Latest News
Home > Archived > मेट्रो चलाने के लिए अब ग्वालियर की बारी

मेट्रो चलाने के लिए अब ग्वालियर की बारी

मेट्रो चलाने के लिए अब ग्वालियर की बारी
X

कम्पनी ने शहर में डाला डेरा, पांच हजार करोड़ होगी प्रोजेक्ट की लागत

*Demo Pic

ग्वालियर। मध्यप्रदेश के भोपाल और इन्दौर महानगरों के बाद अब ग्वालियर महानगर में भी मेट्रो चलाने की योजना पर काम शुरू होने वाला है। इसके लिए एमपी मेट्रो रेल कॉपोरेशन प्रा.लि. कम्पनी ने शहर में डेरा भी डाल लिया है और जल्दी ही सर्वे करने वाली है। पूरे शहर में ट्रांसपोर्ट के लिए विकल्प बनने वाली इस मेट्रो की कुल लागत करीब पांच हजार करोड़ रुपए होगी। देश की कई मेट्रो सिटीज में मेट्रो ट्रेन चलाने की योजना बनाई गई थी। शहरी विकास मंत्रालय ने म.प्र. में बड़े शहरों में मेट्रो चलाने की योजना बनाई है। वहीं प्रदेश के भोपाल और इन्दौर में मेट्रो ट्रेन की डीपीआर तैयार हो गई है और सर्वे भी हो चुका है। अब ग्वालियर की बारी है। इसके लिए कम्पनी जल्दी ही सर्वे शुरू करेगी। शहर में मेट्रो ट्रेन प्रोजेक्ट की लागत करीब पांच हजार करोड़ रुपए आंकी जा रही है। प्रोजेक्ट के लिए वर्ल्ड बैंक से ऋण भी लिया जा सकता है।

दो साल पहले हुई थी घोषणा, सर्वे के लिए घनी आबादी के क्षेत्र

वैसे शहर में मेट्रो ट्रेन शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दो साल पहले घोषणा की थी, लेकिन अब जाकर सर्वे का काम शुरू होने जा रहा है। शहर के घनी आबादी वाले क्षेत्र, सबसे ज्यादा सड़क दुर्घटना वाले प्वॉइंट, व्यस्त चौराहे, मार्ग, पार्किंग, रेलवे लाइन, बस स्टैण्ड, रेलवे स्टेशन के साथ-साथ शासकीय कार्यालयों को लेकर मंथन किया जा रहा है।

तीन चरण में बनेगी मेट्रो

ग्वालियर में मेट्रो ट्रेन को तीन चरणों में बनाया जाएगा। पहले चरण में गोला का मंदिर से रेलवे स्टेशन, अचलेश्वर मंदिर, कंपू से महाराज बाड़ा पहुंचेगी। इसके बाद यह फूलबाग, पड़ाव तक पहुंचेगी। दूसरे चरण में पुरानी छावनी, बरेठा, सिरोल, शिवपुरी लिंक रोड पर जाएगी। तीसरा चरण मे ग्वालियर के आसपास छोटे कस्बों को मेट्रो से जोड़ा जाएगा। मेट्रो ट्रेन के लिए हर 500 मीटर पर स्टॉपेज होंगे। इसके लिए महाराज बाड़े पर एक अंडर ग्राउण्ड स्टेशन बनेगा।

Updated : 2017-07-01T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top