Home > Archived > पॉलिथीन के उपयोग पर प्रतिबंध पर्यावरण संरक्षण में मील का पत्थर साबित होगा

पॉलिथीन के उपयोग पर प्रतिबंध पर्यावरण संरक्षण में मील का पत्थर साबित होगा

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष विजेश लुणावत ने अगले माह से प्रदेश में पॉलिथीन के उपयोग पर लगाए गए प्रतिबंध को सही दिशा में उठाया गया कदम बताते हुए राज्य सरकार को बधाई दी है। लंबे समय से पॉलिथीनके उपयोग के दुष्परिणाम सामने आ रहे थे।

उन्होंने कहा कि जहां पॉलिथीनके गैर मानक उपयोग से पर्यावरण प्रदूषित हो रहा था। वहीं, इंसान और पशु गौवंश के जीवन पर भी पॉलिथीन के घातक प्रभाव सामने आ रहे थे। पॉलिथीन का उत्पादन यहां एक कुटीर उद्योग की शक्ल भी ले चुका था। राज्य सरकार ने सोच समझकर इसको प्रतिबंधित करने के पहले चेतावनी जारी कर दी थी कि रोक के पहले इसके उपयोग को क्रमशः बंद करने की मानसिकता बना ली जाए। इस लिहाज से पाॅलिथिन पर लगाया गया प्रतिबंध जनहित में सरकार का विवेकपूर्ण फैसला है। लुणावत ने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य से जुड़ी पॉलिथीन के प्राणघातक प्रभाव सर्वविदित है। हजारों पशुओं, गायों की मौत का कारण भी पॉलिथीन रहा है। घटिया किस्म के पॉलिथीन में वस्तुओं, द्रव पदार्थो को रखा जाना उदर रोग ही नही कैंसर तक का कारण बनता है।

चिकित्सा विशेषज्ञों और भेषजों का मत है कि पॉलिथीन मीठा जहर है जो प्राणघातक होता है। ऐसे में पॉलिथीनका कानून के आधार पर बंद किया जाना भर पर्याप्त नहीं है, इसके लिए जनता को स्वयं मानसिक रूप से तैयार होना पड़ेगा। कुछ सेवाभावी संस्थाएं इस मामले में अपनी अग्रणी भूमिका कपड़े के सस्ते, सामान्य थैले निशुल्क वितरित कर रही है। इस मुहिम की जरूरत महसूस कर अन्य सेवाभावी संस्थाओं को आगे आना लोकहित में होगा।

Updated : 2017-04-11T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top