Top
Home > Archived > हाईवे पर आसान नहीं सुरक्षित सफर

हाईवे पर आसान नहीं सुरक्षित सफर

वाटर वक्र्स से रुनकता तक हैं गड्ढे ही गड्ढे
आए दिन हो रहे हादसे, राहगीर हो रहे घायल

आगरा| मथुरा-आगरा हाइवे पर अब सुरक्षित सफर करना आसान नहीं है। वाटर वक्र्स से रुनकता तक सडक़ चटकने और गिट्टियां उखडऩे से मार्ग में दरार पड़ गई हैं, जिसके कारण रोड पर कई हादसे हो चुके हैं और आए दिन मोटरसाइकिलें सवार गिट्टियों से फिसलकर घायल हो रहे हैं। रुनकता समेत कई स्थानों पर हाईवे पर गिट्टियां निकलने से नालियां बन गई हैं। पिछले दो वषरें से इस रोड की हालत जर्जर बनी हुई है। कई जिलों और प्रदेशों को जोडऩे वाला यह हाईवे आज इलाज को तरस रहा है।

आगरा- मथुरा हाईवे पर रोजाना हजारों वाहन निकलते हैं, जिनको इस रोड पर सफर करने में काफी परेशानी होती है, लेकिन राष्ट्रीय राजमार्ग विकास प्राधिकरण इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। टोल के नाम पर हर रोज मोटी कमाई बटोरने वाले टोल ने अब हाईवे पर ध्यान देना बंद कर दिया है। तभी तो महुअन पर आगरा की ओर वाले मार्ग पर टोल पर ही सडक़ जर्जर और ध्वस्त हो चुकी है, पर वहां कोई ध्यान नहीं दे रहा।इस रोड की हालत इतनी जर्जर है, कि आए दिन हादसे होते रहते हैं। कई जगह तो यह मार्ग बेहद खराब है। दो पहिया वाहन चालक फिसलकर इस मार्ग पर चुटैल हो जाते हैं। कहने को तो ये हाइवे है, लेकिन इसकी हालत आम सडक़ से भी अधिक खराब है। शुक्रवार को सिकंदरा मंडी से पहले खोदे जा रहे नाले की मिट्टी से बचने के चक्कर में ट्रक एचआर 38 क्यू 6957 के अगले पहिए हाईवे में बनी दरारों में उलझ गए।

चालक के प्रयास के बाद भी दोनों पहिए उलझने से टूट गए और डीजल का टैंक निकलकर फट गया। हाईवे में अरतौनी, सिकंदरा और रुनकता के पास दरार पड़ गई हैं। गहरी दरारों में वाहनों के टायर फंस रहे हैं, तो वाहनों को नुकसान हो रहा है। आए दिन हाईवे पर खराब वाहन बीच में खड़े देखे जा सकते हैं। दरारों की वजह से मोटरसाइकिल सवार भी खतरे में सफर कर रहे हैं। सडक़ पर गिट्टियों के पड़े होने से मोटरसाइकिल सवार फिसलकर घायल हो रहे हैं।

Updated : 2017-02-25T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top