने अस्थाना की ओर से लगाए गए सभी आरोपों का खंडन किया था।

Updated : 2018-12-08T23:06:03+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top