Home > Archived > पार्टी कौन तोड़ रहा है मुझे मालूम पर टूटने नहीं देंगे: मुलायम

पार्टी कौन तोड़ रहा है मुझे मालूम पर टूटने नहीं देंगे: मुलायम

पार्टी कौन तोड़ रहा है मुझे मालूम पर टूटने नहीं देंगे: मुलायम
X


लखनऊ |
उत्तर प्रदेश के ‘समाजवादी परिवार’ में जारी घमासान के बीच सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने बुधवार को रामगोपाल यादव पर जमकर निशाना साधा और पार्टी की एकजुटता पर जोर दिया। समाजवादी पार्टी में दो फाड़ के बाद एकजुटता के प्रयासों की कड़ी में मुलायम ने बुधवार को कहा कि वह पार्टी को एकजुट रखना चाहते हैं और इसे टूटने नहीं देंगे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वह साइकिल को रखना चाहते हैं। मुलायम सिंह यादव ने बुधवार को लखनऊ में पार्टी दफ्तर में कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। इस दौरान मुलायम के साथ शिवपाल यादव भी मौजूद रहे।

मुलायम ने यहां सपा के प्रदेश मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि कार्यकर्ताओं और जनता पर पूरा भरोसा है कि पार्टी को टूटने नहीं देंगे। समाजवादी पार्टी का ना तो नाम बदलेंगे और ना ही चिह्न बदलेंगे। हम पार्टी को एक रखना चाहते हैं और साइकिल भी रखना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव मुख्यमंत्री हैं और अगले मुख्यमंत्री भी होंगे, यह भी (मुलायम ने) घोषित कर दिया है। साथ ही अखिलेश से कहा कि आप ऐसे लोगों के पास क्यों जा रहे हो, जिन्होंने फंसाया है। किसी विवाद में मत पड़ना। हम किसी भी कीमत पर पार्टी की एकता चाहते हैं। मुलायम ने कार्यकर्ताओं से कहा कि आप हमारा सहयोग करें और समर्थन करें। यही वायदा कर दें कि आप हमारे साथ रहेंगे और पार्टी को बचाएंगे। हम पार्टी को बचाना चाहते हैं और यही कहना चाहते हैं कि हमारी सपा और हमारी साइकिल बची रहे।

मुलायम ने कार्यकर्ताओं से कहा कि समाजवादी पार्टी की एकता में कोई रुकावट नहीं बन सकता है। समाजवादी पार्टी को तोड़ने में कौन शख्‍स जुटा है, इस बात की जानकारी मुझे है। पार्टी का कौन शख्‍स दूसरे दल के नेताओं से मिल रहा है, ये भी मुझे मालूम है। रामगोपाल यादव अलग पार्टी बना रहे हैं। रामगोपाल पिछले कुछ दिनों में तीन बार दूसरी पार्टी के अध्‍यक्षों से मिले हैं। रामगोपाल तो अब बीजेपी के पास चले गए। मैंने अखिलेश से कहा कि तुम रामगोपाल के चक्‍कर में क्‍यों पड़े हो। सपा संस्‍थापक ने यह भी कहा कि पार्टी के संबंध में मैंने किसी दूसरे दल के नेता से बात नहीं की। मैं सिर्फ शादी-ब्‍याह में दूसरे नेताओं के घर जाता हूं।

बता दें कि सपा में जारी घमासान के बीच मंगलवार को दिखी ‘मुलायमियत’ के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और चुनाव आयोग में अपने मुकाबिल खड़े अपने पिता सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव से मुलाकात की लेकिन संकट दूर होने की कोई स्थिति फिर नहीं बन सकी। सपा के अगले मुख्यमंत्री पद के लिये मुलायम की ओर से कल यूटर्न लिये जाने के बाद उनकी अखिलेश के साथ करीब 90 मिनट तक बैठक हुई। अखिलेश अपने पिता के बुलावे पर घर से सटे उनके घर पहुंचे। इस बैठक को सपा में सुलह-समझौते के लिये बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा था, लेकिन सूत्रों के मुताबिक दोनों के बीच बात नहीं बन सकी।



Updated : 2017-01-11T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top