Top
Home > Archived > कठिन काल में दुर्गा बन जाती है मातृशक्ति : बाबा योगेन्द्र जी

कठिन काल में दुर्गा बन जाती है मातृशक्ति : बाबा योगेन्द्र जी

कठिन काल में दुर्गा बन जाती है मातृशक्ति : बाबा योगेन्द्र जी

-वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई के जन्मदिवस पर हुए कई आयोजन
ग्वालियर। आज हम एक ऐसी मातृशक्ति का स्मरण करने के लिए एकत्रित हैं जो कठिनकाल में शक्ति दुर्गा का रूप धारण करती है। अंग्रेजों से टक्कर लेना आसान काम नहीं था। कालपी में राजे-महाराजे, पेशवाओं को साहस देने वाली वीरांगना संघर्ष करते हुए अपना शरीर छोड़ गई।

यह बात रानी झांसी लक्ष्मीबाई की जयंती के अवसर पर संस्कार भारती द्वारा आयोजित वीरांगनाओं के सम्मान समारोह कार्यक्रम में संस्कार भारती के संरक्षक एवं पितृपुरुष बाबा योगेन्द्र जी ने संबोधित करते हुए कही। उन्होंने वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई की शौर्यगाथा पर कवियत्री सुभद्रा कुमारी चौहान द्वारा रचित ‘खूब लड़ी मर्दानी’ की प्रस्तुतियां एवं प्रतियोगिता आयोजित करने का सुझाव भी आयोजकों को दिया।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि राजा मानसिंह संगीत एवं कला विश्वविद्यालय की कुलपति श्रीमती लवली शर्मा ने कहा कि वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई का सम्पूर्ण जीवन राष्ट्र को समर्पित रहा। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए म.प्र. राज्य महिला आयोग की सदस्य श्रीमती प्रमिला वाजपेयी ने कहा कि इतिहास साक्षी है कि बिना संघर्ष कुछ प्राप्त नहीं होता, अथक परिश्रम के बाद बहिनों को कुछ प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि हम वीरांगना का स्मरण कर रहे हैं जिससे हमें उनसे साहस, आत्मशक्ति और राष्ट्र व समाज की रक्षा की प्रेरणा मिल सके। पूर्व महापौर श्रीमती समीक्षा गुप्ता ने कहा कि रानी झांसी लक्ष्मीबाई की शौर्यगाथा से कोई अपरिचित नहीं है। कार्यक्रम का आरंभ अतिथियों द्वारा माँ सरस्वती की प्रतिमा पर दीप प्रज्जवलित एवं माल्यार्पण कर किया गया। राजा मानसिंह संगीत एवं कला विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं, रविन्द्रनाथ मण्डल, अशोक श्रीवास्तव व उनकी टीम ने मनोहारी भजनों की प्रस्तुतियां दीं। कार्यक्रम में नन्हीं बालिका मंत्रिता शर्मा ने मंच पर रानी लक्ष्मीबाई की वेशभूषा में वीरांगना की युद्ध गर्जना को ओजस्वी ढंग से प्रस्तुत किया। इस दौरान अतिथियों ने अपने क्षेत्र में विशिष्ट उपलब्धियां प्राप्त करने वाली तथा राष्टÑ के लिए सर्वस्व समर्पित करने वाली पांच वीरांगनाओं का शॉल-श्रीफल, प्रशस्ति पत्र एवं तलवार भेंट कर सम्मान किया। कार्यक्रम में सिद्धी सूरी और इशिता चतुर्वेदी ने नृत्य की प्रस्तुतियां दीं। कार्यक्रम की संक्षिप्त जानकारी श्रीमती नीलम जगदीश गुप्ता ने प्रस्तुत की। अंत में प्रस्तुति देने वाले कलाकारों का सम्मान भी किया गया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. विनीता जैन एवं आभार प्रदर्शन कार्यक्रम संयोजिका श्रीमती संध्या मोहन त्रिपाठी ने किया। कार्यक्रम में संस्था के अध्यक्ष राधा किशन खेतान ने भी अपने विचार रखे। कार्यक्रम में वरिष्ठ साहित्यकार जगदीश तोमर, कमलाराजा कन्या महाविद्यालय की जनभागीदारी समिति अध्यक्ष श्रीमती हेमलता बुधौलिया, संस्था के सचिव प्रदीप शर्मा सहित संस्कार भारती एवं विभिन्न सामाजिक संस्थाओं से जुड़े विशिष्टजन, गणमान्य नागरिक कार्यक्रम में उपस्थित रहे।

महिला मोर्चा ने वीरांगना को अर्पित की पुष्पांजलि

वीरांगना रानी झांसी लक्ष्मीबाई की जयंती के अवसर पर भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा ने वीरांगना के समाधि स्थल पर पहुंचकर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर महिला मोर्चा ने विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों में विशिष्ट एवं उल्लेखनीय कार्य करने वाली 11 महिलाओं का शॉल-श्रीफल भेंट कर सम्मान किया।

इस अवसर पर डॉ अन्नपूर्णा भदौरिया एवं डॉ राजरानी ने रानी लक्ष्मीबाई के जीवन पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष देवेश शर्मा , महिला मोर्चा अध्यक्ष खुशबू गुप्ता, महामंत्री शरद गौतम, कमल माखीजानी, महेश उमरैया, रेशू राजावत, मीरा दीक्षित आदि कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी उपस्थित रहीं।

