Top
Home > Archived > सीबीआई खुलासा : टेंडर के बदले लालू ने 32 करोड़ की जमीन को 65 लाख रुपये में खरीदा

सीबीआई खुलासा : टेंडर के बदले लालू ने 32 करोड़ की जमीन को 65 लाख रुपये में खरीदा

सीबीआई खुलासा : टेंडर के बदले लालू ने 32 करोड़ की जमीन को 65 लाख रुपये में खरीदा
X


नई दिल्ली।
सीबीआई ने होटलों के रखरखाव के लिए टेंडर देने में कथित अनियमितताओं के एक ताजा मामले में शुक्रवार को पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव के परिवार के सदस्यों के आवासों पर छापेमारी की। सीबीआई ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताया कि लालू ने रेल मंत्री रहते हुए कैसे ये घोटाला किया था। सीबीआई ने ये खुलासा भी किया कि कैसे टेंडर के बदले लालू ने 32 करोड़ की जमीन को 65 लाख रुपये में खरीदा।

सीबीआई अधिकारी राकेश अस्थाना ने बताया कि पांच जुलाई को केस दर्ज किया गया था। सीबीआई ने लालू और उनके परिवार समेत आठ लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 420 (धोखाधड़ी), 120 बी (आपराधिक साजिश), 13, 13 (1) (डी) पीसी एक्ट का मामला दर्ज किया गया।

सीबाआई ने बताया कि रेलवे के दो होटल बीएनआर होटल पुरी और रांची के बीएनआर होटल को आईआरसीटीसी को ट्रांसफर किए गए थे। इन होटलों की देखभाल करने और रखरखाव करने के लिए प्राइवेट कंपनी को लीज आउट का फैसला लिया गया। लीज आउट करने के लिए रेलवे ने टेंडर निकाले थे। ये टेंडर सुजाता प्राइवेट लिमिटेड को दिए गए। जांच में पाया गया कि टेंडर देने में गड़बड़ी की गई थी और इस प्राइवेट कंपनी को लाभ दिया गया। सुजाता प्राइवेट लिमिटेड के मालिक विजय कोचर और विनय कोचर है।

सुजाता प्राइवेट लिमिटेड ने दो होटलों के टेंडर मिलने के बाद लालू प्रसाद यादव के नाम पर जमीन दी थी। ये जमीन सीधा लालू प्रसाद यादव को ट्रांसफर नहीं की गई थी। पहले ये जमीन सरला गुप्ता की कंपनी मैसर्स डिलाइट प्राइवेट लिमिटेड को ट्रांसफर की गई। 2010 और 2014 के बीच में जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री नहीं थे तो ये जमीन लालू प्रसाद यादव की कंपनी मैसर्स लारा प्रोजेक्ट एलएलपी को ट्रांसफर की गई।

सीबीआई ने बताया कि 32 करोड़ की जमीन को सिर्फ 65 लाख रुपये में ट्रांसफर की गई थी। इन्हीं गड़बड़ियों के चलते सीबीआई ने शुक्रवार को लालू प्रसाद यादव के 12 ठिकानों पर छापेमारी की है।

Updated : 2017-07-07T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top