Top
Home > देश > भाजपा कार्यकारिणी व मुख्यमंत्रियों का सम्मेलन दिल्ली में

भाजपा कार्यकारिणी व मुख्यमंत्रियों का सम्मेलन दिल्ली में

पार्टी के 14 मुख्यमंत्रियों को मिलेगा चुनावी लक्ष्य

भाजपा कार्यकारिणी व मुख्यमंत्रियों का सम्मेलन दिल्ली में
X

10 करोड़ युवा मतदाताओं से संवाद बनाएंगे युवामोर्चा के कार्यकर्ता

नई दिल्ली, विशेष संवाददाता। भाजपा मिशन-2019 फतह करने के लिए अभी से रणनीति बनाने में जुट गई है इसके लिए पार्टी दिल्ली में इसी माह राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक करके अपनी रणनीति को अंतिम रूप प्रदान करेगी। भाजपा ने अपने मुख्यमंत्रियों की बैठक का आयोजन भी दिल्ली में कराने का फैसला लिया है, जिसमें 14 राज्यों के मुख्यमंत्री बैठक की शोभा बढ़ाएंगे। यानी कार्यकारिणी के सदस्यों सहित केंद्रीय मंत्रिपरिषद और 14 मुख्यमंत्रियों की उपस्थिति की धमक व गूंज दिल्ली से सुदूर राज्यों के छोर तक पहुंचेगी। बताया जा रहा है कि पार्टी अध्यक्ष अमितशाह बैठक के उपरांत हैदराबाद में युवा मोर्चा की बैठक करवाएंगे। दक्षिण का द्वार समझा जाने वाला शहर हैदराबाद से एक नए संकल्प के साथ भाजपा दक्षिण में विस्तार को आयाम देगी। 2019 के चुनावों में तकरीबन दस करोड़ युवा मतदाता लोकतंत्र के इस पर्व से जुड़ेंगे। भाजपा की यूथ विंग को इन युवाओं से संपर्क बनाने का काम में लगाया जाएगा।

भाजपा सूत्रों के मुताबिक शनिवार को कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद पार्टी इसका माकूल जवाब देने के लिए रणनीति बनाने में जुट गई है। पार्टी अध्यक्ष अमितशाह ने दिग्गज नेताओं को आदेश दिए हैं कि वे जल्द अपने-अपने क्षेत्रों में जाएं और लोगों से संपर्क करके उनके विचारों को जानें। जिस तरह राजग सरकार के खिलाफ विपक्षियों के गठबंधन की बातें सामने आ रही हैं, उसे देखते हुए पार्टी आलाकमान इन संभावनाओं को गंभीरता से ले रहा है। बताया जा रहा है कि भाजपा विपक्षियों को सबक सिखाने के लिए अपनी चुनावी रणनीति को अंतिम रूप देने में जुटी हुई है। मोदी सरकार और भाजपा शासित राज्यों में जनहित के कामों को पूरा करने और रणनीति पर विचार करने के लिए इस महीने के अंत तक अपने मुख्यमंत्रियों का सम्मेलन दिल्ली में आहूत करने जा रही है। अभी 14 राज्यों में भाजपा के मुख्यमंत्री हैं और सात उपमुख्यमंत्री। बैठक मे शाह इन मुख्यमंत्रियों को निर्धारित लक्ष्य देंगे। भाजपा के एक बड़े नेता का कहना है कि कार्यकारिणी की होने वाली इस जंबो बैठक में चुनावी मुद्दों पर विमर्श किया जाएगा। जिसमें नोटबंदी, जीएसटी, एनआरसी, जैसे मुद्दों पर नफ ा-नुकसान के बारे में विस्तार से चर्चा की जाएगी। इनमें से किन मुद्दों को प्रचार में शामिल किया जाना है, इस पर फैसला लिया जाएगा। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेता साकेत कुमार ने बताया है कि युवा मोर्चा इस कार्य के लिए लगातार पार्टी अध्यक्ष से मार्गदर्शन प्राप्त कर रहा है। कार्यकारिणी की बैठक के बाद रणनीति साफ हो जाएगी। हम लोग इस बार बड़े लक्ष्य को लेकर बढ़ रहे हैं।

Updated : 2018-08-06T21:41:48+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top