Latest News
Home > Archived > भक्तामर के मंत्रों से हो सकता है गंभीर बीमारियों का उपचार

भक्तामर के मंत्रों से हो सकता है गंभीर बीमारियों का उपचार

भक्तामर के मंत्रों से हो सकता है गंभीर बीमारियों का उपचार
X

एक हजार से अधिक लोगों ने लिया लाभ

ग्वालियर। प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की स्तुति में आचार्य मानतुंगाचार्य द्वारा रचित भक्तामर काव्य में श्लोकों में चमत्कारिक शक्ति है। ये श्लोक न केवल गंभीर बीमारियों से रोगी को मुक्त कर देते हैं, बल्कि अन्य परेशानियां भी दूर हो जाती हैं। यह बात भक्तामर काव्य पर पीएचडी कर शोध कर चुकी नागपुर की डॉ. मंजू जैन ने शनिवार को महावीर भवन कंपू में जैन समाज द्वारा आयोजित सेमीनार में कही। डॉ. मंजू जैन ने बताया कि स्वस्थ व्यक्ति को भी कोई डॉक्टर जांच कर दवाएं देने लगे तो वह व्यक्ति बीमार हो जाता है, क्योंकि उसे आशंका हो जाती है।

इसलिए मुश्किल से मिलने वाले शरीर का हमें ध्यान रखना चाहिए। इस दौरान उन्होंने अपने शोध का पॉवर प्रजेंटेशन देते हुए बताया कि उनके रिसर्च को कई देशों ने स्वीकार किया है कि आने वाले दिनों में वह बर्लिन में भक्तामर की महिमा और इसके परिणामों का प्रदर्शन करेंगी।

45 वां श्लोक चमत्कारिक:- डॉ. मंजू जैन ने बताया कि भक्तामर का 45 वां श्लोक गंभीर और असाध्य रोगों से मुक्ति में कारगर साबित हुआ है। इसके विधिपूर्वक जाप से कैंसर, बे्रन ट्यूमर जैसी बीमारियां ठीक हो जाती हैं। नागपुर के अस्पताल में उन्होंने कैंसर के 20 मरीजों पर इसका रिसर्च किया, जिनको चिकित्सक जवाब दे चुके थे। उनमें से 15 अपने पैरों पर चलकर घर गए। उनमें एक भी जैन नहीं था।

मेरा मकसद पीड़ितों की सेवा:- उन्होंने बताया कि कई लोग भक्तामर श्लोकों से बिना सर्जरी के रोग मुक्त हो रहे हैं। यही कारण है कि इससे जुड़ने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

बच्चों के मानसिक विकास में सहायक
इस मौके पर नागपुर से ही आई डॉ. अनीता आगरकर ने ध्यान के माध्यम से आत्मा की शुद्धि कराई और बताया कि श्लोक नंबर छह बच्चों के मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक विकास में बेहद कारगर साबित हुआ है। उन्होंने बताया कि बारहखड़ी का उच्चारण कराने से बच्चों को स्पीच थैरेपी की जरूरत नहीं पड़ती। भक्तामर के श्लोक पढ़ाने से उच्चारण साफ हो जाता है। बच्चों के लिए 1 से 10 नंबर तक के श्लोक लाभकारी हैं। उन्होंने बताया कि वह ब्रेन ट्यूमर पर श्लोक द्वारा उपचार पर शोध कर रही हैं।

यह रहे उपस्थित
इस कार्यक्रम में अपर परिवहन आयुक्त (प्रशासन) आर.के. जैन, चेंबर के मानसेवी सचिव डॉ. प्रवीण अग्रवाल, संयुक्त सचिव जगदीश मित्तल, कोषाध्यक्ष गोकुल बंसल, पारस जैन, अनिल शाह, समीक्षा जैन एवं ललित अग्रवाल सहित एक हजार से अधिक महिला-पुरुष उपस्थित थे।

Updated : 2017-04-02T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top