Latest News
Home > Archived > भारतीय संस्कृति आज भी वनांचल में सुरक्षित: दीपक विष्पुते

भारतीय संस्कृति आज भी वनांचल में सुरक्षित: दीपक विष्पुते

भारतीय संस्कृति आज भी वनांचल में सुरक्षित: दीपक विष्पुते
X

18 फरवरी को श्योपुर में आयोजित होने वाले विशाल हिन्दू सम्मेलन की तैयारियोंं को लेकर कार्यकर्ता बैठक का हुआ आयोजन

* हिंदू सम्मेलन की आयोजन समिति की भी हुई घोषणा
* जिले में कई नए आयाम स्थापित करेगा हिंदू सम्मेलन

श्योपुर ब्यूरो। वनवासियों में सुधार के लिए हम सबको संवदेनाएं जाग्रत करनी होंगी, क्योंकि सच्चा भारत आज भी गांव व वनांचल क्षेत्र में ही निवास करता है। वन क्षेत्र के निवासियों की गरीबी, भूख, अशिक्षा एवं अभाव को दूर किए बिना राष्ट्र को संबल व सुरक्षित नहीं बनाया जा सकता है। वनवासियों की शक्ति सामर्म्थ को समझने की आवश्यकता है। भगवान राम ने अन्याय, अत्याचार व आतताइयों के अंत के लिए वनवासियों का सहयोग लिया था। समाज में राष्ट्रप्रेम का भाव जगाने और वनवासियों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए आयोजित होने वाला यह हिन्दू सम्मेलन, जिले के विकास के लिए भी कई नए आयाम स्थापित करेगा। यह बात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मध्य क्षेत्र के सह क्षेत्र प्रचारक श्री दीपक विष्पुते ने कही। वे रविवार को यहां श्री हजारेश्वर उद्यान में 18 फरवरी को आयोजित होने वाले विशाल विराट हिन्दू सम्मेलन की तैयारी के लिये कार्यकर्ता बैठक को मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित कर रहे थे। इस कार्यक्रम में नगर सहित जिले के गांवों के सभी समाजों के लोग बड़ी संख्या में आए। कार्यक्रम का शुभारंभ भारत माता के चित्र के समक्ष विधिवत दीप प्रज्वलन के साथ हुआ। कार्यक्रम में सह क्षेत्र प्रचारक श्री विष्पुते ने कहा कि देश में जहां आज भी 23 प्रतिशत लोग साक्षर नहीं है। वहीं कई लोग ऐसे भी है,जिनको आज भी दो समय का भरपेट भोजन नहीं मिल पाता है। कुपोषण के लिए जहां श्योपुर जिला बदनाम है। वहीं आतंकवाद सहित अन्य कई समस्याएं भी देश में विद्यमान है। जिनका समाधान इसलिए नहीं हो रहा है,क्योंकि हमने हर काम सरकार पर छोड़ दिया है। यदि समाज का हर व्यक्ति इन समस्याओं के निदान की सोचे और कार्य करे तो निश्चित रूप से यह समस्याएं न सिर्फ खत्म होंगी,बल्कि हमारा राष्ट्र भी संगठित होकर सशक्त बनेगा। उन्होंने देश के ऐसे कई महापुरुषों का उदाहरण भी दिया,जिनके द्वारा अपना खुद का पूरा जीवन समाज की बुराईयों को दूर करने में खफा दिया। उन्होंने समाज के संगठन के इस पुनीत कार्य में सभी लोगों से जुटने का आह्वान किया।

संतगण भी रहे मंचासीन

कार्यक्रम के दौरान मंच पर संत श्री रामदास जी महाराज, परमानंद जी महाराज, राजूदास जी महाराज सहित अन्य गणमान्य नागरिक भी उपस्थित रहे।

बाबूलाल अध्यक्ष तो सर्राफ बने कोषाध्यक्ष

18 फरवरी को स्टेडियम में आयोजित होने वाले विशाल हिंदू सम्मेलन की इस तैयारी बैठक में आयोजन समिति की घोषणा भी की गई। बाबूलाल जाटव को जहां समिति का अध्यक्ष बनाया गया है। वहीं नरेन्द्र मीणा को संयोजक, सत्यनारायण मित्तल को सह संयोजक, गिर्राज सर्राफ को कोषाध्यक्ष, दुर्गाप्रसाद शिवपुरी वालों को सह कोषाध्यक्ष को बनाया गया है। जबकि ओमप्रकाश टकसाली, माधुरी अंधारे, अनिता सिकरवार, रामकिशन आदिवासी, मनोहर सुमन, एससी मीणा, डॉ अनुराग त्रिवेदी को उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई। वहीं तैयारी बैठक में जिलेभर से आए लोगों को अलग-अलग जिम्मेदारियां भी सौंपी गई।

हिन्दू सम्मेलन को लेकर आयोजित बैठक को सम्बोधित करते राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मध्य क्षेत्र के सह क्षेत्र प्रचारक दीपक विष्पुते व उपस्थित महिला-पुरूष।

Updated : 2017-10-30T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top