Home > Archived > नदी जोड़ो कार्यक्रम के तहत 16 प्रोजेक्ट की कार्ययोजना का प्रारूप तैयार

नदी जोड़ो कार्यक्रम के तहत 16 प्रोजेक्ट की कार्ययोजना का प्रारूप तैयार

नदी जोड़ो कार्यक्रम के तहत 16 प्रोजेक्ट की कार्ययोजना का प्रारूप तैयार
X

नई दिल्ली । केंद्रीय जल संसाधन, नदी संरक्षण व सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि किसी भी देश में कृषि व उद्योग विकास के दो प्रमुख स्रोत होते हैं| इन दोनों के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण है सिंचाई व्यवस्था। अगर पानी और सिंचाई व्यवस्था सुदृढ़ नहीं होगी तो कृषि और उद्योग दोनों में रूकावट आती है। उन्होंने कहा कि इसको ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय नदी जोड़ो योजना के तहत सरकार ने 30 प्रोजेक्ट का चुनाव किया है जिसमें से 16 का कार्य योजना प्रारूप तैयार हो गया है।

बुधवार को यहां कांस्टीट्यूशन क्लब में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नितिन गडकरी ने कृषि और सिंचाई व्यवस्था को लेकर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि आज देश में सर्वाधिक संकट में किसान है। इसका कारण है कि उसकी फसल का जो अधिकतम मूल्य तय है वह भी उसको नहीं मिल पा रहा। कोई भी फसल हो अधिकतम समर्थन मूल्य से नीचे उसकी कीमत बाजार में है। ऐसे में किसान का जीवन निर्वाह कैसे हो।

गडकरी ने कहा कि किसान के सामने सबसे बड़ी समस्या पानी और फसलों के सिंचाई की है। आज देश के कई राज्य पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, कर्नाटक सरीखे कई राज्य हैं जो पानी की तंगी से जूझ रहे हैं। इनमें से तेलंगाना राज्य में पानी की समस्या के समाधान के लिए सबसे अच्छा काम हो रहा है। आंध्र प्रदेश में भी इस पर लगातार काम हो रहा है।

उन्होंने कहा कि पानी की समस्या बहुत बड़ी नहीं है किंतु इसके समाधान को लेकर सही दिशा में प्रयास की जरूरत है| केंद्र सरकार के साथ ही कई राज्य इस दिशा में गंभीरता से काम कर रहे हैं। जब तक पानी की समस्या का समाधान नहीं होगा तब तक कृषि की समस्या का समाधान नहीं होगा।

Updated : 2018-01-25T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top