Top
Home > लेखक > नमी युक्त वातावरण में पनपते हैं मच्छर

नमी युक्त वातावरण में पनपते हैं मच्छर

आपके जीवन में सबसे महत्वपूर्ण पशु, चाहे आप कहीं भी हों, मच्छर है। इसलिए आपको इसके बारे में तथ्यों को जानना चाहिए।

नमी युक्त वातावरण में पनपते हैं मच्छर
X

आपके जीवन में सबसे महत्वपूर्ण पशु, चाहे आप कहीं भी हों, मच्छर है। इसलिए आपको इसके बारे में तथ्यों को जानना चाहिए। कल्पनाओं से तथ्य को अलग करने से हम खुद को बेहतर तरीके से बचाने में मदद कर सकते हैं।सभी मच्छर एक जैसे हैं: विभिन्न प्रजातियों के मच्छर एक-दूसरे से भिन्न होते हैं जैसे कि कोई शेर किसी बिल्ली से। उनके अलग-अलग व्यवहार होते हैं, खाने और निवास के संबंध में बहुत अलग-अलग प्राथमिकताएं होती हैं। आपके परिवेश को किस प्रकार के मच्छर पसंद करते हंै, से आपको होने वाली बीमारियों के प्रकार पर भी असर पड़ता है।

सभी मच्छर रोग करते हैं: दुनिया भर में 3,000 से अधिक मच्छर प्रजातियां हैं, लेकिन केवल कुछ सौ ही चिकित्सकीय रूप से महत्वपूर्ण हैं। मच्छर की अधिकांश प्रजातियां मनुष्यों को नहीं काटती - कुछ उभयचर, पक्षियों, घोड़ों और रेपटाइल जैसे अन्य जानवरों को पसंद करती हैं। चिकनगुनिया, डेंगू और येलो फीवर एडीस मच्छरों द्वारा किए जाते हैं। जीका को एडेस अल्बोपिक्टस मच्छर द्वारा फैलाया जाता है। मलेरिया एनोफीलिस जीनस की प्रजातियों द्वारा फैलाया जाता है। सूखे में मच्छर कम होते हैं: जहां मच्छर पानी में पैदा होते हैं, सूखे में रोग सबसे अधिक फैलते हैं। पानी कम हो सकता है लेकिन यह गंदा होता है और इसलिए मच्छरों को आकर्षित करता है। जो हमें प्रभावित करने वाले मच्छर-जनित रोगों के वाहक होते हैं।

नर और मादा दोनों मच्छर मनुष्यों को काटते हैं: केवल मादाएं काटती है क्योंकि उन्हें अपने अंडे देने के लिए हमारे रक्त में मौजूद प्रोटीन की आवश्यकता होती है। नर फूलों के पराग जैसे अन्य स्रोतों का भोजन करते हैं। मच्छर मीठे खून वाले लोगों को पसंद करते हैं: जी, नहीं। मच्छर अधिक रक्त शुगर वाले लोगों की ओर आकर्षित नहीं होते हैं। शोधकर्ताओं ने पाया है कि मच्छरों को कार्बन डाइआॅक्साइड, लैक्टिक एसिड और बैक्टीरिया के कुछ स्ट्रेन अच्छे लगते हैं जो कुछ लोगों में उच्च मात्रा में पाए जाते है। अधिक व्यायाम करने वाले लोगों में पसीने, कार्बन डाइआॅक्साइड और पसीने में पाए जाने वाले एक यौगिक लैक्टिक एसिड के एक घातक संयोजन के कारण मच्छर उनकी ओर अधिक आकर्षक होते हैं। इसका मतलब यह है कि यदि आप दौड़ के बाद बाहर बैठते हैं तो आपको काटे जाने की संभावना अधिक होगी।

मच्छर लोगों के आकार पर ध्यान न देते हुए उन्हें काटते हंै: मच्छर छोटे लोगों की बजाय बड़े लोगों को पसंद करते हैं। वयस्कों को बच्चों से ज्यादा काटा जाता है, और महिलाओं के बजाय पुरुषों को अधिक काटा जाता है। ऐसा शायद इसलिए है कि विशालकाय लोग कार्बन डाइआॅक्साइड और शरीर की गर्मी अधिक मात्रा में निकालते हैं और भोजन के लिए अधिक सतही क्षेत्र प्रदान करते हैं। दलदल के पास रहना खतरनाक है और मच्छरों से छुटकारा पाने के लिए नम भूमियों को सुखाया जाना चाहिए: जहां मच्छर गर्म और दलदल वाली गीली भूमियों में रहते है, इन्हें हटाने का मच्छर की आबादी या मच्छर से पैदा होने वाली बीमारियों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। कई मच्छर मानव प्रवासों में अधिक आरामदायक महसूस करते हैं।

