Latest News
Home > Archived > भरतपुर हादसे में मथुरा के एक दंपत्ति सहित चार की मौत

भरतपुर हादसे में मथुरा के एक दंपत्ति सहित चार की मौत

मथुरा। राजस्थान के भरतपुर में बुधवार रात आंधी के चलते से एक शादी समारोह के दौरान मैरिज होम की दीवार गिरने से 24 लोगों की मौत हो गई जबकि 25 से ज्यादा जख्मी हो गए। मृतकों में आठ महिलाएं, पांच बच्चे और 12 पुरुष शामिल हैं। इस वीभत्स हादसे में मथुरा के भी चार लोग मारे गए हैं, जिनमें एक दंपत्ति शामिल है।

मिली जानकारी के अनुसार भरतपुर में किरोड़ीलाल सैनी की बेटी अंजू की शादी थी। बरात जयपुर से आई थी। रात में करीब 10 बजे अचानक तेज आंधी के साथ बारिश आई। इस दौरान खाने की स्टॉल से लगी दीवार गिर गयी। इससे खाना खा रहे लोग दब गए। दीवार के सामने की तरफ एक टिन शेड लगा हुआ था, वह भी उखड़ गया। दीवार और टिनशेड गिरने से करीब 50-60 लोग दब गए। शादी से पहले गोद भराई की रस्म चल रही थी। ज्यादातर बाराती गोद भराई की रस्म देख रहे थे। इस कारण बारातियों के ज्यादा चोट नहीं आई है।

चश्मदीद सचिन ओझा ने बताया कि मैं स्टॉल पर चाट बना रहा था। आंधी चलने लगी। लोग धूल-अंधड़ से बचने के लिए टीन शेड और कमरों में घुस गए। लोग दीवार के सहारे एक-दूसरों को सपोर्ट देते हुए खड़े हो गए। मैं भी उस तरफ जाने वाला था कि टिन शेड भरभरा कर उखड़ गया। दीवार भी ढह गई। इसके बाद मेरे पैर में जोर से कोई चीज टकराई और मुझे चक्कर आ गया।

हादसे में मारे गए लोगों में मथुरा के मालीपुरा निवासी अशोक सैनी पुत्र भगवान दास, नगला हेमराज निवासी गीता देवी पत्नी विनोद व गीता का पति विनोद शामिल है। इसके अलावा सेवर निवासी 14 वर्षीय गोडी पुत्र निर्भर धोबी, सेवर निवासी 17 वर्षीय किशन पुत्र राजवीर गुर्जर भरतपुर के जघीना गेट निवासी 18 वर्षीय आकाश पुत्र श्रीराम सैनी, 13 वर्षीय कुमर पुत्र दुलीचंद, 23 वर्षीय जघीना गेट निवासी 23 वर्षीय रवि शर्मा पुत्र प्रभु दयाल शर्मा राजवीर गुर्जर का बेटा, गुर्जर आरएसी में तैनात है।

विक्रम सिंह पुत्र बृजभान, अजय सिंह पुत्र हीरा सिंह, मथुरा के राल निवासी मदन सिंह पुत्र लाल सिंह, सेवर निवासी राजकुमारी पत्नी गिर्राज, भोजराज, मालीपुरा निवासी अन्न पत्नी जवाहर सिंह, मालीपुरा निवासी प्रिंस पुत्र जवाहर सिंह जयपुर निवासी बद्रीलाल सैनी, पैंगोर राघवेंद्र पुत्र गंभीर सिंह। हादसे बाद से गांव में शोक की लहर है। पूरे गांव में मातम पसरा हुआ है। आज गांव में चूल्हे भी नहीं जले।

Updated : 2017-05-12T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top