Top
Home > Archived > अमेरिका का एच-1बी वीजा पर सख्ती का असर, इंफोसिस ने की 10 हजार अमेरिकियों को नौकरी देने की घोषणा

अमेरिका का एच-1बी वीजा पर सख्ती का असर, इंफोसिस ने की 10 हजार अमेरिकियों को नौकरी देने की घोषणा

अमेरिका का एच-1बी वीजा पर सख्ती का असर, इंफोसिस ने की 10 हजार अमेरिकियों को नौकरी देने की घोषणा


नई दिल्ली| देश की प्रमुख आईटी कंपनी इंफोसिस ने दिया अमेरिकियों को तौफा दिया है जानकारी के मुताबिक हम आपको बता दे की इंफोसिस ने 10 हजार अमेरिकियों को नौकरी देने की घोषणा की है यह जानकारी इंफोसिस के एक ट्वीट के माध्यम से मिली है| अभी कंपनी के कुल कर्मचारियों की संख्या करीब दो लाख है. इनमें से करीब दो हजार ऐसे लोग है जिन्हे अमेरिका में पिछले कुछ सालों के दौरान नौकरी पर रखा गया है| कंपनी की घोषणा ऐसे समय आई जब अमेरिकी प्रशासन ने आरोप लगाया था कि इंफोसिस और टीसीएस ज्यादा वीजा पाने के लिए लॉटरी सिस्टम में ज्यादा संख्या में आवेदन करते हैं|

गौर करने की बात यह है कि अमेरिकी प्रशासन की ओर से प्रत्येक वर्ष 20 हजार वीजा उन लोगों को दिए जाते हैं जिन्होंने अमेरिका में एडवांस डिग्री हासिल की है और साथ साथ तकनीक में दक्ष करीब 65 हजार लोगों को हर साल अमेरिका एच-1बी वीजा उपलब्ध कराता है लेकिन अभी हाल में अमेरिकी प्रसाशन ने एच-1बी वीजा को लेकर सख्ती की बात कही है वही नैस्कॉम के अनुसार 2014-15 में दोनों कंपनियों को साढ़े सात हजार से ज्यादा वीजा मिला, जो कुल संख्या का करीब 8.8 फीसदी बनता है|

आपको बता दे कि, इंफोसिस ने अमेरिकियों के लिए नई नौकरियां अगले दो सालों में देने का लक्ष्य रखा है इसके लिए चार टेक्नोलॉजी और इनोवेशन हब खोले जाएंगे. इसमें से पहला हब इस साल अगस्त तक इंडियाना में खोला जाएगा, जिसमें 2021 तक अमेरिकियों के लिए करीब दो हजार नौकरी देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.इस बारे में कंपनी के सीईओ विशाल सिक्का ने अमेरिका में अपने ग्राहकों के लिए डिजिटल भविष्य को साकार करने के लिए कंपनी अगले दो सालों में तकनीकी रुप से दक्ष 10 हजार अमेरिकियों को नौकरी देने के लिए कदम उठाएंगी |



Updated : 2017-05-08T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top