एडीज इजिप्ती मनुष्यों के पास रहते हैं क्योंकि रक्त को ढूंढ़ पाना आसान होता है। मादाएं अपने अंडे थोड़ा पानी रूके हुए कृत्रिम कंटेनरों में देती हैं-गुलदान, टायर, बाल्टी, प्लांटर्स, खिलौने, पक्षियों के नहाने के स्थान, कचरे के खाली डिब्बे, ढक्कन आदि। यही कारण है कि इन प्रकार के कंटेनरों के लिए अपने घर, बगीचे और पड़ोस की जांच करना महत्वपूर्ण हो जाता है। पक्षियों के नहाने के स्थान तथा फव्वारों को सप्ताह में कम-से-कम एक बार खाली करें और ताजा पानी भरें ताकि मच्छर परिपक्व न हो सकें। ठंडे और शुष्क मौसम में मच्छर दूर रहते हैं: शोध से पता चला है कि मच्छर की आबादी में मिट्टी के नमी के स्तरों में बढ़ोत्तरी के साथ वृद्धि होती है - भारी बर्फबारी, बर्फ का पिघलना और बसंत की बारिश, सभी मच्छरों के प्रजनन के लिए पर्याप्त मात्रा में रूका हुआ पानी मुहैया करवाते हैं, यहां तक कि आमतौर पर शुष्क क्षेत्रों में भी।

मच्छर सिट्रोनेला मोमबत्तियों और लिस्टरिन से घृणा करते हैं: दादी का नुस्खा है पानी के एक कटोरे में तरल साबुन की कुछ बूंदे, लिस्टरिन का एक स्प्रे या लौंग से भरा हुआ आधा नींबू मच्छरों को दूर रखेगा, दुर्भाग्य से यह वास्तव में सच नहीं है। सिट्रोनेला मोमबत्तियों का मोमबत्ती के साथ वाले क्षेत्र के बाहर कोई प्रभाव नहीं होता है। इन मोमबत्तियों द्वारा मच्छरों को भगाने का एकमात्र तरीका धुआं उत्पन्न करना है, क्योंकि कीड़ों को धुआं पसंद नहीं होता। किसी भी मोमबत्ती का सिट्रोनेला मोमबत्तियों के समान ही असर होगा। सिट्रोनेला एक कमजोर प्रतिरोधी है लैवेंडर और पुदीना तेल का भी असर होता है, लेकिन बहुत कम।

युकेलिप्टस असरकारक है: सेंटर फॉर डिजीस कंट्रोल एंड प्रिवेंशन द्वारा प्रकाशित शोध से पता चलता है कि नींबू युकेलिप्टस के तेल युक्त उत्पाद, जिनके सक्रिय घटक पैरा-मेन्थेन-डियॉल युकेलिप्टस के पेड़ से प्राप्त होते हैं, असरकारक हो सकते हैं। लेकिन अधिकांश वनस्पति तरीकों की बार-बार पुनरावृत्ति की आवश्यकता होती है - आमतौर पर हर 10 से 20 मिनट में।मच्छर मुख्य रूप से रात में आक्रमण करते हैं: कुलेक्स जैसी कुछ प्रजातियां शाम के बाद हमला करती हैं। एडीज इजिप्ती समेत अन्य, दिन में काटती है। अन्य शाम और सुबह में काटते हैं। मच्छर कुछ रंगों के प्रति आकर्षित नहीं होते: यह विवादास्पद है। कई वैज्ञानिक दावा करते हैं कि रंग से मच्छरों पर कोई फर्क नहीं पड़ता हैं। कुछ अन्य दावा करते हैं कि मच्छर गहरे रंगों के प्रति अधिक आकर्षित होते हैं। मच्छर ऊष्मा के प्रति आकर्षित होते हैं। चूंकि काला रंग अधिक गर्मी सोखता हैं, इसलिए मच्छर उनकी ओर आकर्षित हो सकते है।

क्या मच्छर प्रकाश की ओर आकर्षित होते है?

