Latest News
Home > Archived > भारतीय नववर्ष के स्वागत की तैयारी शुरू

भारतीय नववर्ष के स्वागत की तैयारी शुरू

नववर्ष मेला समिति का हुआ नवगठन
जुबली पार्क में दो दिन रहेगी नववर्ष मेला की धूम

मथुरा। नववर्ष मेला समिति ने नववर्ष चौत्र शुक्ल प्रतिपदा नवसंवतसर विक्रमी संवत् 2074 के स्वागत की तैयारियां शुरू कर दी हैं। प्रचार प्रभारी यतेन्द्र सिसौदिया व सहयोगी किशोर इसरानी ने बताया कि पूर्व वर्षों की भांति नववर्ष मेला समिति द्वारा 26 व 27 मार्च को विकास मार्केट के पास डाँ. हेडगेवार पार्क (जुबली पार्क) में नववर्ष मेला का आयोजन किया जा रहा है।

इस वर्ष भी इस मेला समिति का गठन संघ के महानगर सह संघचालक लक्ष्मी नारायण एवं प्रान्त शारीरिक प्रमुख प्रदीप श्रीवास्तव जी के सानिध्य में हुआ। नववर्ष मेला समिति का संरक्षक सुरेश चंद अग्रवाल व सुभाष चतुर्वेदी को तथा अध्यक्ष जय प्रकश शर्मा व महामंत्री राजीव कृष्ण को बनाया गया। मेला समिति के उपाध्यक्ष के रूप में कमलेश अरोरा, घनश्याम लोधी, डा. सीएल डुल्लू, डा. शैलेन्द्र प्रताप सिंह तथा मंत्री के रूप में योगेश आवा, अजय शर्मा, डा. दीपा अग्रवाल, आचार्य ब्रजेन्द्र नागर घोषित किए गये। कोषाध्यक्ष के रूप में प्रदीप अग्रवाल, सह कोषाध्यक्ष बलदेव प्रसाद अग्रवाल को बनाया गया। मेला समिति का प्रचार प्रमुख यतेन्द्र सिंह सिसौदिया, सह प्रचार प्रमुख रामदास चतुर्वेदी को बनाया गया हैं, जबकि न्यूज कवरेज हेतु किशोर इसरानी भी सहयोग करेंगे।

मेले में होने वाली विभिन्न प्रतियोगिताओं के लिए प्रतियोगिता प्रमुख हरवीर सिंह, सह प्रमुख विशाल रूहेला, सुरेश चंद वर्मा, शशांक तिवारी व कार्यालय प्रमुख श्यामपाल सिंह को बनाया गया हैं। मेला समिति के कार्यकारिणी सदस्य के रूप मे प्रदीप श्रीवास्तव, डा. अजय शर्मा, कैलाश चंद अग्रवाल, जयपाल सिंह सिसौदिया, डा. मालती मिश्रा, ब्रजेन्द्र पोइया, डा. राम सेवक, सरोज जुनेजा, ब्रजनंदन सिंह, सुनील कुमार, ब्रजेश अग्रवाल, मयंक कक्कड़, नानक चंद, ललिता गुप्ता, देवी प्रसाद चतुर्वेदी, डा. विद्योत्मा सिंह, अन्नपूर्णा, वंदना शर्मा, मीरा मित्तल एवं सनत कुमार शर्मा को बनाया गया।

प्रचार प्रभारी यतेन्द्र सिसौदिया व सहयोगी किशोर इसरानी ने बताया कि पूर्व वर्षों की भांति दो दिवसीय नववर्ष मेला में कवि सम्मेलन व मेहंदी, रंगोली, रूप सज्जा, लोकगीत, लोकनृत्य, भाषण व सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता के विविध कार्यक्रमों के साथ झूले, व्यंजनों व प्रेरक साहित्य के स्टाल एवं प्रदर्शनी मुख्य आकर्षक होंगे।

Updated : 2017-03-19T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top