Home > Archived > प्रमुख ट्रेनों के यात्रियों को अब हर घंटे मैसेज

प्रमुख ट्रेनों के यात्रियों को अब हर घंटे मैसेज

प्रमुख ट्रेनों के यात्रियों को अब हर घंटे मैसेज
X

नई दिल्ली। रेलवे ने प्रमुख ट्रेनों के यात्रियों के लिए हर घंटे ट्रेन अलर्ट की सुविधा शुरू की है। इसके तहत राजधानी, शताब्दी, तेजस और गतिमान जैसी प्रमुुख ट्रेनों के यात्रियों को एसएमएस के जरिए ट्रेन के स्टेशन पहुंचने की सूचना चार घंटे पहले से लेकर आखिरी घंटे तक दी जा रही है। इस सेवा को 3 दिसंबर से 102 प्रमुख ट्रेनों में प्रारंभ किया गया था और 7 दिसंबर तक 23 जोड़ा राजधानी, 26 जोड़ा शताब्दी तथा एक-एक जोड़ा तेजस और गतिमान ट्रेनों के यात्रियों को कुल मिलाकर 33,08,632 एसएमएस भेजे जा चुके थे। रेलवे अधिकारियों के अनुसार इस सेवा का मकसद प्लेटफार्मों पर प्रमुख ट्रेनों के यात्रियों को स्टेशन की भीड़ तथा गैरजरूरी इंतजार से बचाना है। इसके लिए यात्रियों से कोई शुल्क नहीं लिया जा रहा है। आगे चलकर अन्य ट्रेनों में भी इस सेवा का विस्तार किया जाएगा।

जनवरी से ट्रेनों में लगेंगे बायो वैक्यूम टॉयलेट

दुनिया के सबसे बड़े रेल नेटवर्क भारतीय रेल के बदबूदार और ढंग से काम नहीं करने वाले शौचालय जल्द ही बीते जमाने की बात हो जाएगी। भारतीय रेल अब अपने बायो-टॉयलेट को आयातित बायो-वैक्यूम टॉयलेट में अपग्रेड कर रहा है। यह टॉयलेट वैसा ही है, जैसा हवाई जहाजों में होता है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी और कहा कि शुरू में राजधानी और शताब्दी जैसी महत्वपूर्ण रेलगाड़ियों के 100 डिब्बों में यह टॉयलेट लगाए जाएंगे। इसके लगाने की प्रक्रिया अगले साल जनवरी से शुरू होगी। उन्होंने बताया, 'ये बॉयो-वैक्यूम टॉयलेट दुर्गंधरहित होंगे और इससे पानी का इस्तेमाल बीस गुना तक कम हो जाएगा।

टॉयलेट जाम से मिलेगा छुटकारा अधिकारी ने यह भी कहा कि चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) में बॉयो-वैक्यूम टॉयलेट लगाकर 100 डिब्बे बनाए जाएंगे, जिन्हें राजधानी और शताब्दी जैसे प्रीमियम ट्रेनों के साथ जोड़ा जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि इस प्रकार के टॉयलेट के जाम होने की संभावना भी कम होगी। रेलवे द्वारा वर्तमान बॉयो-टॉयलेट को अपग्रेड करने की पहल यात्रियों द्वारा लगातार टॉयलेट के जाम होने की शिकायतों के मद्देनजर शुरू की गई है। वर्तमान में रेल डिब्बों में लगे बॉयो-टॉयलेट के प्लास्टिक बोतल, कागज व अन्य चीजें फेंकने से जाम होने की शिकायतें मिल रही हैं।

रनिंग स्टेटस में भी सुधार : ट्रेन रनिंग स्टेटस प्रणाली में खामियों की शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए रेलवे ने 'इसरो' की मदद से इसमें सुधार का निर्णय लिया है। इसके तहत अब ट्रेन के किसी स्टेशन पर पहुंचने की सटीक जानकारी ट्रेन रनिंग स्टेटस पर मिलेगी। इसके लिए प्रणाली में डेटा फीडिंग को मैन्युअल के बजाय आटोमैटिक करने के इंतजाम किए जा रहे हैं।

Updated : 2017-12-11T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top