पतंग, मच्छरों और कई मक्खियों समेत कई उड़ने वाले कीड़े, कृत्रिम रोशनी की चमक से आकर्षित होते हैं। तो, हमारे प्रारंभिक प्रश्न का उत्तर हाँ है। लेकिन अधिकांश रोशनी गर्मी उत्पन्न करती हैं और यह गर्मी है जो मच्छरों को आकर्षित करती है। मच्छर आपसे जितना अधिक रक्त चूंसेगा, निशान उतना ही बड़ा होगा: किसी मच्छर के काटने के निशान का उसके द्वारा खींचे गए रक्त की मात्रा से कोई लेना देना नहीं है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपकी त्वचा में डाली गई मच्छर के लार पर कैसी प्रतिक्रिया देती है। मच्छरों में 47 दांत होते हैं: मच्छरों में दांत होते ही नहीं हैं। उनके पास उनके मुंह से जुड़ी सुई जैसी नली होती है जिसकी 47 तीखे किनारों की नोक होती है जो मच्छर द्वारा आपकी त्वचा में छेद किए जाने और रक्त को चूंसने को आसान बना देता है।

मच्छर काटते समय आप पर पेशाब करते हैं: मच्छरों द्वारा अपने पेट को खून से भरे जाने के बाद उन्हें अपने को उड़ने में सक्षम बनाने के लिए अपने शरीर से कुछ वस्तु को बाहर निकलना होगा। यह मूत्र नहीं है। एनाफीलीस मच्छर एक प्लाज्मा द्रव्य बाहर निकालते हैं। अन्य तरल अपशिष्ट बाहर निकालते हैं। बिजली से चलने वाली अल्ट्रासाउंड तरंग मशीने या अल्ट्रावॉयलेट नीली रोशनी मच्छरों को पकड़ती है: पूरी तरह से झूठ। उनका कोई असर नहीं होता है और यह सिर्फ नकली मार्केटिंग तरीके हैं। सबसे प्रभावी मच्छर रिपेलेंट क्या है? अधिकांश वाणिज्यिक रिपेलेंट में मुख्य कीटरोधी घटक के रूप में डीईईटी या डाइथाइल-मेटा-टॉल्यूअमाइड होता है। डीईईटी उनके एंटीना पर रिसेप्टर्स को अवरुद्ध करके काम करता है जो उन्हें मनुष्यों के पास आने से रोकता है।

रासायनिक रिपेलेंट खतरनाक हैं: मुझे रसायनों के उपयोग के विचार से नफरत है लेकिन यह मच्छरों को दूर रखने में कारगर साबित हुआ है और लोशन या अन्य उत्पादों पर इसके उपयोग के लिए एक सुरक्षा सीमा है। अमेरिकी सेना द्वारा 1946 में विकसित डीईईटी को 1957 में मानव उपयोग हेतु पंजीकृत किया गया था और इसे लेबल निर्देशों के अनुसार लागू किए जाने पर सुरक्षित पाया गया था। इसे कटे हुए भाग, घाव या जलन वाली त्वचा पर न लगाए या सांस के साथ भीतर न लें।एक और कमजोर विकल्प एवन स्किन-सो-सॉफ्ट है। इसके फार्मूले में पिकारिडिन, एक ऐसा रसायन जो काली मिर्च का उत्पादन करने के लिए प्रयुक्त पौधों में पाए गए प्राकृतिक यौगिक जैसा दिखता है, और आईआर 3535 (स्वाभाविक रूप से होने वाली एमिनो एसिड बी-एलानिन के लिए एक रसायन) होता है। लेकिन

इसे हर 20 मिनट या उससे कम पर लगाया जाना होता है। तो क्या हमें उन उत्पादों को खरीदना चाहिए जिनमें सनस्क्रीन और मच्छर रिपेलेंट दोनों हों? जी, नहीं। सनस्क्रीन का उद्देश्य अधिक और बार-बार प्रयोग का होता है जबकि डीईईटी की मंशा कम उपयोग वाली होती है। किसी सनस्क्रीन के साथ डीईईटी को मिलाना दोनों यौगिकों की प्रभावकारिता को कम करता है।

( लेखिका केन्द्रीय मंत्री व पर्यावरण विद् हैं )


Updated : 2018-07-04T19:07:41+05:30

मेनका गांधी

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top