11 महिलाओं का हुआ सम्मान

वीरांगना रानी झांसी लक्ष्मीबाई की जयंती के अवसर पर डॉ अन्नपूर्णा भदौरिया, डॉ राजरानी शर्मा, मेजर आशा माथुर, डॉ लक्ष्मी गर्ग, मुक्ता सिकरवार, दीपा वर्मा, डॉ स्वेच्छा दंडोतिया, डॉ ज्योति सिकरवार, रश्मि राठौर, सुमित्रा देवनाथ एवं विनीता वाजपेयी का सम्मान किया गया।
शहरवासियों ने किया वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई को नमन
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई की जयंती के अवसर पर रविवार को सभापति राकेश माहौर ने वीरांगना की समाधि स्थल पर पंहुचकर पुष्पांजलि अर्पित की तथा सभी शहरवासियों से वीरांगना के जीवन से प्रेरणा लेने की अपील की। इस अवसर पर पूर्व मंत्री ध्यानेन्द्र सिंह, भाजपा जिलाध्यक्ष श्री देवेश शर्मा, मेयर इन काउंसिल की सदस्य खुशबू गुप्ता, समाजसेवी कमल माखीजानी, हरीश मेवाफरोश, सुमन शर्मा सहित बड़ी संख्या में क्षेत्रीय नागरिकगण उपस्थित रहे।

महिला पत्ांजलि ने मनाई वीरांगना की जयंती

महिला पतंञ्जलि की ग्वालियर इकाई ने स्वामी रामदेव महाराज के संकल्प अनुरूप रविवार को वीरांगना रानी झांसी लक्ष्मीबाई की जयंती के अवसर पर वीरांगना के समाधि स्थल पर पहुँच कर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किए। इस अवसर पर देश भक्ति गीतों की प्रस्तुति दी गई। पतंञ्जलि की म. प्र. की अध्यक्षा सुमन अग्रवाल ने बेटियों की सुरक्षा, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वाभिमान, राष्टÑ प्रेम के प्रति संकल्प दिलाया। इस अवसर पर पतंञ्जलि की जिला अध्यक्ष वी. के. सिंह, सदस्य गायत्री शर्मा , महिला अध्यक्ष अर्चना सेंगर , मंत्री नेहा पटेल , महामंत्री विभा यादव , सदस्य उमा सिंह, अरुणा, सुनीता सहगल, कीर्ति सहगल इत्यादि उपस्थित रहे।
श्री गंगादास की बड़ी शाला में भी मना वीरांगना का जन्मदिन:- वीरांगना लक्ष्मीबाई ने अपने प्राणों की आहुति देकर इस देश की आजादी का मार्ग प्रशस्त किया था। देश उनके बलिदान को भुला नहीं सकता। इसी प्रकार रानी की पार्थिवदेह की रक्षा में सिद्धपीठ श्री गंगादास की बड़ी शाला के 745 संतों ने जो बलिदान किया था उसे भुलाया नहीं जा सकता। उक्त उदगार बड़ी शाला के सभागार में वीरांगना लक्ष्मीबाई को श्रद्धासुमन अर्पित कर वक्ताओं ने व्यक्त किए। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि महंत विष्णुदास रोकडिया सरकार थे एवं अध्यक्षता बड़ी शाला के महंत रामसेवक दास ने की।

एमएलबी में मनाया मातृशक्ति शौर्य दिवस

महारानी लक्ष्मीबाई शासकीय उत्कृष्ट महाविद्यालय ग्वालियर परिवार एवं जनभागीदारी समिति के तत्वाधान में संस्कार भारती के सहयोग से महाविद्यालय में वीरांगना झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के जन्म दिवस के अवसर पर मातृशक्ति शौर्य दिवस का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें रविवार को अखिल भारतीय वीर रस कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में संरक्षक संस्कार भारती योगेंद्र बाबा एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में विधायकगण नारायण सिंह कुशवाह, घनश्याम पिरोनिया विधायक और जीवाजी विवि के पूर्व कुलसचिव धीरेन्द्र सिंह चंदेल उपस्थित थे। इस अवसर पर वीरांगनाओं का सम्मान भी किया गया। कार्यक्रम कें अंत में महारानी लक्ष्मीबाई की प्रतिमा के समक्ष एक हजार दीपकों का दान किया गया।

इन वीरांगनाओं का हुआ सम्मान

संस्कार भारती द्वारा आयोजित वीरांगना सम्मान समारोह में पत्रकार अनुपमासिंह सिकरवार, विवेकानन्द कन्या कुमारी की समर्पित कार्यकर्ता सुश्री रचना दीदी, बालिका शिक्षा के लिए समर्पित उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य श्रीमती सुमन चतुर्वेदी, शिक्षा क्षेत्र में डॉ. सुश्री सुविज्ञा अवस्थी एवं केरल में पति और पुत्र को कुर्बान कर देने वाली वामपंथियों के खिलाफ आवाज उठाने वालीं वीरांगना नारायणी देवी को सम्मानित किया गया। नारायण देवी को संस्था की ओर से 51 हजार रुपए की सहयोग राशि भी भेंट की गई।

कांग्रेसियों ने दी वीरांगना को पुष्पांजलि

वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई की जयंती पर रविवार को शहर जिला कांग्रेस नेताओं ने समाधि स्थल पहुंचकर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर अपने संबोधन में पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल ने कहा कि भारत को अंग्रेजी हुकूमत से मुक्ति दिलाने के लिए क्रांति का श्रीगणेश रानी लक्ष्मीबाई ने किया था। उनका बलिदान भारत के इतिहास में अजर-अमर रहेगा। कार्यक्रम में रामवरन सिंह गुर्जर, अशोक शर्मा, लतीफ खां मल्लू, कृष्णराव दीक्षित, आनंद शर्मा, चतुर्भुज धनेलिया, राम सुंदर सिंह रामू, कौशलेन्द्र घुरैया एवं गीता गुप्ता आदि उपस्थित थे।

Updated : 2017-11-20T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top