Top
Home > Archived > अब ट्रेनों के एसी कोच में भी चूहों का आतंक

अब ट्रेनों के एसी कोच में भी चूहों का आतंक

अब ट्रेनों के एसी कोच में भी चूहों का आतंक

-पंजाब मेल में चूहों ने यात्रियों के बैग काटे, रात भर कोच में करते हैं उछलकूद

-एसी कोचों में भी गर्मी से परेशान हो रहे हैं यात्री, भटिंडा से ग्वालियर तक ठीक नहीं हुआ एसी, यात्री ने मांगा रिफंड
-24 घंटे बाद चूहों और एसी की दर्ज हुई शिकायत
ग्वालियर|
रेलवे व्यवस्था की खामियां रह रहकर उजागर हो रहीं हैं। यहां व्यवस्थाओं की ट्रेन है कि पटरी पर आने का नाम ही नहीं ले रही है। आये दिन यात्रियों को रेलवे की कमियों का खामियाजा भुगतना पड़ता है। अब तो ट्रेनों के एसी कोचों में भी चूहों के हमले से यात्री परेशान हैं। सोमवार को ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर ऐसा ही नजारा देखने को मिला। जहां एक यात्री को अपनी शिकायत दर्ज करवाने के लिए 24 घंटे इंतजार करना पड़ा। लेकिन बाद में यात्री ने रेलवे की शिकायत पुस्तिका में अपनी शिकायत दर्ज करवा दी। यात्रियों ने बताया कि पंजाब मेल के एसी कोचों में चूहों ने रातभर उछलकूद की है। जिसके चलते यात्री सो तक नहीं पाये । वहीं कुछ यात्रियों के तो चूहों ने बैग तक कुतर डाले। यात्री रमाशंकर ने बताया कि उनके बैग को भी चूहों ने नुकसान पहुंचाया है। ट्रेनों के एसी कोच भी चूहों के कहर से सुरक्षित नहीं है। चूहे की वजह से यात्रियों के बैग और कपड़ों के अलावा सबसे ज्यादा खतरा खाद्य सामग्री एवं छोटे बच्चों के लिए पैदा हो गया है। रेल प्रशासन चूहों की इस कारस्तानी से वाकिफ हैं, फिर भी अनजान बना हुआ है।शनिवार की रात्रि को फिरोजपुर से मुंबई जाने वाली पंजाब मेल के एसी सेकेंड श्रेणी के एबी वन कोच का एसी भंटिंडा से ही खराब होने लगा था। यात्री गर्मी के मारे बिलबिलाते हुए भंटिडा से दिल्ली तक पहुंच गए, लेकिन रास्ते में किसी ने सुध नहीं ली। यहां पहुंचने के बाद भी बात नहीं बनी और संबंधित कर्मचारियोंं ने सिर्फ खानापूर्ति की। लोगों ने गर्मी में ही अपनी यात्रा पूरी की।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार की रात्रि को ग्वालियर पंचशील नगर निवासी रमाशंकर सिंह भदौरिया अपनी पत्नी के साथ भंटिंडा से ग्वालियर एसी सेकेंड श्रेणी के एबी वन कोच में यात्रा कर ग्वालियर आ रहे थे। लेकिन ट्रेन जैसे ही भंटिंडा से चली तो कोच का एसी बार-बार बंद होने लगा। जिसके बाद यात्री रमाशंकर ने इस मामले की जानकारी ट्रेन में मौजूद टीटीई को दी। जिस पर टीटीई ने उन्हें आश्वासन दिया कि दिल्ली में एसी ठीक करवा दिया जाएगा। लेकिन ट्रेन जैसे ही आगरा पहुंची तो टीटीई उतर गया व दूसरा टीटीई ट्रेन में सवार हुआ। जिस पर यात्री रमाशंकर ने एक बार फिर टीटीई से एसी ठीक करवाने की बता कही। लेकिन कोच का एसी ठीक नहीं हुआ। ट्रेन रविवार की सुबह साढ़े 10 बजे प्लेटफार्म नंबर 1 पर पहुंची। गर्मी से बेहाल यात्री नीचे उतर गए और एसी ठीक कराने की मांग करने लगे। लेकिन उसके बाद भी एसी ठीक नहीं हुआ तो यात्री रमाशंकर ने ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर डिप्टी एसएस से इस मामले की शिकायत की। लेकिन कुछ नहीं हुआ। सोमवार को रमाशंकर दुबारा ग्वालियर रेलवे स्टेशन पहुंचे व उन्होंने स्टेशन मास्टर के कक्ष में जाकर अपनी पीड़ा बताई, जिसके बाद यात्री रमाशंकर ने रेलवे की शिकायत पुस्तिका में अपनी शिकायत दर्ज कराते हुए रेलवे से रिफंड राशि की मांग की। यात्री ने बताया कि शनिवार की रात से ही कोच का एसी बंद हो रहा था, ठंडक नहीं होने के कारण कोच में घबराहट हो रही थी। रेलवे को पैसे देने के बावजूद भी सुविधाएं नहीं मिल रही हैं।

झेलम का भी एसी फेल, यात्रियों ने की हाथापाई
सोमवार को जम्मू से चलकर पुणे की ओर जा रही झेलम एक्सप्रेस के सेकेंड एसी कोच के एसी ने दिल्ली स्टेशन पर काम करना बंद कर दिया था। जिस पर यात्रियों ने टीटीई से शिकायत भी की, लेकिन कोच में मौजूद यात्रियों की कोई सुनवाई नहीं हुई। जिस पर गुस्साए यात्रियों ने कोच अटेंड के साथ हाथापाई कर दी। मामला बढ़ता देख रेलवे अधिकारी हरकत में आए व यात्रियों को दूसरे एसी में शिफ्ट किया। उधर ग्वालियर स्टेशन पर संपर्क कर सेंकेड एसी कोच की मांग की गई। जिस पर ग्वालियर पर हंगामा न हो, रेलवे अधिकारियों ने कोच को खजुराहो इंटरसिटी से झांसी भेजकर यह कह दिया कि ट्रेन का झांसी में स्टॉपेज काफी देर तक है, इसीलिए कोच को झांसी पहुंचा दिया गया है। जिसके बाद ट्रेन के झांसी पहुंचते ही कोच को झांसी में जोड़ा गया व यात्रियों को शिफ्ट करने के बाद ट्रेन को भोपाल के लिए रवाना किया गया।

भोपाल से पहले दूसरे कोच से किया था कनेक्शन
रविवार को ट्रेन का एसी कोच फेल होने से यात्रियों ने ट्रेन के अंदर जमकर हंगामा किया था। लेकिन उसके बाद भी कोच का एसी चालू नहीं हुआ। मामला जब ज्यादा बढ़ा तो तकनीकी विभाग ने दूसरे कोच से तार जोड़कर एसी चालू किया, लेकिन भोपाल से पहले ही तार जलकर खराब हो गया। जिसके बाद यात्रियों ने भोपाल रेलवे स्टेशन पर जमकर हंगामा किया था।

आगरा में भी की थी शिकायत
यात्री रमाशंकर ने कोच में एसी के काम न करने की शिकायत आगरा में भी की थी। लेकिन आगरा के डिप्टी एसएस सोमवार को यात्री से ही उल्टे सवाल करने लगे। सूत्रों की मानें तो आगरा के डिप्टी एसएस टीटीई को बचाने का प्रयास कर रहे थे। जबकि हकीकत में कोच में समस्या थी।

Updated : 2017-05-23T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top